कोविड-19: WHO की चेतावनी, वायरस अभी ठण्डा नहीं हुआ है

जापान की राजधानी टोक्यो में, कोविड-19 से बचाव के लिये मास्क पहने हुए लोग.
© ADB/Richard Atrero de Guzman
जापान की राजधानी टोक्यो में, कोविड-19 से बचाव के लिये मास्क पहने हुए लोग.

कोविड-19: WHO की चेतावनी, वायरस अभी ठण्डा नहीं हुआ है

स्वास्थ्य

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने बुधवार को चेतावनी देते हुए कहा है कि कोविड-19 महामारी के ख़त्म होने की ग़लत जानकारी फैलने, मास्क हटाने, शारीरिक दूरी को ख़त्म करने और अधिक संक्रमणकारी ओमिक्रॉन बीए.2 वैरिएण्ट के फैलाव सहित अनेक कारणों से, वैश्विक स्तर पर कोविड-19 के मामलों में वृद्धि हो रही है. 

WHO के महानिदेशक डॉक्टर टैड्रोस ऐडहेनॉम घेबरेयेसस ने जिनीवा में पत्रकारों से बातचीत में कहा, "कोविड-19 के मामलों में कई हफ्तों की गिरावट के बाद, एक बार फिर वैश्विक स्तर पर बढ़त देखी गई है, ख़ासतौर पर एशिया के कुछ हिस्सों में."

एजेंसी ने पिछले सप्ताह के दौरान कोविड-19 के मामलों में क़रीब 8 प्रतिशत वृद्धि दर्ज की है और कोविड संक्रमण के लगभग एक करोड़ 10 लाख नए मामले देखे गए हैं. .

डॉक्टर टैड्रॉस ने कहा कि ये वृद्धि कुछ देशों में परीक्षण में कमी के बावजूद हो रही है, जिसका अर्थ है कि जो मामले हम देख रहे हैं वे सिर्फ़ वो केवल एक झलक भर है, असल संख्या कहीं ज़्यादा होगी. उन्होंने चेतावनी भरे शब्दों में कहा कि जब संक्रमण मामले बढ़ते हैं, तो मौतें भी होती हैं.

उन्होंने कहा कि स्थानीय स्तर पर प्रकोप और संक्रमण में वृद्धि अपेक्षित है, विशेष रूप से उन क्षेत्रों में जहाँ, संक्रमण को रोकने के उपाय हटा दिये गए हैं, लेकिन अनेक देशों में मृत्यु दर 'अस्वीकार्य रूप से उच्च' स्तर पर है, ख़ासकर जहाँ अतिसम्वेदनशील आबादी के बीच टीकाकरण का स्तर कम है.

"प्रत्येक देश अलग-अलग चुनौतियों के साथ एक अलग स्थिति का सामना कर रहा है, लेकिन महामारी खत्म नहीं हुई है."

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) कुछ देशों में टैस्टिंग क्षमता को पुख़्ता बनाने में मदद कर रहा है.
WHO/Nana Kofi Acquah
विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) कुछ देशों में टैस्टिंग क्षमता को पुख़्ता बनाने में मदद कर रहा है.

अनेक कारकों का पुलिन्दा

WHO की एक अन्य विशेषज्ञ डॉक्टर मारिया वॉन कर्कहॉव ने बताया कि दुनिया भर में संक्रमण वृद्धि में अनेक कारकों से हो रही है, जिनमें एक प्रमुख कारण अधिक संक्रमणकारी वैरिएण्ट का वजूद भी है.

डॉक्टर मारिया वॉन कर्कहॉव ने चेतावनी भरे शब्दों में कहा कि कोविड-19 का ओमिक्रॉन वैरिएण्ट अब भी दुनिया भर में बहुत तीव्र स्तर पर संक्रमण फैला रहा है.

COVID-19 मामलों पर प्रमुख तकनीकी लीड डॉक्टर मारिया वॉन कर्कहॉव ने बताया कि पिछले 30 दिनों के दौरान चार लाख से अधिक नमूने लिये गए और उनमें 99.9 प्रतिशत में संक्रमण का कारण ओमिक्रॉन वैरिएण्ट पाया गया और उसमें भी 75 प्रतिशत मामले बीए.2 प्रकार के थे.

"हम BA.2 के के संक्रमण मामलों में ज़्यादा गम्भीरता नहीं देखते हैं मगर इसके संक्रमण के कारण, भारी संख्या में लोग अस्पताल में दाख़िल होंगे और ऐसा देश दर देश देखा गया है.”

संक्रमण के मामलों में वृद्धि को प्रभावित करने वाला एक अन्य कारक - सार्वजनिक स्वास्थ्य और सामाजिक उपाय ख़त्म करना है.

डॉक्टर मारिया वॉन कर्कहॉव ने चेतावनी देते हुए कहा, "मास्क का उपयोग हटाना, शारीरिक दूरी बरते जाने को ख़त्म करना, लोगों की आवाजाही को सीमित करने वाले प्रतिबन्ध हटाना, इन सबसे, वायरस को फैलने का अवसर मिलता है."

उन्होंने ने यह भी बताया कि 'बडे पैमाने पर ग़लत सूचना' फैलने से भी लोगों में बहुत भ्रम फैल रहा है.

"ग़लत सूचना ये कि ओमिक्रॉन वैरिएण्ट हल्का है, ग़लत सूचना ये कि महामारी ख़त्म हो गई है, ग़लत सूचना ये कि यह अन्तिम वैरिएण्ट बचा है जिसका हमें मुक़ाबला करना है."