कोविड-19: भारत के समक्ष एक 'अभूतपूर्व चुनौती' - जवाबी कार्रवाई में यूएन एजेंसियों का सहयोग

2 अक्टूबर 2020

संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि विश्वव्यापी महामारी कोविड-19 के व्यापक फैलाव की चपेट में आया भारत एक अभूतपूर्व चुनौती का सामना कर रहा है. भारत में यूएन की विभिन्न एजेंसियाँ महामारी पर क़ाबू पाने के प्रयासों में सरकार की मदद कर रही हैं. देश में अब तक कोरोनावायरस संक्रमण के 63 लाख 94 हज़ार से ज़्यादा मामलों की पुष्टि हुई है, 99 हज़ार से ज़्यादा लोगों की मौत हुई है.

विश्व भर में कोविड-19 के संक्रमण के अब तक तीन करोड़ 40 लाख से ज़्यादा मामलों की पुष्टि हो चुकी है और मृतकों की संख्या दस लाख से ज़्यादा हो गई है.

दुनिया में सबसे ज़्यादा संक्रमितों की संख्या अमेरिका (71 लाख 60 हज़ार) में है जिसके बाद भारत और फिर ब्राज़ील (48 लाख 10 हज़ार) का स्थान है. 

भारत के महाराष्ट्र, आन्ध्र प्रदेश, तमिलनाडु, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश और दिल्ली सहित कई अन्य प्रदेश कोरोनावायरस संकट से सबसे ज़्यादा प्रभावित हुए हैं. 

भारत में संयुक्त राष्ट्र की प्रतिनिधि रेनाटा डेज़ालियन ने वैश्विक महामारी कोविड-19 पर क़ाबू पाने के प्रयासों में यूएन एजेंसियों की भूमिका को रेखांकित किया है. 

संयुक्त राष्ट्र एजेंसियाँ भारत सरकार के साथ राष्ट्रीय, राज्य और ज़िला स्तर पर महामारी से निपटने की कार्रवाई के तहत स्वास्थ्य प्रणालियों और सेवाओं को पुख़्ता बनाने, बचाव उपाय अपनाने और हालात की समीक्षा सहित अन्य प्रयासों में जुटी हैं. 

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने संक्रमितों के सम्पर्क में आए एक करोड़ से ज़्यादा लोगों की खोज (Contract tracing) के कार्य में मदद की है और दस लाख से अधिक परीक्षण किटों की आपूर्ति की गई है.    

यूएन स्वास्थ्य एजेंसी और संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) ने अग्रिम मोर्चे पर डटे 40 लाख से अधिक स्वास्थ्यकर्मियों को प्रशिक्षित किया है. 

यूनीसेफ़ ने शिक्षा पहलों के माध्यम से चार करोड़ बच्चों तक पहुँच बनाई है और 50 लाख से ज़्यादा महिलाओं व बच्चों को ज़रूरी स्वास्थ्य देखभाल मुहैया कराई जा रही है. 

संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) ने देश के आठ स्वास्थ्य विभागों में लगभग 10 लाख बचाव उपकरणों का वितरण किया है. 

साथ ही यूएन एजेंसी ने दो लाख से ज़्यादा स्वच्छता कर्मचारियों को छह करोड़ किलोग्राम भोजन और पाँच लाख सेफ़्टी किटें प्रदान की हैं. 

विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP) के एक मोबाइल ऐप के ज़रिये 80 लाख लोगों को सार्जनिक खाद्य वितरण प्रणाली से जोड़ने में सहायता मिली है.

ये भी पढ़ें - कोविड-19: मृतक संख्या दस लाख, 'दिमाग़ों को सुन्न कर देने वाला एक पड़ाव'

संयुक्त राष्ट्र औद्योगिक विकास संगठन (UNIDO) और अन्तरराष्ट्रीय श्रम संगठन ने इस कठिन दौर में व्यवसायों की मदद करने के लिये मध्यम व लघु उद्यमों को सहायता मुहैया कराई है.

कोविड-19 के दौरान, विशेषत: तालाबन्दी व अन्य पाबन्दियों के कारण, महिलाओं व लड़कियों के साथ घरेलू हिंसा के मामलों में बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है. 

महिला सशक्तिकरण के लिये यूएन संस्था (UN Women) ने हिंसा प्रभावित महिलाओं की मदद के लिये एक लाख से ज़्यादा लोगों को प्रशिक्षण दिया है.

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लि/s यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एण्ड्रॉयड