कोविड-19: प्रभावित बच्चों के लिए यूनीसेफ़ का #ChildhoodChallenge अभियान

कोविड-19 के कारण लाखों बच्चों का भविष्य सँकट में है.
UN
कोविड-19 के कारण लाखों बच्चों का भविष्य सँकट में है.

कोविड-19: प्रभावित बच्चों के लिए यूनीसेफ़ का #ChildhoodChallenge अभियान

एसडीजी

भारत की राजधानी नई दिल्ली में शुक्रवार को मशहूर बॉलीबुड अभिनेत्री और यूनीसेफ़ की सेलेब्रिटी एडवोकेट, करीना कपूर ख़ान ने #ChildhoodChallenge अभियान शुरू किया. ये अभियान यूनीसेफ़ के वैश्विक प्रयासों का हिस्सा है, जिसके तहत कोविड महामारी से बच्चों के भविष्य पर स्थाई असर पड़ने से बचाने के प्रयास किए जा रहे हैं. 

कोविड-19 से प्रभावित बच्चों की जिन्दगी बचाने के लिये किये जा रहे कार्यों का समर्थन करने के लिए यूनीसेफ इंडिया की सेलिब्रिटी एडवोकेट, करीना कपूर ख़ान ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट से हैशटैग चाइल्डहुड चैलेंज (#ChildhoodChallenge) अभियान शुरू किया.

यह अभियान समर्थकों से हर बच्चे के बेहतर भविष्य का हिस्सा बनने का आग्रह करता है. समर्थकों से अनुरोध किया गया है कि वे सोशल मीडिया पर अपने बचपन की सुखद यादें साझा करते हुए #ChildhoodChallenge के साथ @unicefindia को टैग करके पोस्ट करें.

साथ मे उनसे स्वैच्छिक तरीक़े से कुछ धनराशि दान करने की अपील भी की गई है. हैशटैग अभियान में शामिल होने वाले समर्थकों को आगे अपने तीन साथियों को चैलेंज के लिए नामांकित करना है, जिससे अभियान एक बड़ी कड़ी के रूप में ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुँच सके.

इस अवसर पर करीना कपूर ख़ान ने कहा, “मैं जो कुछ भी हूँ, वो एक सुरक्षित, स्वस्थ बचपन पाने की वजह से हूँ. लेकिन ऐसे लाखों बच्चे हैं जो असुरक्षित व कमज़ोर हैं और अपने अधिकारों से वंचित हैं. कोविड-19 के कारण सबसे कमज़ोर तबके के बच्चों की हालत बदतर होती जा रही है."

"यूनीसेफ़ की सेलिब्रिटी एडवोकेट के तौर पर, मुझे भारत में #ChildhoodChallenge शुरू करने में बहुत ख़ुशी हो रही है. बच्चो को सुरक्षित रखने और उन्हें ख़ुशहाल बचपन प्रदान करने में ये अभियान सहयोग करेगा. बच्चों को एक ख़ुशहाल बचपन देने में मदद करें. हम सब मिलकर हर बच्चे के लिए बेहतर भविष्य की परिकल्पना सुनिश्चित कर सकते हैं.”

बच्चों के भविष्य पर संकट

कोविड-19 महामारी अब सातवें महीने में प्रवेश कर रही है. स्कूल बन्द होने से, स्वास्थ्य-प्रणाली कमज़ोर होने से, सेवाओं में बाधा और भोजन की कमी से, दुनिया भर के लाखों बच्चों के जीवन के लिए ख़तरा पैदा हो गया है.

यूनीसेफ़ का अनुमान है कि विश्व स्तर पर, अगले छह महीनों में प्रतिदिन अतिरिक्त 6000 बच्चों की मौत ऐसी वजहों से हो सकती है जिन्हें रोका जा सकता है.

इनमें से ज़्यादातर (90 प्रतिशत से अधिक), निम्न या निम्न-मध्यम आय वाले देशों से होंगे. इन आँकड़ों के मुताबिक भारत में ही अगले छह महीने में तीन लाख अतिरिक्त बच्चो की मौत हो सकती है.

भारत में यूनीसेफ़ की प्रतिनिधि डॉक्टर यासमीन अली हक़ ने कहा, "हम बहुत ख़ुश हैं कि करीना कपूर ख़ान बच्चों के लिए इस महत्वपूर्ण अभियान का समर्थन ऐसे समय में कर रही हैं, जब इसकी सबसे अधिक ज़रूरत है.

यूनीसेफ़ इंडिया की सेलिब्रिटी एडवोकेट के रूप में, उन्होंने बच्चों और महिलाओं के लिए हमेशा सक्रिय रूप से समय दिया है और अपने प्रभाव का इस्तेमाल करते हुए बच्चों के हित के कार्यों में योगदान दिया है. हमें उम्मीद है कि कई अन्य लोग भी इस महत्वपूर्ण समय में कोविड महामारी के असर से जूझ रहे बच्चों की मदद करने में उनका साथ देंगे.”

धनराशि का उपयोग

इस अभियान में कमज़ोर तबके के बच्चों की मदद के लिए यूनीसेफ़ इंडिया ने समर्थकों को अपने बचपन से जुड़ी बेहतरीन यादों की तस्वीर सोशल मीडिया पर पोस्ट करने के लिए आमन्त्रित किया है. साथ ही अपने जन्म के साल के बराबर धनराशि दान करने का भी आहवान किया है. 

#ChildhoodChallenge के माध्यम से दान में आई धनराशि यूनीसेफ़ के ‘रीइमेजिन ग्लोबल कैम्पेन’ को भेजी जाएगी. इस वैश्विक अभियान के तहत सरकारों, लोगों.

दानकर्ताओं और निजी क्षेत्र से तत्काल अपील की गई है कि कोविड-19 के कारण अस्त-व्यस्त हुए विश्व की पुनर्बहाली और पुनर्निर्माण के लिए वो यूनीसेफ़ के प्रयासों में सहयोग दें. 

यूनीसेफ़ एकत्र किये जाने वाले इस धन से बच्चों और परिवारों की तत्काल जरूरतें, जैसेकि साबुन, मास्क, दस्ताने, स्वच्छता किट, सुरक्षात्मक उपकरण मुहैय्या कराने और जीवन रक्षक जानकारी प्रदान करने में सरकारों की मदद करेगा.

इसके अलावा, शिक्षा, सुरक्षा और स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली का समर्थन करके, समय पर पुनर्बहाली और बच्चों के लिए अधिक न्यायपूर्ण दुनिया का निर्माण करने के यूनीसेफ़ के कार्य को आगे बढ़ाया जाएगा. 

यूएन न्यूज़ - हिन्दी : वीडियो हब