इथियोपिया: शिविर पर जानलेवा हमला, हज़ारों ऐरीट्रियाई शरणार्थियों ने भागकर बचाई जान

18 फ़रवरी 2022

शरणार्थी मामलों के लिये संयुक्त राष्ट्र एजेंसी (UNHCR) ने बताया है कि इथियोपिया के अफ़ार क्षेत्र के एक शिविर में शरण लेने वाले हज़ारों शरणार्थी, एक जानलेवा हमले के बाद अपनी जान बचाकर भागने के लिये मजबूर हुए हैं. 

यूएन एजेंसी के प्रवक्ता ने शुक्रवार को जिनीवा में पत्रकारों को जानकारी देते हुए कहा कि बराहले के शिविर पर 3 फ़रवरी को ये हमला अज्ञात हमलावरों ने ऐरीट्रिया के शरणार्थियों पर किया.

प्रत्यक्षदर्शी शरणार्थियों ने बताया कि इस इलाक़े के लड़ाई की चपेट में आने के बाद वहाँ आतंक और अफ़रातफ़री मच गई. 

यूएन एजेंसी के प्रवक्ता बॉरिस चेशिरकोफ़ के अनुसार, “जो शरणार्थी लम्बी दूरी चलकर, सेमेरा में क्षेत्र की राजधानी तक पहुँचे हैं, उन्होंने UNHCR कर्मचारियों को बताया है कि हथियारबन्द लोगों ने 3 फ़रवरी को शिविर में प्रवेश किया.”

“उनके सामान को चुरा लिया गया और घरों पर क़ब्ज़ा कर लिया गया.”

इस हमले में कम से कम पाँच शरणार्थियों की मौत होने की ख़बर मिली है. शिविर से भागने की अफ़रातफ़री में कुछ परिवारों के सदस्य बिछड़ गए हैं.

इथियोपिया के टीगरे क्षेत्र में नवम्बर 2020 में भड़के हिंसक टकराव के बाद, देश में रहने वाले ऐरीट्रिया के नागरिकों के लिये यह हमला, पहले से मौजूद चुनौतियों की कड़ी में एक नई घटना है. 

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त कार्यालय (OHCHR) और इथियोपिया के मानवाधिकार आयोग ने नवम्बर 2021 में बताया था कि टीगरे और इथियोपिया के सुरक्षा बलों की वजह से शिमेल्बा शिविर में हज़ारों लोगों की सुरक्षा व जान के लिये ख़तरा पैदा हो गया. 

इथियोपिया के उत्तरी क्षेत्र टीगरे की राजधानी में मेकैल्ले, विस्थापित बच्चे, पानी भरते हुए.
©UNICEF/ Esiey Leul
इथियोपिया के उत्तरी क्षेत्र टीगरे की राजधानी में मेकैल्ले, विस्थापित बच्चे, पानी भरते हुए.

ये घटनाएँ नवम्बर 2020 और जनवरी 2021 के दौरान की हैं.

भय का माहौल

अफ़ार में इस हमले के बाद क़रीब चार हज़ार शरणार्थी सेमेरा पहुँचे हैं, जहाँ यूएन एजेंसी द्वारा उन्हें आश्रय, राहत सामग्री, भोजन व स्वच्छ जल मुहैया कराया जा रहा है.

10 हज़ार अन्य शरणार्थियों के अफ़देरा नगर में रहने की रिपोर्टें मिली हैं, जोकि सेमेरा से क़रीब 225 किलोमीटर दूर स्थित है.

पिछले महीने ही, यूएन एजेंसी ने अन्तरराष्ट्रीय समुदाय से आग्रह किया था कि उत्तरी इथियोपिया में लड़ाई रोके जाने के लिये और अधिक प्रयास किये जाने होंगे. 

संगठन के मुताबिक़, टीगरे क्षेत्र में शरण लेने वाले ऐरीट्रिया के शरणार्थियों के पास पर्याप्त भोजन नहीं है और वे डरे हुए हैं. 

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिये यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एण्ड्रॉयड