ऑस्ट्रिया: वियेना में हुए घातक हमले की तीखी भर्त्सना

3 नवंबर 2020

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने ऑस्ट्रिया की राजधानी वियेना में हुए एक हिंसक हमले की तीखी भर्त्सना की है. इस हमले में कम से कम दो लोगों की मौत हो गई और अनेक अन्य घायल हुए हैं.

मीडिया ख़बरों के मुताबिक, बन्दूकधारी हमलावरों ने स्थानीय समयानुसार सोमवार शाम वियेना के केन्द्रीय इलाक़े में अनेक स्थानों पर गोलीबारी की.

इस गोलीबारी में एक व्यक्ति की घटनास्थल पर ही मौत हो गई, जबकि एक अन्य व्यक्ति ने ज़ख़्मी होने के कुछ देर बाद दम तोड़ दिया. 

कम से कम 14 घायल लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहाँ कुछ की हालत गम्भीर बताई गई है.

सुरक्षा बलों के भी कुछ सदस्य भी इस गोलीबारी में घायल हुए हैं. 

यूएन प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश के प्रवक्ता ने एक वक्तव्य में कहा है कि महासचिव वियेना में तेज़ी से बदलती स्थिति पर गहरी चिन्ता के साथ नज़र रखे हुए हैं.

वक्तव्य में कहा गया है, “महासचिव इन हमलों की कड़े शब्दों में निन्दा करते हैं और ऑस्ट्रिया के लोगों और वहाँ की सरकार के साथ संयुक्त राष्ट्र की एकजुटता दोहराई है.”

एंतोनियो गुटेरेश ने प्रभावित लोगों के परिवारों के साथ सम्वेदना प्रकट की है और घायलों के जल्दी स्वस्थ होने की कामना भी की है.

पीड़ितों के साथ गहरी हमदर्दी

वियेना में संयुक्त राष्ट्र के भी अनेक दफ़्तर मौजूद हैं, जिनमें अन्य एजेंसियों के साथ-साथ, संयुक्त राष्ट्र के मादक पदार्थों और अपराध पर कार्यालय – UNODC, अन्तरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (IAEA) और यूएन औद्योगिक विकास संगठन (UNIDO) के कार्यालय शामिल हैं. 

UNODC की कार्यकारी निदेशक ग़ादा फ़तही वॉली ने एक ट्विटर सन्देश में इस गोलीबारी के पीड़ितों के साथ हमदर्दी का इज़हार किया है. ग़ादा फ़तही वॉली वियेना में संयुक्त राष्ट्र कार्यालय की महानिदेशक भी हैं.

उन्होंने कहा, “हमारे मेज़बान देश में हुए इस भयावह हमले में प्रभावित होने वाले लोगों के साथ हमारी पूरी हमदर्दी है. वियेना में यूएन समुदाय इस मुश्किल घड़ी और दर्दनाक समय में ऑस्ट्रिया के लोगों के साथ एकजुटता के साथ खड़ा है.”

झटका और सदमा

संयुक्त राष्ट्र अलायन्स ऑफ़ सिविलाइज़ेशन्स (UNAOC) के लिये उच्च प्रतिनिधि मिगेल एंगेल मोराटिनॉस ने मंगलवार को जारी एक वक्तव्य में वियेना के सिटी सैण्टर में  हुए "आतंकवादी हमले पर भारी सदमा और हैरत व्यक्त किये हैं".

उच्च प्रतिनिधि धार्मिक सहिष्णुता के पैरोकार हैं और यूएन प्रमुख ने उन्हें धार्मिक स्थलों की हिफ़ाज़त के मामलों की ज़िम्मेदारी सौंपी है. 

वक्तव्त में उन्होंने कहा कि वो इस घिनौने अपराध की कड़े शब्दों में निन्दा करते हैं और ज़ोर दिया कि इसल तरह के आतंकी कृत्य असहनीय जिन्हें किसी भी आधार पर क़तई सही नहीं ठहराया जा सकता, चाहे ऐसे हमले कभी भी हों, कहीं भी और किसी भी द्वारा किये जाएँ. 

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिये यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एण्ड्रॉयड