सीरिया: रासायनिक शस्त्र प्रयोग, अन्तरराष्ट्रीय समुदाय की अन्तरात्मा पर 'कलंक' समान

1 मार्च 2022

संयुक्त राष्ट्र के निरस्त्रीकरण मामलों की प्रमुख इज़ूमी नाकामीत्सू ने कहा है कि सीरिया में रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल, दण्ड-मुक्ति की भावना के साथ, क़तई "सहन" नहीं किया जाएगा.

सोमवार को सीरिया मुद्दे पर, सुरक्षा परिषद की बैठक में, निरस्त्रीकरण मामलों के उच्च प्रतिनिधि इज़ूमी नाकामीत्सू ने कहा, "रासायनिक हथियारों का किसी भी तरह का इस्तेमाल अस्वीकार्य है और पहले भी, इन हथियारों के उपयोग के लिये जवाबदेही तय कर पाने में अक्षमता, अन्तरराष्ट्रीय समुदाय की अन्तरात्मा पर कलंक बना है."

जानकारी

उन्होंने, निरस्त्रीकरण मामलों के कार्यालय (ODA) की गतिविधियों पर, रासायनिक हथियारों के निषेध सम्बन्धी संगठन (OPCW) के समकक्षों समेत, सभी राजदूतों को इस बारे में जानकारी दी. इसमें महानिदेशक, फर्नांडो एरियस के साथ एक नियमित मासिक कॉल भी शामिल थी.

निरस्त्रीकरण मामलों पर संयुक्त राष्ट्र की अवर महासचिव व उच्च प्रतिनिधि - इज़ूमी नाकामीत्सू (फ़ाइल)
UN Photo/Eskinder Debebe
निरस्त्रीकरण मामलों पर संयुक्त राष्ट्र की अवर महासचिव व उच्च प्रतिनिधि - इज़ूमी नाकामीत्सू (फ़ाइल)

उन्होंने बताया कि कोविड-19 महामारी के कारण यात्रा प्रतिबन्धों के बावजूद, OPCW तकनीकी सचिवालय ने सीरिया के रासायनिक हथियारों के उन्मूलन पर अपनी अनिवार्य गतिविधियाँ जारी रखी हैं.

इस बीच, OPCW घोषणा आकलन दल (DAT), सीरिया की तरफ़ से, रासायनिक हथियार सम्मेलन (CWC) के अनुसार दी गई घोषणाओं से सम्बन्धित बाक़ी मुद्दों पर जानकारी हासिल करने के प्रयासों में लगा है. 

उन्होंने कहा, "मुझे सलाह दी गई है कि OPCW सचिवालय को… हथियार बनाने वाले पूर्व-कारख़ानों में उत्पादित रासायनिक युद्ध एजेंट और/या हथियार” की अघोषित मात्रा पर अभी तक कोई जानकारी प्राप्त नहीं हुई है.”

ना ही सचिवालय को, 7 अप्रैल, 2018 को सीरिया से, डौमा में एक रासायनिक हथियार घटना से सम्बन्धित अनाधिकृत आवाजाही और दो नष्ट हुए सिलेण्डरों के अवशेषों के बारे में कोई जानकारी ही मिली है. उन्होंने सीरिया की सरकार से इन अनुरोधों का जवाब "जितनी जल्दी हो सके" देने का आग्रह किया.

इज़ूमी नाकामीत्सू ने सुरक्षा परिषद को बताया कि OPCW लगभग 10 महीनों से राजधानी दमिश्क में वार्ता आयोजित करने का प्रयास कर रहा है, लेकिन, सीरिया द्वारा एक सदस्य को प्रवेश वीज़ा जारी करने से "निरन्तर इनकार" के कारण वहाँ बैठक नहीं हो पा रही है.

अनसुलझे मुद्दे

पहचान किये गए अन्तरालों व अनसुलझी विसंगतियों के परिणामस्वरूप, OPCW फ़िलहाल, सीरिया द्वारा प्रस्तुत जानकारी का आकलन करने में असमर्थ है, और इसे CWC के मुताबिक़, सटीक एवं पूर्ण नहीं माना सकता है.

