इसराइल और हमास के बीच युद्धविराम की घोषणा का स्वागत

20 मई 2021

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने इसराइल और फ़लस्तीनी चरमपंथी गुट हमास के बीच युद्धविराम की घोषणा का स्वागत किया है. 11 दिनों से जारी इसराइली हवाई कार्रवाई और हमास द्वारा किये जा रहे रॉकेट हमलों में 240 से अधिक लोगों की मौत हुई है और हज़ारों घायल हुए हैं, जिनमें से अधिकाँश हताहत ग़ाज़ा में हैं.

यूएन प्रमुख ने युद्धविराम के अमल में आने से कुछ समय पहले, न्यूयॉर्क स्थित संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए इस सम्बन्ध में जानकारी दी.

"मैं, 11 दिनों की घातक हिंसा व लड़ाई के बाद, ग़ाज़ा और इसराइल में युद्धविराम का स्वागत करता हूँ."

उन्होंने इसराइल और क़ाबिज़ फ़लस्तीनी इलाक़ों में, इस हिंसा के पीड़ितों और उनके परिजनों के प्रति अपनी गहरी सम्वेदनाएँ व्यक्त की हैं.

ख़बरों के मुताबिक हिंसा में 232 फ़लस्तीनियों की मौत हुई है जिनमें 60 बच्चे हैं. इसराइल में हमास व अन्य चरमपंथी गुटों द्वारा किये गए रॉकेट हमलों में 12 लोगों की मौत हुई है.

यूएन प्रमुख ने यूएन के साथ मिलकर, मध्यस्थता प्रयासों को आगे बढ़ाने के लिये, मिस्र व क़तर का आभार व्यक्त किया है, जिससे ग़ाज़ा और इसराइल में शान्ति बहाल करने में मदद मिली है.

महासचिव गुटेरेश ने सभी पक्षों से युद्धविराम का पालन करने का आहवान किया है.

समन्वित प्रयासों पर बल

उन्होंने कहा कि वृहद अन्तरराष्ट्रीय समुदाय के लिये, संयुक्त राष्ट्र के साथ मिलकर प्रयास करना ज़रूरी है ताकि त्वरित और टिकाऊ पुनर्निर्माण व पुनर्बहाली के लिये एकीकृत व स्फूर्त पैकेज को तैयार किया जा सके.

इसका उद्देश्य फ़लस्तीनी जनता और उनकी संस्थाओं को समर्थन देना होगा.

महासचिव गुटेरेश ने आगाह किया कि इसराइल और फ़लस्तीनी नेताओं का यह दायित्व है कि शान्ति बहाली से आगे बढ़ते हुए, टकराव के मूल कारणों को दूर करने के लिये गम्भीर बातचीत की शुरुआत की जाए.

उन्होंने ग़ाज़ा को भावी फ़लस्तीन देश का एक अविभाज्य हिस्सा बताया और कहा कि दरारों को पाटने के लिये वास्तविक राष्ट्रीय मेलमिलाप प्रयासों को सम्भव बनाना होगा.

ग़ौरतलब है कि वर्ष 2006 में चुनावों में जीत के बाद से ही हमास का ग़ाज़ा पर नियंत्रण है और विरोधी फ़ताह गुट को वहाँ से धकेल दिया गया है जिसके पास पश्चिमी तट इलाक़े में सत्ता है.

यूएन प्रमुख ने, अन्तरराष्ट्रीय व क्षेत्रीय साझीदारों के सहयोग से, इसराइलियों व फ़लस्तीनियों के साथ मिलकर काम करने के अपने मज़बूत संकल्प को रेखांकित किया है.

उन्होंने ज़ोर देकर कहा कि अर्थपूर्ण बातचीत के ज़रिये क़ब्ज़े का अन्त करना होगा और दो देशों के समाधान को यूएन प्रस्तावों, अन्तरराष्ट्रीय क़ानून और पारस्परिक समझौते के आधार पर मूर्त रूप प्रदान करना होगा.

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिये यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एण्ड्रॉयड