अफ़्रीका, दुनिया के लिये आशा का स्रोत – यूएन प्रमुख

सिएरा लियोन में बीजों की बोरियों के साथ एक महिला किसान.
FAO/Sebastian Liste
सिएरा लियोन में बीजों की बोरियों के साथ एक महिला किसान.

अफ़्रीका, दुनिया के लिये आशा का स्रोत – यूएन प्रमुख

आर्थिक विकास

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने अफ़्रीका को, दुनिया के लिये आशा का एक स्रोत क़रार देते हुए ध्यान दिलाया है कि पिछले दो दशकों में अफ़्रीकी संघ ने महाद्वीप में निहित असीम सम्भावनाओं को साकार करने में अहम भूमिका निभाई है.

यूएन प्रमुख ने शनिवार को अफ़्रीकी संघ के राष्ट्राध्यक्षों और सरकार प्रमुखों की 35वीं सभा को एक वीडियो सन्देश के ज़रिये सम्बोधित किया है.

Tweet URL

यह असेम्बली इथियोपिया की राजधानी अदीस अबाबा में आयोजित की गई है, जहाँ यूएन उप महासचिव आमिना मोहम्मद, महासचिव का प्रतिनिधित्व कर रही हैं.

यूएन प्रमुख ने ज़ोर देकर कहा कि अफ़्रीकी संघ और संयुक्त राष्ट्र के बीच रचनात्मक सहयोग पहले से कहीं अधिक मज़बूत है.

इस क्रम में, टिकाऊ विकास के 2030 एजेण्डा और एजेण्डा 2063 के स्तम्भों पर विकास प्रक्रिया को आगे बढ़ाया जा रहा है.

ग़ौरतलब है कि एजेण्डा 2063, एक शान्तिपूर्ण, एकीकृत और अधिक समृद्ध अफ़्रीकी महाद्वीप के लिये एक ब्लूप्रिन्ट है.

यूएन प्रमुख ने सचेत किया कि वैश्विक प्रणालियों में अन्याय, गहराई तक समाया हुआ है, मगर उसकी सबसे अधिक क़ीमत अफ़्रीकियों को चुकानी पड़ रही है.

उन्होंने कहा कि उच्च-आय देशों में कोविड-19 से बचाव के लिये टीकाकरण की दर, अफ़्रीका से सात गुना अधिक है.

साथ ही, नैतिक रूप से दिवालिया हो चुकी वैश्विक वित्तीय प्रणाली ने दक्षिणी गोलार्ध में स्थित देशों को उनके हाल पर छोड़ दिया है.

“अनैतिक विषमताएँ जोकि अफ़्रीका का दम घोंटती हैं, वो सशस्त्र संघर्ष भड़काती हैं, राजनैतिक, आर्थिक, जातीय और सामाजिक तनावों, मानवाधिकार उल्लंघनों, महिलाओं के विरुद्ध हिंसा, आतंकवाद, सैन्य तख़्तापलट और दण्डमुक्ति की भावना को हवा देती हैं.”

यूएन प्रमुख ने कहा कि इन्हीं कारणों से लाखों की संख्या में लोग विस्थापित हुए हैं, और लोकतांत्रिक संस्थाओं पर जोखिम मंडरा रहा है.

चार अहम उपाय

उन्होंने भरोसा दिलाया कि पुनर्बहाली के चार इंजनों में फिर से ऊर्जा भरने के लिये समर्थन देने हेतु यूएन तत्पर है.

पहला, हर किसी को कोविड-19 संक्रमण से बचाव के लिये वैक्सीन दी जानी होगी.

दूसरा, वैश्विक वित्तीय प्रणाली में सुधार के लिये सदस्य देशों को आर्थिक पुनर्बहाली के इंजन को फिर से शुरू करना होगा. 

तीसरा, अफ़्रीकी महाद्वीप पर हरित पुनर्बहाली के लिये सतत प्रयास किये जाने होंगे.

चौथा, अफ़्रीका में शान्ति स्थापित की जानी होगी, जिससे पुनर्बहाली के लिये अनुकूल माहौल का निर्माण हो सकता है. 

महासचिव ने कहा कि अफ़्रीकी महाद्वीप पर बहु-जातीय, बहु-धार्मिक और बहु-सांस्कृतिक देश हैं, और इस नज़रिये से, अफ़्रीकी संघ जैसा संगठन सह-अस्तित्व और आपस में मिलकर फलने-फूलने की भावना को दर्शाता है.