वेनेज़ुएला के 17 लाख लोगों को कोलम्बिया द्वारा अस्थाई संरक्षा प्रदान किये जाने का स्वागत

9 फ़रवरी 2021

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने सोमवार को कोलम्बिया के राष्ट्रपति की उस घोषणा की सराहना की है जिसके अनुसार देश में रह रहे वेनेज़ुएला के सभी प्रवासियों व शरणार्थियों को अस्थाई संरक्षा प्रदान की जाएगी. राष्ट्रपति इवान डुके मार्केज़ द्वारा उठाए गए इस क़दम से वेनेज़ुएला के लगभग 17 लाख विस्थापितों को लाभ पहुँचेगा और स्वास्थ्य सहित अन्य बुनियादी व आवश्यक सेवाओं तक उनकी पहुँच सम्भव हो सकेगी. 

महासचिव गुटेरेश के प्रवक्ता ने मंगलवार को उनकी ओर से जारी एक बयान में कहा कि एकजुटता भरा यह महत्वपूर्ण क़दम, क्षेत्र में, वेनेज़ुएला के लगभग 50 लाख शरणार्थियों और प्रवासियों में से एक तिहाई को बुनियादी सेवाओं तक पहुँच बनाने और कोलम्बियाई अर्थव्यवस्था में औपचारिक रूप से योगदान करने का अवसर मुहैया कराएगा. 

महासचिव द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि कोलम्बिया ने यह क़दम एक ऐसे समय में उठाया है जब देश कोविड-19 महामारी के कारण भारी स्वास्थ्य व आर्थिक चुनौतियों से जूझ रहा है. 

यूएन प्रमुख ने उम्मीद जताई है कि वेनेज़ुएला के शरणार्थियों व प्रवासियों को अस्थाई संरक्षा दर्जा हासिल होने से महामारी से उबरने की प्रक्रिया में मदद मिलेगी और वे कोलम्बिया की स्वास्थ्य व अन्य बुनियादी सेवाओं का लाभ उठा पाएँगे. 

महासचिव गुटेरेश ने भरोसा दिलाया है कि कोलम्बिया व वेनेज़ुएला के निर्बल और ज़रूरतमन्द नागरिकों की मदद के लिये संयुक्त राष्ट्र - कोलम्बिया की सरकार व स्थानीय जनता के साथ एकजुट है. 

यूएन शरणार्थी एजेंसी के प्रमुख फ़िलिपो ग्रैण्डी इन दिनों कोलम्बिया के दौरे पर हैं, और उन्होंने इस घोषणा का स्वागत किया है. 

उन्होंने इसे एक निडर मानवीय भाव क़रार दिया है जोकि क्षेत्र और शेष दुनिया के लिये एक उदाहरण पेश करेगा.

"वेनेज़ुएला के 17 लाख विस्थापित लोगों के लिये यह, जीवन बदल देने वाला एक क़दम है जिन्हें अब ज़्यादा संरक्षा, सुरक्षा और स्थिरता हासिल हो सकेगी, ऐसे समय में, जब वे घर से दूर हैं.” 

“हम इस अभूतपूर्व उदारता के लिये और वेनेज़ुएला के विस्थापित लोगों की संरक्षा के प्रति संकल्प सुनिश्चित करने के वास्ते, कोलम्बिया की सराहना करते हैं. यह निर्णय, मानवता और यथार्थवाद का एक उदाहरण पेश करेगा.” 

अन्तरराष्ट्रीय प्रवासन एजेंसी (IOM) के प्रमुख एन्तोनियो वितोरीनो ने भी इस क़दम का स्वागत करते हुए कहा है कि इससे वेनेज़ुएला के शरणार्थियों व प्रवासियों के सामाजिक-आर्थिक जीवन में, एकीकरण में मदद मिलेगी. 

साथ ही राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्रणालियों और कोविड-19 टीकाकरण मुहिम तक भी, उनकी पहुँच सम्भव हो सकेगी.

“कोलम्बिया की सरकार ने एक बार फिर, महान एकजुटता और नेतृत्व का परिचय दिया है. यह निर्णय दुनिया के लिये एक उदाहरण है.”

यूएन शरणार्थी एजेंसी के मुताबिक, कोरोनावायरस संकट के दौरान पूरे क्षेत्र में ज़रूरतें और बढ़ गई हैं. बड़ी संख्या में वेनेज़ुएला के शरणार्थियों व प्रवासियों, और स्थानीय समुदायों को, गुज़र-बसर के लिये संघर्ष करना पड़ रहा है. 

निर्धनता बहुत बढ़ रही है, रोज़गार ख़त्म हो रहे हैं, लोगों को मकानों से बाहर निकाला जा रहा है, भुखमरी बढ़ी है और भोजन व स्वास्थ्य सेवाओं की सुलभता का अभाव है. 

बताया गया है कि अस्थाई संरक्षा दर्जा हासिल होने से वेनेज़ुएला के शरणार्थियों व प्रवासियों को बुनियादी सेवाओं तक पहुँचने में मदद मिलेगी. साथ ही उनके दर्जे को नियमित बनाए जाने से रोज़गार सहित जीवन में अन्य दीर्घकालीन समाधानों की तलाश भी पूरी हो सकती है. 

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिये यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एण्ड्रॉयड