लीबिया में, युद्धविराम के शान्ति लाभ, अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिये प्रयास शुरू

16 दिसम्बर 2020

लीबिया में गृहयुद्ध को रोकने वाले, अक्टूबर में हुए युद्धविराम के अच्छे आर्थिक नतीजे मिलने शुरू हो गए हैं जिनसे देश के सामान्य लोगों के जीवन में कुछ बेहतरी आने की उम्मीद की जा रही है. केन्द्रीय बैंक के बोर्ड की बैठक, पाँच साल के व्यवधान के बाद शुरू हुई है और तेल उत्पादन भी पूरी रफ़्तार के साथ शुरू हो गया है, जिससे राजनैतिक परिवर्तन की प्रक्रिया तेज़ करने में मदद मिलेगी.

ध्यान रहे कि लीबिया के युद्धरत पक्षों के बीच अक्टूबर में लड़ाई रोकने पर सहमति हुई थी, जिसके बाद शान्ति प्रक्रिया शुरू हुई और इसी के तहत 24 दिसम्बर 2021 को चुनाव कराए जाएँगे.

लीबिया में संयुक्त राष्ट्र के सहायता मिशन (UNSMIL) के एक वक्तव्य में कहा गया है कि देश में सामान्य स्थिति बहाल करने के लिये, बिखरी हुई अर्थव्यवस्था को फिर से पटरी पर लाया जाना बहुत ज़रूरी है.

इन्हीं प्रयासों के लिये, देश के आर्थिक संस्थानों के प्रतिनिधियों ने जिनीवा में, सोमवार और मंगलवार को बैठकों में शिरकत की. अब ये प्रतिनिधि महत्वपूर्ण आर्थिक सुधार करने और देश की अर्थव्यवस्था के प्रबन्धन में आम जनता का भरोसा बहाल करने के लिये काम कर रहे हैं.

यूएन मिशन की कार्यवाहक विशेष दूत स्टैफ़नी विलियम्स ने लीबियाई राजनैतिक संवाद मंच (LPDF) कहा, “जिनीवा की ये बैठक आर्थिक रास्ते पर कुछ सकारात्मक घटनाक्रम के सन्दर्भ में हुई है. इनमें तेल उत्पादन फिर से पूरी तरह शुरू किया जाना शामिल है.”

लीबपियाई राजनैतिक संवाद मंच में लीबियाई समाज के व्यापक दायरे के प्रतिनिधि शामिल हैं.

विनिमय दर 

सोमवार और मंगलवार की बातचीत के बाद, केन्द्रीय बैंक के निदेशक बोर्ड की भी पिछले पाँच साल में पहली बार, बुधवार को बैठक हुई जिसमें देश की मुद्रा विनिमय दर निर्धारित करने पर सहमति हुई.

इसे एक ऐसा सकारात्मक क़दम मान  जा रहा है जिससे लीबियाई मुद्रा को स्थिर करने और भ्रष्टाचार का मुक़ाबला करने में मदद मिलेगी.

यूएन मिशन का कहना है कि ये निर्णय लीबियाई लोगों के लिये महत्वपूर्ण उम्मीदों का एक स्रोत है, और एक अच्छा संकेत भी कि केन्द्रीय बैंक इन क़दमों के साथ आगे बढ़ रहा है. 

याद रहे कि लीबियाई सरकार और लीबियाई नेशनल आर्मी के बीच युद्धविराम समझौता हुए अभी दो महीने भी पूरे नहीं हुए हैं.

यूएन विशेष दूत स्टैफ़नी विलियम्स का कहना है, “ये सभी लीबियाई नागरिकों के लिये बहुत अहम पड़ाव है, ख़ासतौर से देश की राजनैतिक हस्तियों के लिये – लीबियाई लोगों की ख़ातिर, और देश की सम्प्रभुता और देश के संस्थानों की लोकतान्त्रिक वैधता बहाल करने और अपने निजी हित एक तरफ़ रखने और आपसी मतभेदों को भुलाने के लिये - इसी तरह का साहस, संकल्प और नेतृत्व दिखाने का.”

तेल राजस्व

जिनीवा की इस बैठक में सरकार के बजट और सार्वजनिक सैक्टर की वेतन व्यवस्था, बुनियादी ढाँचे का राजस्व, बढ़ते राष्ट्रीय क़र्ज़ का प्रबन्धन और कोविड-19 महामारी के ख़तरे पर भी विचार किया गया.

लीबिया के असीम तेल राजस्व पर बहुत कुछ निर्भर करता है जिसे सितम्बर से ही लीबियाई विदेशी बैंक में सील रखा गया है. स्टैफ़नी विलियम्स ने कहा है कि इस तेल राजस्व को ख़र्च के लिये खोलना, इस पर निर्भर करता है कि लीबियाई राजनैतिक संवाद मंच में क्या नतीजे हासिल किये जाते हैं.

उन्होंने कहा कि लेकिन, अब आर्थिक रास्ते पर कुछ हलचल नज़र आ रही है, और इससे ये झलकता है कि देश में बदलाव के लिये समर्थन मिल रहा है.

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लि/s यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एण्ड्रॉयड