वैश्विक परिप्रेक्ष्य मानव कहानियां

ताप लहरों के कारण वायु गुणवत्ता में चिन्ताजनक गिरावट - WMO

जून 2023 की शुरुआत में, तेज़ हवाओं के कारण कैनेडा के जंगलों की आग का भारी धुआँ, न्यूयॉर्क शहर में छा गया था.
UN News
जून 2023 की शुरुआत में, तेज़ हवाओं के कारण कैनेडा के जंगलों की आग का भारी धुआँ, न्यूयॉर्क शहर में छा गया था.

ताप लहरों के कारण वायु गुणवत्ता में चिन्ताजनक गिरावट - WMO

जलवायु और पर्यावरण

विश्व मौसम विज्ञान संगठन (WMO) ने बुधवार को एक नई रिपोर्ट में आगाह किया है कि जलवायु परिवर्तन के कारण ताप लहरों की गहनता व आवृत्ति बढ़ रही है. जंगलों में आग लगने की घटनाओं और रेगिस्तानी धूल के फैलने से ये ताप लहरें और गम्भीर रूप धारण कर रही हैं, जिससे वायु गुणवत्ता में तेज़ गिरावट दर्ज की जा रही है और मानव स्वास्थ्य व पर्यावरण पर भी असर हो रहा है.

योरोपीय संघ की जलवायु सेवा के अनुसार, उत्तरी गोलार्द्ध में तापमान वृद्धि की वजह से इस वर्ष रिकॉर्ड स्तर पर गर्मी पड़ी है. इस विश्लेषण के मद्देनज़र, संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने बुधवार को अपना एक वक्तव्य जारी किया.

ग़ौरतलब है कि यह पहली बार है जब अगस्त का महीना इतना गर्म साबित हुआ है, और इसी वर्ष जुलाई के बाद अब तक का दूसरा सर्वाधिक गर्म महीना है. विश्लेषण के अनुसार, जून के साथ, ये तीन महीने रिकॉर्ड पर सर्वाधिक गर्म अवधि के रूप में दर्ज किए गए हैं. 

Tweet URL

2023, रिकॉर्ड गर्मी के मामले में, 2016 से पीछे दूसरे स्थान पर है. 

अत्यधिक गर्म दिन 

संयुक्त राष्ट्र महासचिव, एंतोनियो गुटेरेश ने "जलवायु व्यवधान" की चेतावनी देते हुए कहा, "हमारे ग्रह ने अभी-अभी झुलसा देने वाला मौसम झेला है - रिकॉर्ड पर दर्ज सर्वाधिक गर्मी का मौसम."

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख ने मानवता की जीवाश्म ईंधन की लत के नतीज़ों का उल्लेख करते हुए कहा, "गर्मी के दिन केवल परेशान नहीं कर रहे हैं, वे अब काटने लगे हैं."

जलवायु संकट से दुनिया भर में चरम मौसम की घटनाएँ बढ़ती जा रही हैं. ऐसे में, संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने नेताओं से "जलवायु समाधान के लिए तुरन्त प्रयास तेज़ करने" का आहवान किया.

तापलहरों के कारक

विश्व मौसम विज्ञान संगठन ने बुधवार को 2023 WMO वायु गुणवत्ता और जलवायु बुलेटिन जारी किया, जिसमें ताप लहरों से होने वाली क्षति पर प्रकाश डाला गया है.

बुलेटिन में कहा गया है कि उच्च तापमान न केवल अपने आप में एक ख़तरा है, बल्कि इससे हानिकारक प्रदूषण में भी वृद्धि होती है. 2022 के आँकड़ों के आधार पर, रिपोर्ट में बताया गया है कि पिछले साल ताप लहरों के कारण किस तरह वायु गुणवत्ता में ख़तरनाक गिरावट देखी गई.

यूएन मौसम विज्ञान एजेंसी के महासचिव पेटेरी टालस ने रिपोर्ट के निष्कर्षों पर टिप्पणी करते हुए कहा, "ताप लहरों से, वायु की गुणवत्ता में गिरावट आती है, जिसका फिर मानव स्वास्थ्य, पारिस्थितिकी तंत्र, कृषि एवं हमारे रोज़मर्रा के जीवन पर  असर होता है." 

उन्होंने कहा कि इस दुष्चक्र को तोड़ने के लिए, जलवायु परिवर्तन व वायु गुणवत्ता के मुद्दे से एक साथ निपटना आवश्यक है. जलवायु परिवर्तन से ताप लहरों की आवृत्ति और तीव्रता बढ़ रही है.

वैश्विक वायुमंडल निगरानी नैटवर्क में, WMO वैज्ञानिक लोरेंजो लैब्राडोर ने बताया कि जंगल की आग के धुएँ में रसायनों का मिश्रण होता है जो न केवल हवा की गुणवत्ता व स्वास्थ्य को प्रभावित करता है, बल्कि पौधों, पारिस्थितिक तंत्र और फ़सलों को भी नुकसान पहुँचाता है. 

साथ ही, अत्यधिक कार्बन उत्सर्जन के कारण, वातावरण में अधिक ग्रीनहाउस गैस उत्पन्न करता है." पिछली गर्मियों में ताप लहरों के कारण, हानिकारक कणों व नाइट्रोजन ऑक्साइड जैसी प्रतिक्रियाशील गैसों जैसे प्रदूषकों की सघनता में वृद्धि हुई थी.

योरोप में, सैकड़ों वायु गुणवत्ता निगरानी स्थलों ने, आठ घंटे के सम्पर्क के दौरान, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के ओज़ोन वायु गुणवत्ता दिशानिर्देश स्तर 100 μg m-3 से अधिक का स्तर दर्ज किया.

 

वृक्षारोपण की आवश्यकता

जब गर्मी की बात आती है, तो शहरवासियों को आमतौर पर सबसे गहन परिस्थितियों का सामना करना पड़ता है.

घने बुनियादी ढाँचे और अनगिनत ऊँची इमारतों की वजह से, शहरी क्षेत्रों में तापमान, ग्रामीण इलाक़ों के मुक़ाबले कहीं अधिक होता है.इस प्रभाव को आमतौर पर "शहरी ताप द्वीप" (urban heat island) बनाना कहा जाता है. तापमान अन्तर का परिमाण अलग-अलग हो सकता है, लेकिन रात में तापमान का यह अन्तर 9°C तक हो सकता है.

परिणामस्वरूप, जो लोग शहरों में रहकर काम करते हैं, वे रात में भी गहन गर्मी का तनाव अनुभव करते हैं.

हालाँकि, इसका एक समाधान मौजूद है. ब्राज़ील के साओ पाउलो शहर में हुए एक अध्ययन से पता चला है कि शहरों के भीतर अधिक हरित स्थलों का निर्माण करने से, तापमान और CO2, दोनों का माप आंशिक रूप से कम किया जा सकता है, जो जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए प्रकृति-आधारित समाधानों की ओर इशारा करता है.

WMO ने यह रिपोर्ट, 7 सितम्बर को मनाए जाने वाले ‘नीले आकाश के लिये स्वच्छ वायु के अन्तरराष्ट्रीय दिवस’ की पूर्व संध्या पर यह रिपोर्ट जारी की है. इस वर्ष की थीम है, ‘स्वच्छ वायु के लिए एकजुट’, जो वायु प्रदूषण पर क़ाबू पाने के लिए मज़बूत साझेदारी, निवेश बढ़ाने और साझा ज़िम्मेदारी की आवश्यकता को रेखांकित करता है.