इज़ूमी नाकामीत्सू ने कहा, "मैं सरकार से अपना आहवान दोहराती हूँ ... जितनी जल्दी हो सके DAT की तैनाती की व्यवस्था की जाए ... यह केवल OPCW तकनीकी सचिवालय के पूर्ण सहयोग के ज़रिये सम्भव होगा ... कि सीरियाई अरब गणराज्य की प्रारम्भिक घोषणा से सम्बन्धित सभी लम्बित मुद्दों को समाप्त किया जा सके.”

उन्होंने कहा, "सीरिया के रासायनिक हथियार कार्यक्रम के पूर्ण उन्मूलन में अन्तरराष्ट्रीय समुदाय का विश्वास, इन मुद्दों के निपटारे पर निर्भर करता है."

तथ्यान्वेषी मिशन

OPCW का तथ्यान्वेशी मिशन (FFM), सीरिया में रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल के आरोप सम्बन्धी सभी उपलब्ध सूचनाओं का विश्लेषण कर रहा है और कोविड-19 महामारी के प्रसार पर नज़र रखते हुए, अगली तैनाती की तैयारी कर रहा है.

मिशन की एक रिपोर्ट के अनुसार, यह मानने के उचित आधार हैं कि 1 सितम्बर, 2015 को एक रासायनिक ब्लिस्टरिंग एजेंट का उपयोग किया गया था. हालाँकि, हथियारों के रूप में रसायनों का इस्तेमाल किया गया था या नहीं, यह स्थापित नहीं किया जा सका है.

1 अक्टूबर 2016 को कफ़्र ज़ीता की एक घटना पर एक अन्य रिपोर्ट में, मिशन ने यह निष्कर्ष निकाला है कि यह मानने के "उचित आधार" थे कि क्लोरीन सिलेण्डर वास्तव में "एक हथियार के रूप में इस्तेमाल किया गया था."

मिशन की दोनों रिपोर्ट्स की एक प्रति, इस महीने के शुरू में परिषद के साथ साझा की गई थी.

इस बीच, जाँच और पहचान दल (Investigation and Identification Team) उन घटनाओं की जाँच कर रहा है, जिनमें तथ्यान्वेशी मिशन ने यह निर्धारित किया है कि सीरिया में रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल किया गया था, या हो सकता है किया गया हो, और कुछ समय में इसपर आगे की रिपोर्ट जारी करेगा.

OPCW को 'पूर्ण समर्थन'

संयुक्त राष्ट्र निरस्त्रीकरण प्रमुख ने कहा कि अन्तरराष्ट्रीय शान्ति और सुरक्षा के लिये प्राथमिक ज़िम्मेदारी के अलावा, "सुरक्षा परिषद में एकता होना भी आवश्यक है." साथ ही, रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल के लिये ज़िम्मेदार होने के रूप में पहचाने जाने वालों की जवाबदेही भी तय की जानी चाहिये.

उन्होंने याद दिलाया कि "अन्तरराष्ट्रीय क़ानून के ऐसे गम्भीर उल्लंघन अनसुलझे नहीं रह सकते."

उन्होंने सदस्यों से अपने मतभेदों को "अलग रखने" और एक राजनैतिक समाधान तक पहुँचने के प्रयासों पर अपना ध्यान केन्द्रित करने का आग्रह किया, जिसमें आवश्यक स्वतन्त्रता एवं मानवाधिकार शामिल हों, और वो लोग जवाबदेह ठहराए जा सकें, जो रासायनिक शस्त्रों का इस्तेमाल करते हैं. 

"केवल एकजुटता और साझा मानवता के ज़रिये ही हम सीरियाई लोगों की पीड़ा को कम कर सकते हैं और न्याय, शान्ति व सुलह की ओर बढ़ सकते हैं."

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिये यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एण्ड्रॉयड