कोविड-19 के कारण, पर्यटन क्षेत्र को हो सकता है 2 ट्रिलियन डॉलर का नुक़सान

29 नवंबर 2021

संयुक्त राष्ट्र के विश्व पर्यटन संगठन – WTO ने सोमवार को कहा है कि कोरोनावायरस महामारी के कारण, दुनिया भर में पर्यटन क्षेत्र को वर्ष 2021 के दौरान, लगभग दो ट्रिलियन डॉलर का नुक़सान होगा. संगठन ने पर्यटन क्षेत्र की पुनर्बहाली को नाज़ुक और धीमी बताया है.

विश्व पर्यटन संगठन के ताज़ा अनुमान व आकलन के अनुसार, इतने ही बड़े धन का नुक़सान, वर्ष 2020 के दौरान हुआ था, इस तरह कोविड-19 के कारण उत्पन्न संकट से सर्वाधिक प्रभावित क्षेत्रों में पर्यटन भी शामिल रहा है.

इस ताज़ा रिपोर्ट में आगाह भी किया गया है कि हाल के समय में आई कुछ बेहतरी के बावजूद, यात्रा के लिये मांग, दुनिया भर में वैक्सीन टीकाकरण की असमान दर और कोविड-19 के नए वैरिएण्ट्स के कारण, अभी और समय तक प्रभावित रह सकती है.

ग़ौरतलब है कि कोरोनावायरस के नए वैरिएण्ट्स के कारण, कुछ देशों में नई यात्रा पाबन्दियाँ लगाई गई हैं.

पिछले कुछ दिनों के दौरान ही, ओमिक्रॉन वैरिएण्ट का वजूद सामने आने के बाद, अनेक देशों में विदेशों से आने वाले लोगों के लिये यात्रा पाबन्दियाँ फिर से लगा दी गई हैं, या कोविड-19 से सम्बन्धित पाबन्दियों और टैस्टिंग नियमों में प्रस्तावित ढील, फ़िलहाल टाल दी गई है.

इस स्थिति के कारण, दुनिया भर में छुट्टियाँ मनाने और पर्यटन के लिये यात्रा करने वाले लोगों के लिये अनिश्चितता बढ़ गई है.

तेल की क़ीमतों में उछाल और वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला में व्यवधान उत्पन्न होने का भी प्रभाव पड़ा है. 

विश्व पर्यटन संगठन के ताज़ा आँकड़ों के अनुसार, वर्ष 2021 के दौरान, भी अन्तरराष्ट्रीय सैलानियों की संख्या, वर्ष 2019 की तुलना में, 70-75 प्रतिशत रहने का ही अनुमान है, जोकि वर्ष 2020 के दौरान भी लगभग इतनी ही थी.

चौकसी कम नहीं जा सकती

वैसे तो इस वर्ष सैलानियों की आमद में, जुलाई से सितम्बर के दौरान, 2020 की इसी अवधि की तुलना में, 58 प्रतिशत बढ़ोत्तरी दर्ज की गई थी, फिर भी ये बढ़ोत्तरी, वर्ष 2019 के स्तर से अब भी 64 प्रतिशत कम है.

विश्व पर्यटन संगठन के महासचिव ज़ूरब पोलोलिकशविली के अनुसार, वर्ष 2021 की तीसरी तिमाही में आँकड़े उत्साहवर्धक रहे हैं, फिर भी पर्यटकों की आमद, महामारी शुरू होने से पहले के दौर की तुलना में, अब भी 76 प्रतिशत नीचे हैं और दुनिया भर के विभिन्न क्षेत्रों में ये परिणाम असमान हैं.

उन्होंने कहा कि कोरोनावायरस के बढ़ते मामलों और नए वैरिएण्ट्स के उभार के वातावरण में, चौकसी में कोताही नहीं बरती जा सकती, और वैक्सीन की समान उपलब्धता सुनिश्चित करने, यात्रा प्रक्रियाओं में तालमेल बिठाने, टीकाकरण के प्रणाण-पत्र डिजिटल रूप में मुहैया कराने, और पर्यटन क्षेत्र को समर्थन व सहायता जारी रखने के लिये प्रयास जारी रखे जाने होंगे.

इस वर्ष की तीसरी तिमाही में कुछ बेहतरी देखे जाने के बावजूद, पुनर्बहाली की रफ़्तार धीमी है और दुनिया के विभिन्न क्षेत्रों में असमान भी है.

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिये यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एण्ड्रॉयड