यूक्रेन: शॉपिंग मॉल पर मिसाइल हमले की निन्दा, अनेक लोग हताहत

27 जून 2022

संयुक्त राष्ट्र ने यूक्रेन के क्रेमेनचुक शहर के भीड़भाड़ वाले एक शॉपिंग परिसर पर, कथित रूप से रूस द्वारा किये गए एक मिसाइल हमले की भर्त्सना की है. इस हमले में कम से कम 10 लोगों के मारे जाने की आशंका जताई गई है और हताहतों का यह संख्या बढ़ सकती है.

प्राप्त समाचारों के अनुसार, देश के मध्य-पूर्वी हिस्से में स्थित क्रेमेनचुक शहर का एक शॉपिंग मॉल इस हमले का निशाना बना, जोकि अभी तक हिंसा की ज़द में नहीं आया था.

बताया गया है कि दोपहर को हुए इस हमले के समय, ख़रीदारी केन्द्र में बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे.

स्थानीय प्रशासन के अनुसार इस हमले में कम से कम 40 लोग घायल हुए हैं और हताहतों की संख्या बढ़ने की आशंका है.

घटनास्थल से प्राप्त वीडियो फ़ुटेज में भीषण आग की लपटों में घिरी इमारत और बड़े पैमाने पर हुई बर्बादी को देखा जा सकता है.

संयुक्त राष्ट्र महासचिव के प्रवक्ता स्तेफ़ान दुजैरिक ने न्यूयॉर्क में पत्रकारों को जानकारी देते हुए कहा कि हताहतों की संख्या की पुष्टि की जा रही है.

मगर, यह संख्या चाहे कुछ भी हो, “कोई भी हमला जिसमें एक शॉपिंग मॉल को निशाना बनाया जाए, वो पूर्ण रूप से निन्दनीय है.”

“किसी भी तरह के नागरिक प्रतिष्ठान, जिसमें स्पष्टतया शॉपिंग मॉल और आम लोग भी हैं, को कभी भी निशाना नहीं बनाया जाना चाहिये.”

हिंसा की चपेट में नागरिक प्रतिष्ठान

यूएन प्रवक्ता ने कहा कि पिछले सप्ताहान्त और फिर आज भी, हवाई हमलों और बमबारी की एक नई लहर के समाचार प्राप्त हुए हैं, जिसमें आम लोग हताहत हुए हैं और यह बहुत परेशान कर देने वाला है.

“घरों, स्वास्थ्य केन्द्रों और अन्य नागरिक प्रतिष्ठानों को कथित रूप से क्षति पहुँची है.”

सप्ताहान्त के दौरान, यूक्रेन की राजधानी कीव को भी फिर से निशाना बनाया गया, जिसमें एक आवासीय परिसर क्षतिग्रस्त हो गया और कुछ लोग मलबे में दब गए.

यूक्रेन में यूएन के रैज़ीडेण्ट कोऑर्डिनेटर ओसनात लुब्रानी ने रविवार को अपने एक ट्वीट सन्देश में कहा, “यूक्रेन में जीवन हानि, चोट, घरों का विध्वंस - व्यक्तियों, परिवारों व समुदायों के जीवन में क़हर ढा रहा है.”

“आम लोगों की रक्षा, चाहे वे कहीं पर भी हों, की जानी होगी.”

डोनबास क्षेत्र में टकराव

डोनबास क्षेत्र में यूक्रेन और रूसी सैन्य बलों के बीच घमासान युद्ध जारी है. इस पृष्ठभूमि में, यूएन मानवीय राहतकर्मियों ने ज़रूरतमन्दों तक पहुँचने में विशाल चुनौतियों का उल्लेख किया है.

यूएन प्रवक्ता ने कहा, “ये चुनौतियाँ सिर्फ़ असुरक्षा की वजह से ही नहीं है, बल्कि पक्षों द्वारा थोपी गई प्रशासनिक पाबन्दियों के कारण भी हुआ है, जिससे सुलभता प्रभावित हुई है.”

“हम एक बार फिर ज़ोर देना चाहेंगे कि अन्तरराष्ट्रीय मानव कल्याण के तहत [युद्धरत] पक्षों का दायित्व है कि वे नागरिकों और नागरिक प्रतिष्ठानों की सुरक्षा करें.”

यूक्रेन में यूएन के संकट समन्वयक अमीन अवाद ने भी सप्ताहान्त पर अपने एक ट्वीट में ध्यान दिलाया कि मानवीय आवश्यकताएँ बढ़ती जा रही हैं, जिसके मद्देनज़र, यूएन को देश की सरकार व आम लोगों के साथ मिलकर अपने अभियान का दायरा व स्तर बढ़ाना होगा,

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिये यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एण्ड्रॉयड