ECW: लड़कियों व लड़कों के शिक्षा सशक्तिकरण में ‘ठोस नतीजे’

मध्य अफ़्रीकी गणराज्य के बांगुई स्थान में एक स्कूल में कुछ लड़कियाँ.
©Education Cannot Wait
मध्य अफ़्रीकी गणराज्य के बांगुई स्थान में एक स्कूल में कुछ लड़कियाँ.

ECW: लड़कियों व लड़कों के शिक्षा सशक्तिकरण में ‘ठोस नतीजे’

एसडीजी

आपदाओं और लम्बे समय से चल रहे संघर्षों वाले स्थानों पर शिक्षा के लिये, संयुक्त राष्ट्र के वैश्विक कोष – Education Cannot Wait (ECW) ने मंगलवार को अपनी वार्षिक रिपोर्ट जारी की है जिसमें बताया गया है कि वैश्विक उथल-पुथल के बावजूद, इस कोष और उसके साझीदार संगठनों ने, अपने अभियानों का दायरा बढ़ाना जारी रखा है.

Tweet URL

अब तक के परिणाम

रिपोर्ट में संकेत दिया गया है कि इस कोष का निवेश, 2017 में शुरू होने के बाद से अब तक, लगभग 70 लाख बच्चों व किशोरों तक पहुँच गया है, जिनमें 48.4 प्रतिशत महिलाएँ और लड़कियाँ हैं. 

ECW की निदेशिका यासमीन शेरिफ़ ने इस कोष द्वारा हासिल की गई प्रगति पर प्रकाश डालते हुए कहा, “इस कोष के पाँच साल के अभियान के दौरान हासिल किये गए परिणाम, इस अवधारणा के सबूत हैं कि हम हवा का रुख़ पलट सकते हैं और संकटों की परिस्थितियों में हाशिये पर रहने वाले लड़कियों और लड़कों का, उम्मीद, संरक्षा और गुणवत्ता वाली शिक्षा के अवसरों के साथ सशक्तिकरण कर सकते हैं.”

संसाधन उपलब्धता की बात करें तो, इस कोष ने वर्ष 2021 के दौरान 38 करोड़ 86 लाख डॉलर की रक़म जुटाई. इस तरह इस कोष के लिये अभी तक एक अरब 10 करोड़ डॉलर की धनराशि जुटाई जा चुकी है.

कार्रवाई बिन्दु

ये रिपोर्ट ऐसे समय में जारी की गई है जब इस कोष ने जून 2022 में, नए चौंकाने वाले आकलन जारी किये थे, जिनमें बताया गया था कि दुनिया भर लगभग 22 करोड़ 20 लाख, बच्चों को शिक्षा समर्थन की तत्काल आवश्यकता है.

इनमें 7 करोड़ 82 लाख ऐसे बच्चे शामिल हैं जो स्कूली शिक्षा से वंचित हैं और 11 करोड़ 96 ऐसे बच्चे भी हैं जो स्कूलों में तो हैं, मगर गणित व पाठन में न्यूनतम क्षमता भी हासिल नहीं कर पा रहे हैं.

वैश्विक शिक्षा पर संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत गॉर्डन ब्राउन का कहना है, “निसन्देह, प्रगति हासिल की जा रही है, मगर हमें अभी लम्बा रास्ता तय करना है.”

ECW का उच्च स्तरीय वित्तीय सम्मेलन जिनीवा में, फ़रवरी 2023 में प्रस्तावित है. इसके आयोजन में स्विट्ज़रलैण्ड, जर्मनी, निजेर, नॉर्वे और दक्षिण सूडान का भी सहयोग रहेगा.

ये सम्मेलन, निजी और सार्वजनिक क्षेत्रों में, व्यक्तियों और संस्थानों से, ECW को ठोस वित्तीय योगदान करने का आहवान करेगा.

यासमीन शेरिफ़ का कहना है, “हम देशों की सरकारों, कारोबारों, और समाज कल्याण के लिये काम करने वाले संगठनों और हस्तियों से ठोस वित्तीय योगदान करने का आग्रह करते हैं ताकि संकटों की परिस्थितियों में जो बच्चे और भी ज़्यादा पीछे छूट गए हैं, उनके सपनों को साकार करने में मदद की जा सके.”

महत्वपूर्ण रुझान

रिपोर्ट के अनुसार, अशान्ति, जबरन विस्थापन, जलवायु सम्बन्धी आपदाओं और कोविड-19 महामारी के जटिल प्रभावों ने, शिक्षा आपदाओं की पृद्धि को और ज़्यादा ईंधन दिया है. 

वर्ष 2021 के दौरान, धनराशि जुटाने की अपीलें 2.9 अरब डॉलर तक पहुँच गईं, जबकि 2020 में ये धनराशि 1.4 अरब डॉलर थी.