पाकिस्तान: भंयकर बाढ़ जारी, WFP भी सहायता में सक्रिय

29 अगस्त 2022

संयुक्त राष्ट्र की खाद्य सहायता एजेंसी (WFP) ने सोमवार को कहा कि भीषण बाढ़ का सामना कर रहे पाकिस्तान को यथासम्भव भरपूर समर्थन दिया जा रहा है. पाकिस्तान में इस भीषण बाड़ में अभी तक ख़बरों के अनुसार, 1,000 से अधिक लोग मारे गए हैं और लगभग 3 करोड़ 30 लाख लोग विस्थापित हुए हैं.

संयुक्त राष्ट्र की खाद्य सहायता एजेंसी (WFP) ने सोमवार को कहा कि भीषण बाढ़ का सामना कर रहे पाकिस्तान को यथासम्भव भरपूर समर्थन दिया जा रहा है. पाकिस्तान में इस भीषण बाड़ में अभी तक ख़बरों के अनुसार, 1,000 से अधिक लोग मारे गए हैं और लगभग 3 करोड़ 30 लाख लोग विस्थापित हुए हैं.

भयंकर बाढ़ से उत्पन्न इस स्थिति को राष्ट्रीय आपातकाल घोषित कर दिया गया है, और पाकिस्तान सरकार देश के राष्ट्रीय आपदा प्रबन्धन प्राधिकरण के माध्यम से, मूल्यांकन कार्यों में समन्वय का नेतृत्व कर रही है और साथ ही प्रभावित लोगों को मानवीय राहत का निरीक्षण भी किया जा रहा है.

देश में यूएन रेज़िडेंट कोऑर्डिनेटर (RCO) और मानवीय सहायता कार्यों की संयोजक जूलियन हार्निस के अनुसार, जून के बाद से, भारी मानसून वर्षा के कारण आई बाढ़ और भूस्खलन ने पूरे पाकिस्तान में व्यापक विनाश किया है जो कई दशकों में "सबसे बड़ी चुनौती" उत्पन्न कर रहा है.

उन्होंने "जलवायु-परिवर्तन संचालित तबाही" के मद्देनजर, अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर "बोझ-बाँटने और एकजुटता" का आहवान किया है.

ख़बरों के अनुसार, देश का एक तिहाई हिस्सा पानी से भर सकता है क्योंकि मानसून का मौसम जारी है, और जिस तरह नदियाँ अपने किनारें तोड़ कर सड़कें व पुल बहा ले जा रही हैं, मृतकों संख्या इससे और बढ़ सकती है और पहाड़ी उत्तरी क्षेत्रों में अनेक समुदायों का पूरी तरह सम्पर्क टूट सकता है.

पहुँच में बाधाएँ

विश्व खाद्य कार्यक्रम - WFP को इस संकट में सहायता करने के लिये कहा गया है, और इसके कर्मचारी, स्थानीय अधिकारियों व भागीदारों के साथ मिलकर खाद्य सहायता को बढ़ाने के लिये काम कर रहे हैं.

पाकिस्तान के बुरी तरह प्रभावित बलूचिस्तान और सिन्ध प्रान्तों में क़रीब 5 लाख लोगों तक सहायता पहुँचाने का लक्ष्य है. एजेंसी, बलूचिस्तान में पहले ही लगभग 42 हज़ार लोगों को सहायता मुहैया करा रही है.

अलबत्ता, फ़िलहाल सहायता सामग्रियों का वितरण रुका हुआ है क्योंकि बाढ़ के पानी के कारण देश भर में मदद पहुँचाने में बाधा उत्पन्न हो रही है.

बाढ़ के पानी ने ख़ैबर पख़्तूनख़्वाह और पंजाब प्रान्तों में जीवन और आजीविका को भी अस्त-वयस्त कर दिया है.

100 से अधिक पुल और लगभग 3,000 किमी लम्बी सड़कें या तो क्षतिग्रस्त हुईं हैं या ध्वस्त हो गई हैं. क़रीब 8 लाख पालतू जानवर मारे गए हैं, और 20 लाख एकड़ फ़सल और बाग़ प्रभावित हुए हैं.

धन की अपील

देश में यूएन रेज़िडेंट कोऑर्डिनेटर और मानवीय सहायता कार्यों की संयोजक जूलियन हार्निस ने चेतावनी देते हुए कहा कि बीमारियों और कुपोषण के बढ़ने की आशंका के कारण, मानवीय स्थिति और ज़्यादा ख़राब होने की आशंका है; और साथ ही, बाढ़ से प्रभावित होने वाले ज़िलों की संख्या भी बढ़ रही है.

संयुक्त राष्ट्र पाकिस्तान की सहायता के लिये, मंगलवार को 16 करोड़, 10 लाख डॉलर की औचक अपील शुरू करने की तैयारी में है.

इस अपील के ज़रिये मिलने वाले धन से बलूचिस्तान, सिन्ध, पंजाब और ख़ैबर पख़्तूनख़्वाह प्रान्तों के बाढ़ प्रभावित ज़िलों में, लगभग दस लाख लोगों को महत्वपूर्ण भोजन और नक़दी की सहायता मिल सकेगी.

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिये यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एण्ड्रॉयड