यमन: ‘युद्ध में अब तक 11 हज़ार से ज़्यादा बच्चे हताहत’

यमन के एक युद्ध प्रभावित इलाक़े में, एक बच्चा अपने क्षतिग्रस्त घर से बाहर की तरफ़ देखता हुआ.
© UNOCHA/Giles Clarke
यमन के एक युद्ध प्रभावित इलाक़े में, एक बच्चा अपने क्षतिग्रस्त घर से बाहर की तरफ़ देखता हुआ.

यमन: ‘युद्ध में अब तक 11 हज़ार से ज़्यादा बच्चे हताहत’

मानवीय सहायता

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष – यूनीसेफ़ ने कहा है कि यमन में वर्ष 2015 में युद्ध भड़कने के बाद से, 11 हज़ार से ज़्यादा लड़के व लड़कियाँ हताहत हुए हैं, और ये संख्या हर दिन औसतन चार के बराबर है, और इससे कहीं अधिक होने की सम्भावना है.

यूनीसेफ़ की कार्यकारी निदेशिका कैथरीन रसैल ने हाल ही में यमन का दौरा किया है, जिसके बाद उन्होंने देश की सरकार और हूथी विद्रोहियों के दरम्यान युद्ध विराम समझौते को, फिर से लागू किये जाने का आहवान किया है.

Tweet URL

ये ऐतिहासिक युद्ध विराम समझौता शुरू में अप्रैल 2022 में लागू हुआ था, जिसके बाद संघर्ष की सघनता में ख़ासी कमी देखी गई है.

यूनीसेफ़ ने कहा है कि अलबत्ता, ये युद्ध विराम समझौता, अक्टूबर के अन्त में ख़त्म हो गया था और तब से लेकर 30 नवम्बर तक की अवधि में 62 अतिरिक्त बच्चे हताहत हुए हैं.

जीवित रहने के लिये संघर्ष

उनसे अलग, जुलाई व सितम्बर की अवधि में, बारूदी सुरंगों या अनफटे विस्फोटकों की चपेट में आने के कारण, 164 लोग मारे गए जिनमें कम से कम 74 बच्चे थे.

कैथरीन रसैल ने अदन शहर में एक अस्पताल का दौरा किया जहाँ उनकी मुलाक़ात सात महीने की आयु के एक बच्चे – यासीन और उसकी माँ सबा के साथ हुई, जिनके लिये उनकी ज़िन्दगी, जीवित रहने के लिए संघर्ष बन गई है.

उन्होंने कहा, “हज़ारों बच्चों की ज़िन्दगियाँ ख़त्म हो गई हैं, लाखों अन्य बच्चे ऐसी बीमारियों व भुखमरी से मौत होने के जोखिम का सामना कर रहे हैं जिनकी रोकथाम सम्भव है.”

बाल जीवन ख़तरे में

कैथरीन रसैल ने इस यात्रा के दौरान बच्चों के लिये यूनीसेफ़ की 10.3 अरब डॉलर की मानवीय कार्रवाई अपील जारी की है जिसके माध्यम से दुनिया भर में संघर्षों व आपदाओं से प्रभावित बच्चों को पानी, स्वच्छता, पोषण, शिक्षा, स्वास्थ्य और सुरक्षा सेवाएँ मुहैया कराई जाएंगी.

यमन अब भी ऐसा देश बना हुआ है जहाँ दुनिया भर में सबसे ज़्यादा तात्कालिक मानवीय सहायता परिस्थितियाँ मौजूद हैं. देश की लगभग तीन चौथाई आबादी, यानि लगभग दो करोड़ 34 लाख लोगों को, सहायता व सुरक्षा की तत्काल आवश्यकता है. इनमें आधी संख्या बच्चों की है.

यूनीसेफ़ का अनुमान है कि लगभग 22 लाख बच्चे गम्भीर रूप से कुपोषित हैं, जिनमें पाँच वर्ष से कम आयु के क़रीब पाँच लाख, 40 हज़ार बच्चे भी हैं, जो अत्यन्त गम्भीर कुपोषण से जूझ रहे हैं.

