समुद्री मार्ग में बचाए गए प्रवासियों व शरणार्थियों की रक्षा की पुकार 

18 मई 2022

शरणार्थियों और प्रवासियों की रक्षा के लिये अन्तर-एजेंसी समूह ने सदस्य देशों से समुद्री मार्ग में बचाए गए प्रवासियों व शरणार्थियों के मानवाधिकार व मानवीय बर्ताव सुनिश्चित किये जाने, और तस्करी के दौरान उनके साथ हुए दुर्व्यवहार के मामलों की जाँच व मुक़दमे की कार्रवाई का आग्रह किया है.

संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी (UNHCR), अन्तरराष्ट्रीय प्रवासन संगठन (IOM), संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त कार्यालय (OHCHR), संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF), मादक पदार्थों एवं अपराध पर संयुक्त राष्ट्र कार्यालय (UNODC) और प्रवासियों के अधिकार पर विशेष यूएन रैपोर्टेयर ने बुधवार को एक साझा वक्तव्य जारी किया है.

यूएन एजेंसियों ने ध्यान दिलाया है कि विश्व भर में लोग जटिल हालात से जूझते हुए गरिमा, सुरक्षा व शरण की तलाश में समुद्री मार्गों का रुख़ करते हैं. 

मगर, सुरक्षित व क़ानूनी विकल्पों के अभाव में, लोगों को अक्सर समुद्री मार्ग से अनियमित प्रवासन और ऐसे तस्करों से मदद लेने के लिये मजबूर होना पड़ता है, जिनके लिये मानव जीवन का कोई मूल्य नहीं है.

इस पृष्ठभूमि में, यूएन एजेंसियों के समूह ने सभी सदस्य देशों से, अपने-अपने समुद्री क्षेत्रों में लोगों के मानवाधिकारों का सम्मान करने वाली परिस्थितियाँ सृजित करने का आहवान किया है.

यूएन एजेंसियों के अनुसार प्रवासियों व शरणार्थियों का अक्सर शोषण किया जाता है, उनके साथ दुर्व्यवहार होता है, तस्करों द्वारा मार-पिटाई भी की जाती है.

अब तक हज़ारों लोगों की मौत हो चुकी है, और अक्सर उनके शव समुद्री यात्रा के दौरान ग़ायब हो जाते हैं या फिर किनारे पर मिलते हैं.

प्रवासियों व शरणार्थियों को जहाज़ों से, ऐसे स्थानों पर उतरने के लिये मजबूर होना पड़ सकता है, जहाँ उनके जीवन, सुरक्षा व अन्य मानवाधिकारों की गारण्टी नहीं दी जाती है, और अमानवीय बर्ताव या मनमाने ढंग से हिरासत में लिये जाने का ख़तरा होता है.

एजेंसी समूह ने स्पष्ट किया है कि समुद्री मार्ग पर लोगों को बचाए जाने के बाद भी, सदस्य देशों पर प्रवासियों की रक्षा का दायित्व है, जिसे पूरा किये जाने की आवश्यकता है.

दायित्वों का निर्वहन

समुद्री मार्ग पर बचाए गए हर व्यक्ति को, अन्तरराष्ट्रीय क़ानून के तहत तत्काल एक सुरक्षित स्थान पर ले जाया जाना ज़रूरी है, जहाँ उनके जीवन के लिये जोखिम ना हो, और भोजन, शरण, स्वास्थ्य जैसी बुनियादी आवश्यकताएँ पूरी की जा सकें. 

अन्तर-एजेंसी समूह के अनुसार, जीवन रक्षा व मौतों की रोकथाम करना, सदस्य देशों की सामूहिक प्राथमिकता है, और समुद्री क्षेत्र के लिये क़ानून के तहत, मुश्किल में फँसे हर व्यक्ति को बचाया जाना होगा और ज़रूरी सहायता प्रदान की जानी होगी.

इस क्रम में, प्रवासियों व शरणार्थियों के लिये ऐसी परिस्थितियाँ सृजित करने पर बल दिया गया है, जिनमें क़ानूनी दर्जे की परवाह किये बिना, मानवाधिकार सिद्धान्तों के लिये सम्मान और मानवीय बर्ताव सुनिश्चित किया जाए.

साथ ही यह भी सुनिश्चित किया जाना होगा कि समुद्री यात्रा में बचाए जाने के अभियान के दौरान, परिवारों के बिछुड़ने की घटनाओं की रोकथाम की जा सके. 

समूह ने देशों से अन्तरराष्ट्रीय व बहुपक्षीय सहयोग को मज़बूत करने के लिये प्रोत्साहित किया है, ताकि अनियमित प्रवासन को बढ़ावा दे रहे संगठित आपराधिक नैटवर्क से निपटा जा सके. 

इसके समानान्तर, तस्करी का शिकार प्रवासियों के साथ दुर्व्यवहार के मामलों की जाँच व दोषियों पर मुक़दमे की कार्रवाई की जानी होगी.

समूह का कहना है कि नाज़ुक हालात का सामना करने वाले प्रवासियों व शरणार्थियों की त्वरित शिनाख़्त की जानी होगी, विशेष रूप से बच्चों की. आवश्यकता अनुसार बच्चों के लिये अनुकूल प्रक्रियाओं का अनुपालन करना होगा, जहाँ उनकी ज़रूरतों का ख़याल रखा जा सके.

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिये यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एण्ड्रॉयड