कोविड-19 महामारी का अन्त अब नज़र आने लगा है: WHO

14 सितम्बर 2022

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने बुधवार को कहा कि कोविड-19 संक्रमण के कारण किसी एक सप्ताह में मृतकों की संख्या, मार्च 2020 के बाद से अब तक अपने निम्नतम स्तर तक पहुँच गई है, जिससे वैश्विक महामारी का अन्त अब नज़र आने लगा है.
 

यूएन स्वास्थ्य एजेंसी के महानिदेशक ने जिनीवा में अपनी नियमित साप्ताहिक प्रैस वार्ता के दौरान पत्रकारों को कहा कि इस महामारी को ख़त्म करने के नज़रिये से, हम इससे पहले इतनी बेहतर स्थिति में कभी नहीं थे.

मगर, उन्होंने आगाह किया कि दुनिया अभी वांछित पड़ाव तक नहीं पहुँची है.

“मैराथन धावक को जब समापन रेखा (finish line) दिखाई दे जाती है तो वो रुकते नहीं है. वो और तेज़ी से भागते हैं, अपनी पूरी ऊर्जा के साथ.”

“हमें भी ऐसा ही करना है. हम समापन रेखा को देख सकते हैं. हम जीतने की स्थिति में हैं. लेकिन दौड़ रोकने के लिये यह सबसे ख़राब समय है.”

महानिदेशक घेबरेयेसस ने सचेत किया कि यदि दुनिया ने इस अवसर का उपयोग नहीं किया तो और वैरीएंट के उभरने, मौतें होने, व्यवधान आने और अनिश्चितता का जोखिम है.

“इसलिये, आइये, इस अवसर का लाभ उठाएँ.”

स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक ने बुधवार को छह लघु नीतिपत्र जारी किये हैं, जिनमें इस ‘दौड़ को समाप्त करने’ के इरादे से, सभी सरकारों के लिये अहम कार्रवाई का ख़ाका प्रस्तुत किया गया है.

अहम नीतिपत्र

ये नीतिपत्र, पिछले 32 महीनों के अनुभवों व तथ्यों पर आधारित सारांश का पुलिन्दा हैं, जिनमें ज़िन्दगियों को बचाने, स्वास्थ्य प्रणालियों की रक्षा करने और सामाजिक-आर्थिक व्यवधान से बचने के लिये सर्वोत्तम उपाय साझा किये गए हैं.

“ये सरकारों के लिये तत्काल जारी की गई अपील है कि वे अपनी नीतियों पर कड़ाई से नज़र डालें, उन्हें कोविड-19 व महामारी की आशंका वाले अन्य भावी वायरसों से निपटने के लिये मज़बूत बनाएँ.”

ये दस्तावेज़ ऑनलाइन उपलब्ध हैं, जिनमें अति-जोखिम का सामना करने वाले समूहों के लिये टीकाकरण, SARS-CoV-2 वायरस की सीक्वेंसिंग व परीक्षण, और प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल प्रणालियों में कोविड-19 के कारगर उपचारों का प्रबन्ध करने पर बल दिया गया है.

साथ ही, भविष्य में संक्रमणों में उछाल को रोकने के लिये योजनाएँ तैयार करनी होंगी, जिनके अन्तर्गत चिकित्सा सामग्री व उपकरणों की आपूर्ति और अतिरिक्त संख्या में स्वास्थ्यकर्मियों की उपलब्धता अहम है.

नीतिपत्र में स्वास्थ्यकर्मियों को प्रशिक्षित करने पर भी ज़ोर दिया गया है ताकि वे ग़लत सूचनाओं के प्रसार की रोकथाम कर पाने और उच्च-गुणवत्ता वाली जानकारीपरक सामग्री तैयार करने में सक्षम हों.

सम्भावित परिदृश्य

कोविड-19 पर यूएन स्वास्थ्य एजेंसी की तकनीकी प्रमुख डॉक्टर मारिया वान कर्कहोव ने बताया कि वायरस अब भी दुनिया भर में तेज़ी से फैल रहा है.

संगठन का मानना है कि जिन संक्रमण मामलों की पुष्टि की गई है, वास्तविक मामलों की संख्या उससे कहीं अधिक होने की आशंका है.

उन्होंने कहा कि आगामी दिनों में संक्रमण की नई लहरें देखने को मिल सकती हैं, जिनके लिये ओमिक्रॉन, उसके उप-वैरीएंट या अन्य रूप ज़िम्मेदार होंगे. मगर, इन भावी संक्रमण लहरों के कारण यह ज़रूरी नहीं है कि इसके परिणामस्वरूप मृतकों की संख्या बढ़े, चूँकि अब वैक्सीन समेत अन्य एंटी वायरल उपचार भी उपलब्ध हैं.

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिये यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एण्ड्रॉयड