इथियोपिया: टीगरे क्षेत्र में हिंसक टकराव हुआ 'बेक़ाबू', तत्काल विराम लगाने की पुकार  

यूएन महासचिव ने न्यूयॉर्क में सोमवार को पत्रकारों को इथियोपिया में हालात पर जानकारी दी.
UN Photo/Eskinder Debebe
यूएन महासचिव ने न्यूयॉर्क में सोमवार को पत्रकारों को इथियोपिया में हालात पर जानकारी दी.

इथियोपिया: टीगरे क्षेत्र में हिंसक टकराव हुआ 'बेक़ाबू', तत्काल विराम लगाने की पुकार  

शांति और सुरक्षा

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने आगाह किया है कि इथियोपिया के टीगरे क्षेत्र में लड़ाई, नियंत्रण से बाहर होती जा रही है, और सामाजिक ताने-बाने की धज्जियाँ उड़ रही हैं. उन्होंने सोमवार को सुरक्षा परिषद के बाहर पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए कहा कि दो वर्षों से जारी इस क्रूर हिंसक टकराव में हज़ारों लोगों की मौत हो चुकी है मगर इसका कोई सैन्य समाधान नहीं है.

दो दिनों के भीतर यह दूसरी बार है जब यूएन के शीर्षतम अधिकारी ने टीगरे क्षेत्र में हिंसा और तबाही पर चिन्ता जताई है.

प्राप्त समाचारों के अनुसार शिरे समेत टीगरे के अन्य शहरों में भारी बमबारी हो रही है, और प्रान्तीय राजधानी म्कैले में खाद्य आपूर्ति ख़त्म होती जा रही है, जिससे अकाल की आशंका उभरी है.

Tweet URL

नवम्बर 2020 में, राष्ट्रीय और क्षेत्रीय प्रशासन में तनातनी व तनाव बढ़ने के बाद, सरकारी सुरक्षा बलों और टीगरे में अलगाववादी लड़ाकों के बीच लड़ाई शुरू हुई.

हिंसा के कारण लाखों लोग अपने घरों से विस्थापित हुए हैं.

बताया गया है की ऐरीट्रिया के सैन्य बलों ने इथियोपियाई सुरक्षा बलों के साथ हाथ मिलाया है और अब वे टीगरे की सीमा में प्रवेश कर चुके हैं.

अगस्त महीने के बाद से ही लड़ाई में आई तेज़ी के कारण राहत वितरण कार्यों में बाधा उत्पन्न हुई है, ईंधन की क़िल्लत है और संचार माध्यमों पर रोक लगाई गई है.

यूएन महासचिव ने कहा कि इथियोपिया से ऐरीट्रिया के सशस्त्र बलों को तत्काल वापिस हटना होगा. उन्होंने क्षोभ जताया कि क्षेत्र में आम नागरिकों को हिंसा की एक बड़ी क़ीमत चुकानी पड़ रही है.

“रिहायशी व अन्य इलाक़ों में ताबड़तोड़ हमलों में निर्दोष लोगों की जान जा रही है, अति-महत्वपूर्ण बुनियादी ढाँचे को क्षति पहुँच रही है, और अहम सेवाओं की सुलभता सीमित हो गई है.”

यूएन प्रमुख ने बताया कि यौन हिंसा और महिलाओं, बच्चों व पुरुषों के विरुद्ध क्रूरता के अन्य कृत्यों के मामलों पर जानकारी प्राप्त हुई है.

“सभी पक्षों को अन्तरराष्ट्रीय मानव कल्याण क़ानून के तहत अपने दायित्वों का निर्वहन करना होगा.”

बढ़ती ज़रूरतें

उन्होंने कहा कि मौजूदा घटनाक्रम से विशाल स्तर पर ज़रूरतें उत्पन्न हुई हैं.

पाँच महीनों के अन्तराल के बाद, अगस्त 2022 में फिर से लड़ाई शुरू होने से पहले भी युद्ध प्रभावित टीगरे, अमहारा और अफ़ार क्षेत्र में एक करोड़ 30 लाख लोग ज़रूरतमन्द थे.

महासचिव गुटेरेश के अनुसार टीगरे क्षेत्र में मानवीय राहत की आपूर्ति पिछले सात हफ़्तों से रुकी हुई है और अमहारा व अफ़ार में भी सहायता प्रयासों में व्यवधान आया है.

“सभी पक्षों को ज़रूरतमन्द आम नागरिकों के लिये मानवीय राहत त्वरित व निर्बाध ढँग से पहुँचाने की अनुमति देनी होगी.”

“संयुक्त राष्ट्र, इथियोपिया के लोगों के लिये इस दुस्वप्न का अन्त करने के लिये अफ़्रीकी संघ का हरसम्भव समर्थन करने के लिये तैयार है.”

उन्होंने अफ़्रीकी संघ द्वारा बातचीत को फिर से शुरू किये जाने की अपील दोहराई, जिसे पिछले महीने दक्षिण अफ़्रीका में आयोजित किये जाने का कार्यक्रम था.

महासचिव ने कहा कि कारगर, स्थाई राजनैतिक समाधान के लिये बातचीत को तत्काल शुरू किये जाने की आवश्यकता है, और अन्तरराष्ट्रीय समुदाय को इथियोपिया में शान्ति के लिये लामबन्दी करनी होगी.