WHO: विश्व में चोट, हिंसा से प्रतिदिन 12 हज़ार लोगों की जान बचाने के लिए, त्वरित कार्रवाई की आवश्यकता

सड़क यातायात दुर्घटना के परिणामस्वरूप हर साल लगभग 13.5 लाख लोगों की जान चली जाती है.
WHO/T. Pietrasik
सड़क यातायात दुर्घटना के परिणामस्वरूप हर साल लगभग 13.5 लाख लोगों की जान चली जाती है.

WHO: विश्व में चोट, हिंसा से प्रतिदिन 12 हज़ार लोगों की जान बचाने के लिए, त्वरित कार्रवाई की आवश्यकता

स्वास्थ्य

संयुक्त राष्ट्र स्वास्थ्य एजेंसी द्वारा मंगलवार को जारी एक नई रिपोर्ट के अनुसार, प्रति दिन, चोट और हिंसा के कारण विश्व भर में क़रीब 12,000 लोग अपना जीवन गँवा देते है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन – WHO के मुखिया डॉक्टर टैड्रॉस ऐडहेनॉम घेबरेयेसस ने पत्रकारों को बताया, "ग़रीबी में रहने वाले लोगों को समृद्ध जन की तुलना में चोट लगने की अधिक सम्भावना होती है."

Tweet URL

“इन स्वास्थ्य असमानताओं को दूर करने और चोटों व हिंसा की रोकथाम करने में स्वास्थ्य क्षेत्र की एक प्रमुख भूमिका है. यह क्षेत्र आँकड़े एकत्र करता है, नीतियाँ विकसित करता है, रोकथाम व देखभाल के लिए सेवाएँ प्रदान करने, क्षमता निर्माण करने, और कम सेवा वाले समुदायों पर अधिक ध्यान देने की वकालत करता है.”

चोटों की परिदृश्य

WHO ने, ‘चोटें और हिंसा की रोकथाम: एक परिदृश्य’ नामक रिपोर्ट जारी की है जो दर्शाती है की पाँच से 29 वर्ष की आयु के लोगों में, मौत के शीर्ष पाँच कारणों में सड़क यातायात में घायल होना, हत्या और आत्महत्या, शामिल हैं.

चोट लगना या घायलावस्था सम्बन्धी अन्य कारणों में डूबना, गिरना, जलना और ज़हर खाने से होने वाली मौतें शामिल हैं.

स्वास्थ्य एजेंसी की इस रिपोर्ट से पता चलता है कि हर वर्ष चोटें लगने और घायल होने के कारण 44 लाख लोगों की मौतें होती हैं. इनमें तीन में से एक व्यक्ति की मृत्यु सड़क यातायात दुर्घटनाओं की वजह से होती हैं, छह में से एक मौत आत्महत्या के कारण; नौ में से एक मृत्यु हत्या के कारण; और 61 में से एक व्यक्ति की मौत युद्ध और संघर्ष के कारण होती हैं.

बचाव उपायों की अहमियत

ये दुर्घटनाएँ उपलब्ध प्रभावी और कम लागत वाली कार्रवाइयों की मदद से कम की जा सकती हैं.

उदाहरण के लिए, स्पेन के शहरों में गति सीमा को 30 किलोमीटर प्रति घंटा पर निर्धारित करने से, सड़क सुरक्षा में सुधार दिख रहा है.

वियतनाम में, समुदायों को अधिक तैराकी प्रशिक्षण देने से, डूबने से मृत्यु दर में कमी लाने में सहायता मिल रही है.

इस बीच, फिलीपींस में नाबालिग़ों को यौन हिंसा से बचाने के लिए, यौन सहमति की उम्र 12 वर्ष से बढ़ाकर 16 वर्ष करने का क़ानून लागू करने से ,पहले ही सकारात्मक बदलाव नज़र आ रहे हैं.

राजनैतिक इच्छाशक्ति की आवश्यकता

हालाँकि, अधिकांश देशों में जीवन की रक्षा के लिए पर्याप्त उपाय नहीं हैं, जिसके लिए राजनैतिक इच्छाशक्ति और निवेश की आवश्यकता होती है.

स्वास्थ्य के सामाजिक निर्धारकों के लिए, WHO के निदेशक एटिएन क्रुग ने कहा, "हर साल लाखों परिवारों को इस अनावश्यक पीड़ा से बचाने के लिए त्वरित कार्रवाई की आवश्यकता है."

"हम जानते हैं कि क्या कुछ किए जाने की आवश्यकता है. लोगों का जीवन बचाने के लिए ये प्रभावी उपाय, देशों और समुदायों में बड़े पैमाने पर लागू किए जाने चाहिए."

बदलाव का समर्थन

विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट - चोट की रोकथाम और सुरक्षा संवर्धन ( Injury prevention and safety promotion ) 14वें विश्व सम्मेलन के दौरान जारी की जा रही है, जो फ़िलहाल ऑस्ट्रेलिया के ऐडिलेड में हो रहा है.

इस सम्मेलन में चोटों और हिंसा की रोकथाम के लिए साक्ष्य-आधारित उपायों की जानकारी दी जा रही है.

इस तरह के सम्मेलन, विश्व के प्रमुख चोट व हिंसा निवारण शोधकर्ताओं और चिकित्सकों के लिए एक अवसर प्रदान करते हैं.

यह रिपोर्ट, रोकथाम के उपायों और WHO के उपलब्ध तकनीकी मार्गदर्शन को भी सामने लाती है.