यमन के एक करोड़ 78 लाख से ज़्यादा लोगों को सुरक्षित पानी, स्वच्छता और साफ़-सफ़ाई सेवाएँ उपलब्ध नहीं हैं, जबकि देश की स्वास्थ्य व्यवस्था वर्षों के दौरान बहुत ही कमज़ोर हो चुकी है.

यमन के ताइज़ शहर में, कुछ महिलाएँ अपने बच्चों को, यूएन खाद्य सहायता एजेंसी (WFP) समर्थित एक क्लीनिक में दिखाने के लिए एकत्रित.
© WFP/Albaraa Mansour
यमन के ताइज़ शहर में, कुछ महिलाएँ अपने बच्चों को, यूएन खाद्य सहायता एजेंसी (WFP) समर्थित एक क्लीनिक में दिखाने के लिए एकत्रित.

शिक्षा पर जोखिम

युद्ध के कारण, टीकाकरण कवरेज की गति ठप हो गई है, और एक वर्ष से कम आयु के लगभग 28 प्रतिशत बच्चों का नियमित टीकाकरण नहीं हो पा रहा है.

इस स्थिति और स्वच्छ पानी की उपलब्धता के अभाव का मतलब है कि बच्चों को हैज़ा, खसरा और डिप्थीरिया जैसी बीमारियों का बहुत ज़्यादा जोखिम है.

यूनीसेफ़ ने चेतावनी भरे शब्दों में कहा है कि यमन में एक गम्भीर शिक्षा संकट भी उत्पन्न हो गया है, बच्चों पर जिसके दीर्घकालीन और व्यापक परिणाम होंगे.

इस समय लगभग 20 लाख लड़के व लड़कियाँ, स्कूली शिक्षा से वंचित हैं, और ये संख्या बढ़कर 60 लाख तक पहुँच सकती है, क्योंकि हर चार में से एक स्कूल, यानि लगभग 25 प्रतिशत स्कूल, या तो पूर्ण या आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हैं.

समझौता बहाल करें

कैथरीन रसैल ने ज़ोर देकर कहा कि यमन के बच्चों को एक समृद्ध भविष्य का मौक़ा मिलना चाहिये, युद्धरत पक्षों और अन्तरराष्ट्रीय समुदायों, व किसी भी तरह का प्रभाव रखने वालों को, ये सुनिश्चित करना होगा कि बच्चे संरक्षित व समर्थित रहें.

उन्होंने कहा कि युद्ध विराम समझौते को तत्काल बहाल करना, एक ऐसा सकारात्मक पहला क़दम होगा जिससे अति महत्वपूर्ण मानवीय सहायता पहुँच सम्भव हो सकेगी.

अन्ततः एक टिकाऊ शान्ति से ही, परिवारों को अपनी बिखरी ज़िन्दगियों को समेटने और भविष्य के लिये योजना बनाने का मौक़ा मिल पाएगा.

सहायता अपील

यमन में एक बच्ची, कुपोषण के समाधान के रूप में, मूंगफली से बनी ख़ुराक खाते हुए.
© UNICEF/Mohammed Huwais
यमन में एक बच्ची, कुपोषण के समाधान के रूप में, मूंगफली से बनी ख़ुराक खाते हुए.

यूनीसेफ़ ने वर्ष 2023 के दौरान यमन के संकट में मानवीय सहायता कार्यों के लिये चार करोड़ 84 लाख डॉलर की रक़म जुटाने की अपील जारी की है.

साथ ही ये आगाह भी किया है कि धनराशि मिलने की ठोस योजनाओं के अभाव में, बच्चों के जीवन व उनका रहन-सहन पर जोखिम मंडराएगा.

यूनीसेफ़ ने अनेक तरह की चुनौतियों के बावजूद, इस वर्ष यमन में सहायता कार्यक्रम जारी रखे जिनमें दो लाख 60 हज़ार से भी ज़्यादा बच्चों का, अत्यन्त गम्भीर कुपोषण के लिये उपचार किया जाना भी शामिल था.

लगभग 15 लाख परिवारों को, हर तिमाही में आपात नक़दी सहायता उपलब्ध कराई गई जिससे लगभग 9 लाख लोगों को, अपना दैनिक जीवन चलाने में मदद मिली.