वैश्विक परिप्रेक्ष्य मानव कहानियां

'हेट स्पीच': पूर्वाग्रह की सोच के चक्र को तोड़ना होगा

मानवाधिकार विशेषज्ञों का मानना है कि ऑनलाइन व ऑफ़लाइन, बढ़ती नफ़रत, लोकतंत्र व मानवाधिकारों के लिये ख़तरा है.
Unsplash/Dan Edge
मानवाधिकार विशेषज्ञों का मानना है कि ऑनलाइन व ऑफ़लाइन, बढ़ती नफ़रत, लोकतंत्र व मानवाधिकारों के लिये ख़तरा है.

'हेट स्पीच': पूर्वाग्रह की सोच के चक्र को तोड़ना होगा

मानवाधिकार

कोई भी समाज "हेट स्पीच" के नुक़सान से सुरक्षित नहीं है. नफ़रत भरी बोली, हिंसा को भड़काती है और समुदायों पर इसका विनाशकारी प्रभाव पड़ता है. जब कोई जनसंहार होता है तो जिन लोगों को निशाना बनाया जाता है, वो आम लोग ही होते हैं. जनसंहार की रोकथाम पर संयुक्त राष्ट्र की विशेष सलाहकार एलिस वैरीमु नेदेरितु का कहना है कि हमें एपने बच्चों को समझाना होगा और पूर्वाग्रह से ग्रसित सोच वाले सामाजिकरण के चक्र को, शिक्षा और ज्ञान के ज़रिए,  विभिन्न जातीय, नस्लीय, धार्मिक समुदायों में मित्र बनाकर, रोकना होगा. (वीडियो)