कोविड-19: बढ़ते संक्रमण के बीच इसराइल-फ़लस्तीन के बीच तालमेल का स्वागत 

18 नवंबर 2020

मध्य पूर्व में कोरोनावायरस संक्रमण के मामलों में कई सप्ताहों तक दर्ज हुई गिरावट के बाद वैश्विक महामारी के मामले एक बार फिर बढ़ रहे हैं. मध्य क्षेत्र में संयुक्त राष्ट्र के शीर्ष अधिकारी निकोलाय म्लादैनॉफ़ ने मौजूदा हालात के मद्देनज़र इसराइल के साथ समन्वय फिर शुरू करने के फ़लस्तीनी प्राधिकरण के निर्णय का स्वागत किया है. 

विशेष समन्वयक निकोलाय म्लादैनॉफ़ ने बुधवार को सुरक्षा परिषद को जानकारी देते हुए बताया कि ग़ाज़ा क्षेत्र संक्रमण के मामलों में बढ़ोत्तरी से निपटने के लिये तैयार नहीं है और यह बेहद चिन्ताजनक है. इलाक़े में गुज़र-बसर की ख़राब परिस्थितियाँ हैं और स्वास्थ्य प्रणाली नाज़ुक है. 

उन्होंने आगाह किया है कि बीमारी का तेज़ फैलाव 20 लाख फ़लस्तीनियों के लिये विनाशकारी साबित हो सकता है जोकि पहले ही आवाजाही की पाबन्दियों, बार-बार हिंसा भड़कने और वर्षों से चले आ रहे मानवीय संकट से प्रभावित है.

उन्होंने कहा, “मैं इन्हीं कारणों से फ़लस्तीनी प्राधिकरण द्वारा इसराइल के साथ नागरिक व सुरक्षा समन्वय फिर शुरू करने के निर्णय का स्वागत करता हूँ.”

“मैं दोनों देशों के बीच रिश्तों का संचालन करने वाले मौजूदा द्विपक्षीय समझौतों के जारी रखने की पुष्टि करने के लिये इसराइल की सराहना करता हूँ, विशेष रूप से आर्थिक, सुरक्षा और नागरिक मामलों के सन्दर्भ में.”

यूएन के विशेष दूत ने ज़ोर देकर कहा कि राजनैतिक इच्छाशक्ति और नेतृत्व के सहारे पारस्परिक निर्भरता की शिनाख़्त दोनों पक्षों को ठोस प्रगति व विवाद के निपटारे की दिशा में आगे ले जा सकती है. 

उनके मुताबिक संयुक्त राष्ट्र और साझीदार संगठनों ने ग़ाज़ा में महत्वपूर्ण मानवीय राहत प्रदान करना जारी रखा है. महामारी के फैलाव और उसके प्रभावों की वजह से बेरोज़गारी और भुखमरी का स्तर बढ़ा है. 

लगभग एक लाख 21 हज़ार फ़लस्तीनियों का रोज़गार ख़त्म हो गया है और 40 फ़ीसदी घरों की आय में 50 फ़ीसदी से ज़्यादा की गिरावट दर्ज की गई है. 

यूएन और साझीदार संगठनों द्वारा दी जाने वाली मदद के तहत 85 कोविड-19 परीक्षण किटें, लैब उपकरण, वैण्टीलेटर, मॉनीटर और अन्य सामग्री की आपूर्ति की गई है. 

आर्थिक रिश्तों की पुनर्समीक्षा

निकोलाय म्लादैनॉफ़ ने उम्मीद जताई है कि इसराइल और फ़लस्तीनी प्राधिकरण के बीच आपसी समन्वय के शुरू होने से, संयुक्त राष्ट्र की मध्यस्थता के बाद शुरू किये गए अस्थाई उपायों पर  विराम लग सकेगा. 

इन अस्थाई इन्तेज़ामों के तहत मरीज़ों को गाज़ा से बाहर भेजा जा रहा था और इलाक़े में मानवीय राहत सामग्री की आपूर्ति की जा रही थी. 

यूएन दूत ने इसराइल और फ़लस्तीन में आर्थिक सम्बन्धों की फिर से समीक्षा किये जाने की आवश्यकता को भी रेखांकित किया है. 

“सभी पक्ष ग़ाज़ा के भीतर और बाहर सामान की आवाजाही को सम्भव बनाने और ग़ाज़ा पट्टी, इसराइल और इसराइल द्वारा क़ाबिज़ पश्चिमी तट के बीच व्यापार को बढ़ाने के लिये तत्काल क़दम उठाए जा सकते हैं.”

विशेष दूत ने क्षेत्र में घटनाक्रम का उल्लेख करते हुए बताया कि बुधवार को बहरीन के विदेश मन्त्री अब्दुल लतीफ़ बिन राशिद अल-ज़यानी, इसराइल की यात्रा कर रहे हैं, जहाँ वे अमेरिकी विदेश मन्त्री माइक पोम्पेयो से भी मुलाक़ात करेंगे. 

बुधवार को इसराइली सुरक्षा बलों ने युद्धविराम रेखा के नज़दीक विस्फोटों की बरामदगी के बाद सीरिया में सिलसिलेवार कार्रवाई की है जिसमें दो लोगों की मौत हो गई है.  

यूएन दूत के मुताबिक क्षेत्र में संयुक्त राष्ट्र शान्तिरक्षक सभी पक्षों के साथ सम्पर्क बनाए हुए हैं और अधिकतम संयम बरतने व उकसावे वाली कार्रवाई से बचने का आग्रह कर रहे हैं. 

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लि/s यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एण्ड्रॉयड