यूएन में भारत के कुछ ऐतिहासिक पल...

सैन फ्रांसिस्को सम्मेलन, 25 अप्रैल - 26 जून 1945: भारत ने संयुक्त राष्ट्र चार्टर पर हस्ताक्षर किए.
UN
सैन फ्रांसिस्को सम्मेलन, 25 अप्रैल - 26 जून 1945: भारत ने संयुक्त राष्ट्र चार्टर पर हस्ताक्षर किए.

यूएन में भारत के कुछ ऐतिहासिक पल...

यूएन मामले

26 जून 1945 को संयुक्त राष्ट्र चार्टर पर हस्ताक्षर करने वाले 50 देशों में से एक भारत भी था. दूसरे विश्व युद्ध के बाद, सभी राष्ट्र पहली बार एकजुट हुए. सभी राष्ट्र, आने वाली पीढ़ियों को युद्ध की विभीषिका से बचाने, मानवाधिकारों और पुरुषों व महिलाओं के समान अधिकारों के प्रति दोबारा विश्वास क़ायम करने व बड़े और छोटे राष्ट्रों के लिए समान रूप से, न्यायसंगत शर्तें स्थापित कर तथा स्वतन्त्र रूप से सामाजिक प्रगति को बढ़ावा देने के लिये प्रतिबद्ध थे.

ऐतिहासिक सैन फ्रांसिस्को सम्मेलन में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व, रामास्वाराई मुदालियर ने किया, जिन्होंने चार्टर पर हस्ताक्षर भी किए. फिर 15 अगस्त, 1947 को, संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में आज़ाद भारत का झंडा फहराया गया और 54 देशों के बीच भारत ने संयुक्त राष्ट्र में अपना यथोचित स्थान हासिल किया.