वैश्विक परिप्रेक्ष्य मानव कहानियां

यूक्रेन: रूसी हमलों की विशाल लहर की निन्दा, हिंसा का अन्त किए जाने की अपील

यूक्रेन में जारी युद्ध से बड़े पैमाने पर नागरिक प्रतिष्ठानों व बुनियादी ढाँचे को नुक़सान पहुँचा है.
© WFP/Anastasiia Honcharuk
यूक्रेन में जारी युद्ध से बड़े पैमाने पर नागरिक प्रतिष्ठानों व बुनियादी ढाँचे को नुक़सान पहुँचा है.

यूक्रेन: रूसी हमलों की विशाल लहर की निन्दा, हिंसा का अन्त किए जाने की अपील

शान्ति और सुरक्षा

यूक्रेन में मानवीय राहत मामलों के लिए संयुक्त राष्ट्र समन्वयक ने क्षोभ प्रकट करते हुए कहा है कि पिछले 24 घंटों में देश के कम से कम 10 क्षेत्रों में रूसी हमलों से जान-माल की भीषण हानि हुई है.

यूएन अधिकारी डेनिज़ ब्राउन ने बुधवार को जारी अपने एक वक्तव्य में रूसी हमलों की इस लहर की निन्दा की है और हिंसा पर तत्काल विराम लगाए जाने की पुकार लगाई है. 

उन्होंने कहा कि अनाज भंडारण केन्द्र यूक्रेनी किसानों और वैश्विक खाद्य सुरक्षा के लिए बेहद अहम हैं, और डेन्यूब क्षेत्र में उन्हें निशाना बनाया गया.

Tweet URL

“सूमी क्षेत्र में एक स्कूल क्षतिग्रस्त हुआ है और शिक्षक मारे गए हैं और कुछ ज़ख़्मी हुए हैं.”

अन्तरराष्ट्रीय मीडिया ने यूक्रेन के गृह मंत्री के हवाले से बताया कि देश के रोमनी शहर में एक रूसी ड्रोन विमान बुधवार सुबह स्कूल की इमारत से टकराया.

इस घटना में स्कूल निदेशक, उपनिदेशक, सचिव व एक लाइब्रेरियन की मौत हुई है और वहाँ से गुज़र रहे चार लोग घायल हुए हैं.

डेनिज़ ब्राउन ने बताया कि मंगलवार को ख़ेरसॉन क्षेत्र में आम लोगों को कई घंटे तक निरन्तर हमलों को झेलना पड़ा, जिनमें एक अस्पताल को क्षति पहुँची है. 

इन हमलों की वजह से मानवीय सहायता संगठनों को राहत प्रयासों को रोकने के लिए मजबूर होना पड़ा. मानवीय राहत समन्वयक ने कहा कि आम नागरिकों पर हमले की यह बर्बर प्रवृत्ति चिन्ताजनक है. इसे रोका जाना होगा और अन्तरराष्ट्रीय मानवतावादी क़ानूनों का सम्मान करना होगा.

बुनियादी ढाँचे पर हमले

 डेन्यूब क्षेत्र में बीती रात हुए इन हमलों में एक अनाज भंडारण केन्द्र क्षतिग्रस्त हुआ है और एक अन्य परिसर को भी नुक़सान पहुँचा है. 

यूक्रेन में यूएन मानवाधिकार निगरानी मिशन के अनुसार, 11 जुलाई के बाद से अब तक, रूस ने यूक्रेन में अनाज भंडारण केंद्रों, प्रशासनिक इमारतों औद्योगिक उपकरणों और बुनियादी ढाँचे पर 14 हमले किए हैं.

इन हमलों के कारण यूक्रेन से वैश्विक खाद्य आपूर्ति के लिए व्यवस्था में व्यवधान दर्ज किया गया है. 

यूएन कार्यालय ने सचेत किया है कि ऐसे हमले बार-बार किए जाने के गम्भीर दुष्परिणाम हो सकते हैं. अब तक चार आम लोगों की मौत हुई है और 43 लोग घायल हुए हैं. 

खाद्य क़ीमतों पर असर

इससे पहले, संयुक्त राष्ट्र ने आगाह किया था कि यूक्रेनी बन्दरगाहों पर रूसी हमलों से वैश्विक खाद्य क़ीमतों पर असर हो रहा है. अनाज और उर्वरक निर्यात के लिए काला सागर पहल पर रूस, यूक्रेन, तुर्कीये और यूएन में जुलाई 2022 में सहमति बनी थी, मगर उसके समाप्त हो जाने के बाद चिन्ता गहरा रही है.

रूस ने जुलाई महीने में इस महत्वपूर्ण समझौते से पीछे हटने की बात कही थी, जिसके ज़रिये पिछले एक साल में खाद्य क़ीमतों में कमी लाने में अहम योगदान मिला.

काला सागर पहल से, यूक्रेन के तीन चिन्हित बन्दरगाहों से तीन करोड़ 20 लाख टन अनाज को रवाना किया गया. 

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने इस्ताम्बूल में इस समझौते को एक ऐतिहासिक समझौता क़रार देते हुए, आशा व सम्भावना का पुंज बताया था. राहत का पुंज जिसकी दुनिया को पहले से कहीं अधिक आवश्यकता है.