अन्तरराष्ट्रीय युवजन दिवस: बेहतर भविष्य के निर्माण में युवाओं की भागीदारी पर बल

12 अगस्त 2021

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने गुरूवार, 12 अगस्त, को 'अन्तरराष्ट्रीय युवजन दिवस' के अवसर पर ध्यान दिलाया है कि सर्वजन के लिये एक बेहतर भविष्य के निर्माण की दिशा में किये जा रहे प्रयासों में, युवजन अग्रिम पंक्ति में खड़े हैं.  

महासचिव गुटेरेश ने कहा कि युवजन, खाद्य सुरक्षा मे पसरी विसंगतियों, जैवविविधता को पहुँचे नुक़सान, हमारे पर्यावरण पर मंडराते ख़तरों और अन्य अनेक चुनौतियों से मुक़ाबला कर रहे हैं.

“हम वही लगन, सृजनात्मकता, और संकल्प अनेक अन्य क्षेत्रों में देखते हैं – लैंगिक समानता से लेकर शिक्षा और कौशल विकास तक.” 

इस वर्ष मनाए जा रहे ‘अन्तरराष्ट्रीय युवजन दिवस’ के अवसर पर मौजूदा खाद्य प्रणालियों के समक्ष प्रस्तुत चुनौतियों से निपटने के लिये, युवा नवप्रवर्तकों (innovators) द्वारा विकसित समाधानों को रेखांकित किया जा रहा है.

महासचिव ने अपने वीडियो सन्देश में कहा कि कोविड-19 महामारी ने ऐसे रूपान्तरकारी बदलावों की सख़्त आवश्यकता को रेखांकित किया है, जिन्हें युवा साकार होते देखना चाहते हैं.

“और युवाओं को इस प्रयास में पूर्ण रूप से साझीदार बनाना होगा.” 

महासचिव गुटेरेश ने आगाह किया कि युवा लोग ये सब कुछ अपने आप नहीं कर सकते. 

उन्होंने ज़ोर देकर कहा कि युवाओं को साथियों की आवश्यकता है, यह सुनिश्चित करने के लिये उन्हें शामिल किया जाना होगा, उनकी बातें सुनी व समझी जानी होंगी. 

संयुक्त राष्ट्र प्रणाली की अगुवाई में ‘युवा2030’ (Youth2030) नामक रणनीति के ज़रिये यूएन, दुनिया भर में युवाओं के लिये और उनके साथ, अपने काम को मज़बूती प्रदान कर रहा है.

महासचिव गुटेरेश ने सर्वजन के लिये समावेशन, निष्पक्षता और टिकाऊ विकास पर आधारित विश्व के निर्माण में युवाओं की भागीदारी सुनिश्चित किये जाने का आग्रह किया है.

युवा महोत्सव

इस बीच, युवा मामलों के लिये यूएन महासचिव की विशेष दूत ने गुरूवार को, वर्चुअल नवप्रवर्तन महोत्सव में दुनिया भर से शिरकत कर रहे हज़ारों युवाओं का स्वागत किया है. 

दो दिन तक चलने वाले इस कार्यक्रम में प्रतिभागी, नवप्रवर्तन व टैक्नॉलॉजी की अहमियत और कोविड-19 से पुनर्बहाली और टिकाऊ विकास लक्ष्य हासिल करने में उनकी भूमिका पर चर्चा करेंगे.

युवा मामलों की दूत जयाथमा विक्रमानायके ने कहा कि युवजन, रोज़मर्रा के जीवन में बहुआयामी चुनौतियाँ झेलने के बावजूद, नए समाधान विकसित करने में सबसे आगे खड़े हैं और अपने समुदायों के स्तम्भ बन रहे हैं. 

उन्होंने भरोसा जताया कि समुदायों की सहनक्षमता विकसित करने, नए समाधान पेश करने, सामाजिक प्रगति को आगे बढ़ाने और पारदर्शी व समावेशी राजनैतिक बदलाव को साकार करने में उनका योगदान जारी रहेगा. 

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिये यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एण्ड्रॉयड