वैश्विक परिप्रेक्ष्य मानव कहानियां
पुलिस लैफ़्टिनेंट कर्नल, अमोनरत वाथनाखोसिट, उत्तरी थाईलैंड में पुलिस कैडेटों को प्रशिक्षित करती हैं.

थाईलैंड: मादक पदार्थों की तस्करी से लड़ने का 'जुनून'

UN News/Daniel Dickinson
पुलिस लैफ़्टिनेंट कर्नल, अमोनरत वाथनाखोसिट, उत्तरी थाईलैंड में पुलिस कैडेटों को प्रशिक्षित करती हैं.

थाईलैंड: मादक पदार्थों की तस्करी से लड़ने का 'जुनून'

क़ानून और अपराध रोकथाम

थाईलैंड की एक पुलिस प्रशिक्षक ने यूएन न्यूज़ को बताया कि प्रशिक्षु पुलिस अधिकारियों को, अपने देश व दक्षिणपूर्व एशिया में नशीली दवाओं एवं अन्य प्रतिबन्धित पदार्थों की अवैध तस्करी से निपटने के तौर-तरीक़े सिखाना उनकी "प्रेरणाजुनून और ताक़त” है.

प्रशिक्षु पुलिस अधिकारियों का समूह, थाईलैंड समेत पूरे क्षेत्र के क़ानून प्रवर्तन विशेषज्ञों के एक नेटवर्क का हिस्सा है, जो सीमा-पार सहयोग के ज़रिए, अन्तरराष्ट्रीय अपराध सिंडिकेट की तस्करी पर लगाम कसने की कोशिश कर रहा है.

मादक पदार्थ व अपराध नियंत्रण पर केन्द्रित संयुक्त राष्ट्र एजेंसी (UNODC) द्वारा समर्थित यह सीमा-पार सहयोग, सीमा सम्पर्क कार्यालय (BLO) नेटवर्क के तहत किया जाता है.

लैफ़्टिनेंट कर्नल, अमोनरत वाथनाखोसिट, उत्तरी थाईलैंड में स्थित थाई पुलिस प्रशिक्षण केन्द्र के क्षेत्र 5 में तैनात हैं.

“वर्तमान में मैं थाईलैंड के सुदूर उत्तर में थाई-म्याँमार सीमा से लगभग 40 किलोमीटर दक्षिण में राजमार्ग 1 पर एक पुलिस चौकी पर प्रशिक्षण का काम कर रही हूँ. यहाँ, सीमा के दोनों तरफ़, निजी एवं वाणिज्यिक वाहनों के अलावा सार्वजनिक परिवहन की आवाजाही निरन्तर जारी रहती है.”

इस चैक प्वाइंट पर, म्याँमार से उत्तर में थाईलैंड और वहाँ से क्षेत्र के अन्य देशों में, मेथेमफ़ेटामीन जैसी नशीली दवाओं की तस्करी को रोकने की कोशिश की जाती है. एक तरह से यह कार्य, हमारे देश को ड्रग्स के ख़तरे से बचाता है. 

यह सक्रिय साझेदारी वाला काम है. छात्र एक-एक कर वाहनों को रोककर तलाशी ले रहे हैं. वे किसी तकनीक का उपयोग नहीं कर रहे हैं, बल्कि केवल तस्करी के अपने ज्ञान व अपने समुदायों की सेवा एवं सुरक्षा के प्रति अपनी प्रतिबद्धता का इस्तेमाल कर रहे हैं.

उत्तरी थाईलैंड में एक सड़क पर सुरक्षा जाँच करते हुए पुलिस अधिकारी.
UN News/Daniel Dickinson

तस्करों पर नज़र

वे संदिग्ध ड्राइवरों को चुनते हैं और उनके बर्ताव का आकलन करके निर्णय लेते हैं कि क्या उनके पास ड्रग्स छुपी हो सकती हैं. धीरे-धीरे ये प्रशिक्षु अधिकारी, इस काम में कौशल हासिल करके, कामकाज में अधिक प्रवीण होते जा रहे हैं और ड्रग्स की रोकथाम के लिए अन्य क़ानून प्रवर्तन एजेंसियों का समर्थन करने में सक्षम हो रहे हैं. हाल ही में, हमें मेथैम्फ़ेटेमाइन की गोलियाँ ज़ब्त करने में भारी सफलता प्राप्त हुई है.

