डीआरसी में एक नेपाली शान्तिरक्षक की मृत्यु, हमले की कड़ी निन्दा

एक यूएन हैलीकॉप्टर काँगो लोकतांत्रिक गणराज्य (DRC) में देश के भीतर विस्थापित लोगों के लिये बनाए गए इतूरी शिविर में राहत सामग्री लाते हुए. पास ही एक यूएन शान्तिरक्षक चौकसी पर.
© UNICEF/Diana Zeyneb Alhindawi
एक यूएन हैलीकॉप्टर काँगो लोकतांत्रिक गणराज्य (DRC) में देश के भीतर विस्थापित लोगों के लिये बनाए गए इतूरी शिविर में राहत सामग्री लाते हुए. पास ही एक यूएन शान्तिरक्षक चौकसी पर.

डीआरसी में एक नेपाली शान्तिरक्षक की मृत्यु, हमले की कड़ी निन्दा

शांति और सुरक्षा

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश और सुरक्षा परिषद ने काँगो लोकतांत्रिक गणराज्य (DRC) में यूएन शान्तिरक्षकों पर सन्दिग्ध लड़ाकों द्वारा किये गए एक हमले की कड़ी निन्दा की है जिसमें एक नेपाली शान्तिरक्षक की मृत्यु हो गई.

Tweet URL

यूएन प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने अपने उप प्रवक्ता द्वारा जारी एक वक्तव्य में कहा है कि ये हमला इतूरी के बाली इलाक़े में मौजूद यूएन शान्तिरक्षकों पर हुआ.

ये शान्तिरक्षक काँगो लोकतांत्रिक गणराज्य में यूएन शान्तिरक्षा मिशन – MONUSCO से सम्बद्ध हैं और उन पर हमला सम्भवतः मिलिशिया गुट - Coopérative pour le dévelopement du Congo (CODECO) ने किया.

वक्तव्य में कहा गया है, “महासचिव ने इस हमले में जान बलिदान करने वाले शान्तिरक्षक के परिवार के साथ गहरी सम्वेदना व्यक्त की है. साथ ही नेपाल के लोगों और वहाँ की सरकार के साथ भी सहानुभूति व्यक्त की गई है.”

वक्तव्य में यह भी कहा गया है कि यूएन शान्तिरक्षकों पर हमले, युद्धापराधों के दायरे में परिभाषित किये जा सकते हैं.

एंतोनियो गुटेरेश ने डीआरसी की सरकार से इस हमले की जाँच कराने और ज़िम्मेदार तत्वों को जल्द से जल्द न्याय के कटघरे में लाने का आग्रह किया है.

उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र, डीआरसी की सरकार और वहाँ के लोगों को, देश के पूर्वी हिस्से में शान्ति व स्थिरता स्थापित करने में, अपने मिशन – MONUSCO के ज़रिये सहायता व समर्थन जारी रखेगा जिसमें 18 हज़ार कर्मचारी तैनात हैं.

बढ़ते हमलों पर सुरक्षा परिषद की चिन्ता

सुरक्षा परिषद के सदस्यों ने भी मंगलवार को हुए इस हमले में मारे गए नेपाली शान्तिरक्षक के परिवार के साथ गहरा शोक व्यक्त किया है.

परिषद ने डीआरसी के पूर्वी इलाक़ों में सशस्त्र गुटों की बढ़ती गतिविधियों पर भी चिन्ता व्यक्त की है और देश में सक्रिय तमाम सशस्त्र गुटों की एक बार फिर निन्दा की है.

सुरक्षा परिषद के सदस्यों ने, तमाम पक्षों से हिंसा तुरन्त बन्द करने मानवाधिकार व अन्तरराष्ट्रीय मानवीय क़ानून का उल्लंघन करना तुरन्त बन्द करने की पुकार भी लगाई है.