एस्टोनिया, भारत और रवाण्डा की निवेश प्रोत्साहन एजेंसियाँ पुरस्कृत

15 दिसम्बर 2020

संयुक्त राष्ट्र के व्यापार और विकास संगठन - UNCTAD ने कोविड-19 महामारी से निपटने के प्रयासों में उत्कृष्टता के लिये भारत, रवाण्डा और एस्टोनिया की निवेश प्रोत्साहन एजेंसियों को सम्मानित किया है.

अंकटाड ने कोविड-19 महामारी से निपटने के प्रयासों में उत्कृष्टता के लिये तीन निवेश प्रोत्साहन एजेंसियों को सम्मानित किया है.

कोस्टारीका की निवेश प्रोत्साहन प्रमोशन एजेंसी को लैंगिक निवेश प्रोत्साहन को मुख्यधारा में लाने के लिये विशेष मान्यता पुरस्कार से नवाज़ा गया है.

2020 के वैश्विक निवेश प्रोत्साहन सम्मेलन के दौरान इन विजेताओं की घोषणा की गई थी.

यह सम्मेलन, अंकटाड द्वारा विश्व की निवेश प्रोत्साहन एजेंसियों के संगठन (WAIPA) की साझेदारी में आयोजित, विश्व निवेश फ़ोरम का एक सहायक कार्यक्रम है.

अंकटाड के महासचिव मुखिसा कितूयीऔर WAIPA के अध्यक्ष, फ़हद अल गेरगवी ने, 7 दिसम्बर को दो दिवसीय ऑनलाइन कार्यक्रम का आयोजन किया था. 

अंकटाड के महासचिव ने कहा, “कोविड-19 की पृष्ठभूमि में, निवेश को बढ़ावा देना पहले से कहीं अधिक महत्वपूर्ण है. महामारी ने निवेश प्रोत्साहन एजेंसियों और अन्य सरकारी संस्थानों,  जैसेकि निवेश को बढ़ावा और सुविधा प्रदान करने वाले विशेष आर्थिक क्षेत्र, की अहम भूमिका को उजागर किया है.”

“उनका ध्यान अब संकट सहायता व राहत से, पुनर्बहाली और अन्ततः सुधार की ओर जा रहा है. चूँकि कई एजेंसियाँ नई रणनीतियाँ बनाने में लगीं है, उन्हें निवेश प्रोत्साहन के परिणामों को समझने के लिये निवेश के रुझान और नीतिगत विकास से अवगत रहना ज़रूरी हो जाता है.”

उच्च-स्तरीय उद्घाटन सत्र में व्यापारिक नेताओं और अन्तरराष्ट्रीय संगठनों के उच्च-स्तरीय प्रतिनिधियों ने निवेश की सम्भावनाओं, महामारी के बाद निवेश आकर्षित करने के नए तरीक़ों और सरकारों की रणनैतिक पुनर्संरचना पर बहस की. 

बोत्सवाना के राष्ट्रपति मोकवित्सी मासिसी और बारबाडोस के प्रधानमन्त्री, मिया मोत्ले ने मुख्य भाषण दिये. 

सत्र का समापन, अंकटाड के निवेश और उद्यम के निदेशक, जेम्स झान द्वारा संयुक्त राष्ट्र निवेश प्रोत्साहन पुरस्कारों की प्रस्तुति के साथ हुआ. 

विजेता एजेंसियायाँ नवाचार के लिये प्रतिबद्ध 

एस्टोनिया की निवेश प्रोत्साहन एजेंसी को यह पुरस्कार मिला - महामारी के दौरान अपने हितधारकों और निवेशकों को नवीन डिजिटल समाधान के ज़रिये सहयोग देने के लिये.

इनमें चैटबॉट और ई-परामर्श सेवाएँ शुरू करना व देश की सूचना प्रौद्योगिकी क्षमता और ई-सरकार के साथ अनुभव का लाभ उठाकर, निवेशकों के लिये वर्चुअल व्यावसायिक यात्राएँ आयोजित करना शामिल है.

वहीं, भारत में, कोविड-19 महामारी शुरू होने के बाद से, निवेशक समुदाय को विस्तृत सेवाएँ और जानकारी प्रदान करने के लिये, इन्वेस्ट इंडिया को इस पुरस्कार से सम्मानित किया गया है.  

उनके कार्य का एक प्रमुख उदाहरण है - इन्वेस्ट इंडिया द्वारा व्यापक बिज़नेस इम्यूनिटी मंच का सृजन.

इस मंच के माध्यम से, कोविड-19 सहायता सेवा, केन्द्रीय और प्रान्तीय सूचनाओं व सरकारी सहायता उपायों के साथ-साथ महामारी पर नवीनतम जानकारी देने जैसी सेवाएँ प्रदान की गईं.

रवांडा विकास बोर्ड ने महामारी के दौरान अपने उन्नत ऑनलाइन व्यापार संवर्धन और पंजीकरण सेवाओं के प्रभावी उपयोग व पुनर्बहाली के दौरान, देश की अर्थव्यवस्था को सुविधाजनक बनाने के लिये साझेदारी स्थापित करने के लिये यह पुरस्कार जीता है.

ये साझेदारी श्रम बल में नए कौशल के विकास, पर्यटन क्षेत्र में सुरक्षा हासिल करने और डिजिटला प्रक्रिया को बढ़ावा देने पर केन्द्रित है.

विशेष लैंगिक पुरस्कार

अंकटाड ने इस  वर्ष, महिला-पुरुष समानता मुद्दे को निवेश प्रोत्साहन की मुख्यधारा में लाने के प्रयासों के लिये एक विशेष पुरस्कार दिया, जो लैंगिक समानता व निवेश में व्यापक कार्य का एक हिस्सा है. 

कोस्टारीका निवेश प्रोत्साहन एजेंसी (CINDE) को अपने कार्य में महिला-पुरुष समानता को शामिल करने के रणनैतिक दृष्टिकोण के लिये विशेष मान्यता दी गई.

CINDE ने इन मुद्दों से निपटने के लिये, लैंगिक समानता और महिलाओं के सशक्तिकरण के साथ-साथ, सतत विकास लक्ष्य 5 पर राष्ट्रीय प्रतिबद्धताओं में योगदान करने के लिये उद्देश्य तय किये, संकेतक परिभाषित किये और भागीदारी विकसित की.

अंकटाड ने, वर्ष, 2002 से, सतत विकास में निवेश को बढ़ावा देने के प्रयासों के लिये, 49 देशों की 60 निवेश प्रोत्साहन एजेंसियों और अन्य संगठनों को सम्मानित किया है. 

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिये यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एण्ड्रॉयड