यदि ड्राइवरों द्वारा मादक पदार्थों के सेवन का सन्देह होता है, तो मूत्र का नमूना उपलब्ध कराने के बाद उनका परीक्षण भी यहाँ सम्भव है.

UNODC  द्वारा समर्थित यह प्रशिक्षण कार्यक्रम, प्रशिक्षुओं को संदिग्ध वाहनों और अन्य असामान्य गतिविधियों का पता लगाने के लिए उपयोगी कौशल प्रदान करता है.

यह प्रशिक्षण बहुत सफल रहा है, और मुझे लगता है कि भविष्य में हम पड़ोसी देश म्याँमार और लाओस के अधिकारियों को भी प्रशिक्षित कर सकते हैं. मुझे लगता है कि इस प्रकार के सीमा पार सहयोग से नशीली दवाओं के निर्माण एवं तस्करी की रोकथाम के लिए संयुक्त अभियान चलाने में मदद मिलेगी.

क़ानून प्रवर्तन एजेंसियाँ, सड़क किनारे स्थापित सुविधाओं में नशीली दवाओं के सेवन करने के सन्देह वाले व्यक्तियों का परीक्षण कर सकती हैं.
UN News/Daniel Dickinson

मेथेमफ़ेटामीन का अत्यधिक उत्पादन

हमारे सामने मौजूद सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक है, मेथेमफ़ेटामीन के अत्यधिक उत्पादन का मुक़ाबला करने के लिए, इन चौकियों पर पर्याप्त अधिकारियों की तैनाती करना. इन अधिकारियों के ऊपर अन्य ज़िम्मेदारियाँ व उत्तरदायित्व भी होते हैं, इसलिए वो अपना सारा समय नशीली दवाओं की निगरानी में ख़र्च नहीं कर सकते हैं.

मैं जिस प्रशिक्षण कार्य से जुड़ी हूँ, वह मेरी प्रेरणा, जुनून और ताक़त है. मुझे यह कठिन नहीं लगता. मैं नारकोटिक्स कंट्रोल बोर्ड और यूएनओडीसी कार्यालय से लगातार मिल रहे समर्थन के लिए आभारी हूँ.

मेरा बेटा 18 साल का है और विश्वविद्यालय का छात्र है. उसे मैं अपने काम के तहत मिलने वाले बुरे लोगों और मादक पदार्थों के ख़तरे के बारे में बताती हूँ कि वे कैसे व्यक्तियों व समाज का नाश कर सकते हैं. वह जानता है कि मेरा काम मादक पदार्थों की रोकथाम की कोशिश करना है.”

एक पुलिस अधिकारी, थाईलैंड के उत्तर से आ रही एक बस में यात्रियों से पूछताछ कर रहा है.
UN News/Daniel Dickinson

सीमा सम्पर्क कार्यालयों (बीएलओ) से जुड़े कुछ अहम तथ्य

  • पूरे दक्षिण पूर्व एशिया में लगभग 120 बीएलओ स्थापित किए गए हैं.
  • बीएलओ जोड़े में स्थापित होते हैं - यानि अन्तरराष्ट्रीय सीमा के दोनों ओर.
  • बीएलओ के ज़रिए, नशीली दवाओं और अग्रगामी रासायनिकों की तस्करी, प्रवासियों की तस्करी, मानव तस्करी, वन्य जीवन व वानिकी अपराध, और कई स्थानों पर, आतंकवादी लड़ाकों की आवाजाही समेत, सार्वजनिक स्वास्थ्य एवं महामारी सम्बन्धित असंख्य सीमा पार मुद्दों से निपटा जाता है.
  • बीएलओ नेटवर्क, क़ानून प्रवर्तन और सीमावर्ती समुदायों, समुदायों में पुलिस प्रयासों एवं क़ानून प्रवर्तन एजेंसियों में महिलाओं की भूमिका व नेतृत्व बढ़ाने की दिशा में काम करता है.