लेबनान: बेरूत बन्दरगाह पर भीषण विस्फोट, प्रभावितों की मदद के लिये यूएन सक्रिय

5 अगस्त 2020

संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि लेबनान की राजधानी बेरूत के बन्दरगाह इलाक़े में एक भीषण विस्फोट हुआ है जिसके बाद राहत अभियान में सक्रियता से सहायता प्रदान की जा रही है. विस्फोट इतना शक्तिशाली था कि बेरूत के कई इलाक़े बुरी तरह थरथरा उठे. इस घटना में अनेक लोग हताहत हुए हैं जिनमें यूएन के शान्तिरक्षक भी हैं.

संयुक्त राष्ट्र प्रवक्ता ने स्तेफ़ान दुजैरिक ने महासचिव एंतोनियो गुटेरेश की ओर से एक बयान जारी किया है जिसमें उन्होंने पीड़ितों के परिजनों, लेबनान की जनता और सरकार के प्रति गहरी सम्वेदना प्रकट की है.

मंगलवार को राजधानी बेरूत में हुए इस विस्फोट में बड़े पैमाने पर क्षति पहुँची है.

यूएन प्रमुख ने घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना की है. लेबनान में कार्यरत अनेक यूएन कर्मचारी भी इस घटना में घायल हुए हैं. 

न्यूज़ रिपोर्टों के मुताबिक बड़ी संख्या में लोगों की मौत होने के अलावा हज़ारों लोग घायल भी हुए हैं. विस्फोट इतना भयावह था कि उसके झटके पूरे शहर में महसूस किये गए. 

विस्फोट से इमारतें हिल गईं और खिड़कियाँ टूट गईं. ये ख़बर लिखे जाने तक विस्फोट के कारणों की पुष्टि नहीं हो पाई है.

महासचिव गुटेरेश के वक्तव्य में कहा गया है कि संयुक्त राष्ट्र लेबनान के इस मुश्किल समय में हरसम्भव मदद के लिये संकल्पित है और ये विश्व संगठन इस घटना के बाद राहत कार्यों में मदद कर रहा है.

यूएन महासभा के अध्यक्ष तिजानी मोहम्मद बाँडे ने भी इस घटना से प्रभावित लोगों व उनके परिवारजनों के प्रति गहरी सम्वेदना प्रकट की है और घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना की है.

उन्होंने लेबनान को इस लम्हे में एकजुटता का आश्वासन दिया है. 

इस बीच लेबनान में संयुक्त राष्ट्र अंतरिम बल (UNIFIL) ने बताया है कि इस बड़े धमाके के कारण उनकी एक टास्क फ़ोर्स का बन्दरगाह पर खड़ा जहाज़ क्षतिग्रस्त हुआ है और कुछ शान्तिरक्षक घायल हुए हैं. 

यूएन मिशन की ओर से जारी बयान के मुताबिक ज़ख़्मी शान्तिरक्षकों को नज़दीकी अस्पताल में उपचार के लिये भर्ती कराया गया है. 

यूएन मिशन हालात पर नज़र रख रहा है और इससे प्रभावित कर्मचारियों की सही संख्या की पुष्टि करने में जुटा है.

लेबनान के दक्षिणी हिस्से से इसराइली सुरक्षा बलों की वापसी की पुष्टि के लिये वर्ष 1978 में यूएन मिशन स्थापित किया गया था. साथ ही मिशन का लक्ष्य यह सुनिश्चित करना था कि यह इलाक़ा लेबनान के नियन्त्रण में आ जाए. 

यूनिफ़िल मिशन के प्रमुख और फ़ोर्स कमाण्डर मेजर जनरल डेल कोल ने कहा, “हम लेबनान की जनता और सरकार के साथ इस मुश्किल समय में साथ हैं और उन्हें हर प्रकार की सहायता व समर्थन देने के लिये तैयार हैं.” 

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लि/s यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एण्ड्रॉयड