12 दिसम्बर को ब्रिटेन में होगा जलवायु सम्मेलन

24 सितम्बर 2020

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश और ब्रिटेन के प्रधानमन्त्री बोरिस जॉनसन ने जलवायु मुद्दे पर एक वैश्विक सम्मेलन 12 दिसम्बर को संयुक्त रूप से आयोजित करने की घोषणा की है. संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन मुद्दे पर हर वर्ष अन्तरराष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित करता है जिसे कॉप के नाम से जाना जाता है, मगर कोविड-19 के कारण पैदा हुए व्यवधानों से ये सम्मेलन भी प्रभावित हुआ है.

ब्रिटेन में ये सम्मेलन जलवायु परिवर्तन पर 2015 में हुए ऐतिहासिक पैरिस समझौते की पाँचवीं वर्षगाँठ के मौक़े पर आयोजित किया जाएगा.

संयुक्त राष्ट्र ने 12 दिसम्बर को ब्रिटेन में होने वाले सम्मेलन को ग्लासगो सम्मेलन के लिये एक तैयारी गतिविधि के रूप में प्रचारित किया है.

ग्लासगो जलवायु सम्मेलन वर्ष 2020 में ही होने वाला था लेकिन कोविड-19 से पैदा हुए व्यवधानों के कारण अब ये सम्मेलन नवम्बर 2021 में प्रस्तावित है.

दिसम्बर में होने वाला सम्मेलन इस पृष्ठभूमि के साथ आयोजित किया जाएगा कि दुनिया तापमान वृद्धि को 1.5 डिग्री सैल्सियस तक सीमित रखने के रास्ते से भटक गई है.

साथ ही इस मुद्दे पर भी ज़ोर दिया जाएगा कि कार्बन मुक्त अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने में पहले ही काफ़ी देर हो चुकी है.

यूएन प्रमुख ने गुरूवार को एक प्रैस वक्तव्य में कहा, “जलवायु आपदा अब पूरी तरह हम पर हावी हो चुकी है, और, हम अब और समय बर्बाद नहीं कर सकते.

"हमारे अस्तित्व के बारे में इस संकट का जवाब बहुत तेज़ी से और बड़ी कार्रवाई करना है, निर्णायक होना है और देशों के बीच एकजुटता स्थापित करना है.”

12 दिसम्बर को होने वाले सम्मेलन का मक़सद जलवायु कार्रवाई के लिये ठोस, तेज़ व ज़्यादा महत्वाकाँक्षी कार्रवाई के लिये माहौल बनाना है.

देशों को इस सम्मेलन में ज़्यादा महत्वाकाँक्षी और उच्च गुणवत्ता वाली जलवायु योजनाएँ पेश करने के लिये आमन्त्रित किया जाएगा.

इसमें कोविड-19 महामारी से उबरने की योजनाएँ, वित्तीय प्रतिबद्धताएँ और वैश्विक तापमान को 1.5 डिग्री सैल्सियस तक सीमित रखने के उपाय भी शामिल होंगे.

दिसम्बर जलवायु सम्मेलन में अनेक देशों की सरकारों के विभिन्न स्तरीय अधिकारी व नेतागण, निजी क्षेत्र व सिविल सोसायटी के प्रतिनिधि शिरकत करेंगे और जलवायु महत्वाकाँक्षा और कार्रवाई में नई जान फूँकने के उपाय पेश करेंगे.

उच्च स्तरीय जलवायु वार्ता

दिसम्बर जलवायु सम्मेलन के बारे में और ज़्यादा जानकारी गुरूवार को हो रही एक उच्चस्तरीय बैठक में जारी की जाएगी जोकि वर्चुअल माध्यमों पर हो रही है.

इस बैठक को यूएन प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश, ब्रिटेन के प्रधानमन्त्री बोरिस जॉनसन के अलावा, अनेक विश्व नेता सम्बोधित करेंगे.

ये बैठक न्यूयॉर्क समयानुसार 11.30 पर शुरू होगी जिसमें कैनेडा के प्रधानमन्त्री जस्टिन ट्रूडो, योरोपीय आयोग की अध्यक्ष उरसुला वॉन डेर लेयेन और चिली के राष्ट्रपति सिवेस्टियन पिनेरा भी शिरकत करेंगे. इस वर्ष का जलवायु सम्मेलन कॉप चिली में ही होने वाला था.

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लि/s यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एण्ड्रॉयड

समाचार ट्रैकर: इस मुद्दे पर पिछली कहानियां

'नींद से जगाने वाली' घंटी है जलवायु परिवर्तन पर नई यूएन रिपोर्ट

जलवायु परिवर्तन से संबंधित ख़तरों और प्राकृतिक आपदाओं की लगातार बढ़ती संख्या दुनिया के लिए एक चेतावनी भरी घंटी है. संयुक्त राष्ट्र के मौसम विज्ञान संगठन (WMO) की 'स्टेट ऑफ़ द ग्लोबल क्लाइमेट' या 'वैश्विक जलवायु की स्थिति' रिपोर्ट को जारी करते हुए यूएन महासचिव ने जलवायु कार्रवाई की महत्वाकांक्षा बढ़ाने और टिकाऊ समाधानों को तलाशने की अपील की है.

तत्काल जलवायु कार्रवाई की ज़रूरत को रेखांकित करते नए आंकड़े

संयुक्त राष्ट्र की मौसम विज्ञान संस्था (WMO) की ओर से जारी नए आंकड़े दिखाते हैं कि पिछले चार साल आधिकारिक रूप से अब तक के सबसे गर्म साल रहे हैं. इस जानकारी के सामने आने के बाद यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने जलवायु कार्रवाई के लिए प्रयास तेज़ करने और महत्वाकांक्षा बढ़ाने की ओर ध्यान आकृष्ट किया है. सितंबर में वह इसी सिलसिले में जलवायु शिखर वार्ता भी आयोजित कर रहे हैं.