वोल्कर टूर्क बने - नए यूएन मानवाधिकार उच्चायुक्त

8 सितम्बर 2022

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने ऑस्ट्रिया के राजनयिक वोल्कर टूर्क को, गुरूवार को, अगला यूएन मानवाधिकार उच्चायुक्त नियुक्त किया है. इससे पहले उनकी नियुक्ति को यूएन महासभा ने स्वीकृति दी थी.

यूएन प्रमुख ने एक वक्तव्य जारी करके कहा है कि “वोल्कर टूर्क ने अपना काफ़ी लम्बा पेशेवर जीवन सार्वभौमिक मानवाधिकारों के प्रोत्साहन के लिये समर्पित किया है, जिनमें दुनिया के कुछ सबसे कमज़ोर लोगों के लिये अन्तरराष्ट्रीय संरक्षण मुहैया कराया जाना भी शामिल है. इनमें शरणार्थी और किसी देश की नागरिकता से वंचित लोग भी शामिल हैं.”  

सेवा करियर

नए यूएन मानवाधिकार उच्चायुक्त वोल्कर टूर्क, इस समय संयुक्त राष्ट्र के कार्यकारी कार्यालय में अवर महासचिव के रूप में, वैश्विक नीति सम्बन्धी कार्य में समन्वय कर रहे हैं.

वोल्कर टूर्क, यूएन प्रमुख की – “मानवाधिकारों के लिये कार्रवाई की पुकार” और उनकी रिपोर्ट – हमारा साझा एजेंडा पर अमल करने की कार्रवाई व प्रयासों में भी पूरी यूएन प्रणाली में समन्वय कर रहे हैं. 

ध्यान रहे कि यूएन प्रमुख का हमारा साझा एजेंडा – विश्वास, एकजुटता और मानवाधिकारों की बुनियादों पर, विश्व की आपस में जुड़ी हुई चुनौतियों का सामना करने के लिये एक वृहद दृष्टिकोण मुहैया कराता है.

वोल्कर टूर्क, 2019 से 2021 तक, यूएन प्रमुख के कार्यकारी कार्यालय में, रणनैतिक समन्वय के लिये अवर महासचिव रहे हैं.

उससे पहले, वो 2015 से 2019 तक, जिनीवा में, यूएन शरणार्थी एजेंसी – UNHCR में संरक्षण मामलों के लिये सहायक उच्चायुक्त रहे थे. वहाँ उन्होंने वैश्विक शरणार्थी कॉम्पैक्ट विकसित करने में अहम भूमिका निभाई थी.

नवनियुक्त मानवाधिकार उच्चायुक्त ने संयुक्त राष्ट्र की विभिन्न एजेंसियों में सक्रिय पदों पर काम किया है जिनमें यूएन शरणार्थी एजेंसी में विभिन्न पद भी शामिल रहे हैं.

वोल्कर टूर्क ने वियेना विश्वविद्यालय से अन्तरराष्ट्रीय क़ानून में डॉक्टरेट तक की शिक्षा हासिल की है और ऑस्ट्रिया के लिंज़ विश्वविद्यालय से क़ानून में मास्टर की डिग्री हासिल की.

उन्होंने अन्तरराष्ट्रीय शरणार्थी क़ानून और अन्तरराष्ट्रीय मानवाधिकार क़ानून के बारे में विस्तार से लिखा है, वो अंग्रेज़ी, फ्रेंच और जर्मन भाषाओं में निपुण हैं और स्पेनिश भाषा का भी कार्यकारी ज्ञान रखते हैं.

बागडोर की ज़िम्मेदारी

वोल्कर टूर्क, चिले की मिशेल बाशेलेट का स्थान लेंगे जिन्होंने यूएन मानवाधिकार उच्चायुक्त के पद पर 1 सितम्बर 2018 से 31 अगस्त 2022 तक काम किया.

यूएन महासचिव ने अपने वक्तव्य में, संयुक्त राष्ट्र के लिये मिशेल बाशेलेट की प्रतिबद्धता और समर्पित सेवा के लिये आभार प्रकट किया है.

मिशेल बाशेलेट के कार्यकाल के दौरान ही, दुनिया ने कोविड-19 महामारी का सामना किया है. उन्होंने अपने कार्यकाल के दौरान सामाजिक संरक्षण को फिर से मज़बूत करने, पेशेवर काम करने के वर्चुअल तरीक़ों के लिये अनुकूलन, और मानवाधिकारों की निगरानी का दायरा बढ़ाने के लिये काम किया.

मिशेल बाशेलेट के कार्यकाल में, यूएन मानवाधिकार उच्चायुक्त कार्यालय ने, गहराती निर्धनता से लेकर बढ़ती विषमताओं तक, और स्वास्थ्य देखभाल, वैक्सीन और उपचार के अभाव से लेकर, भेदभाव और महिलाओं के विरुद्ध हिंसा तक के मुद्दों और अन्य महत्वपूर्ण चुनौतियों पर, त्वरित समाधान मुहैया कराए हैं.

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिये यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एण्ड्रॉयड