लेबनान में महात्मा गाँधी पार्क का नवीनीकरण

17 जून 2020

दुनिया को अहिंसा का गुरू मन्त्र देने वाले भारत के राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी की स्मृति में दक्षिण-पूर्वी लेबनान के अबल अल साक़ी शहर में 1999 में भारतीय शान्तिरक्षकों ने एक पार्क का निर्माण किया था. दक्षिण-पूर्वी लेबनान के अबल अल साक़ी में तैनात यूनीफ़िल की वर्तमान भारतीय बटालियन ने हाल ही में इस पार्क की मरम्मत और नवीनीकरण का बीड़ा उठाया. 

अबल अल साक़ी में स्थित महात्मा गाँधी उद्यान, भारत और लेबनान के बीच दशकों से चली आ रही दोस्ती और चिरस्थाई शान्ति स्थापित करने के दोनों देशों के साझा ध्येय का का प्रतीक है.  

संयुक्त राष्ट्र के अन्तरिम बल में तैनात भारतीय शान्तिरक्षक, दशकों से लेबनान के संघर्षरत इलाक़ों में शान्ति बहाली और राहत के कार्यों में सक्रिय हैं.

लेबनान के गाँवों में भारतीय बटालियनों की उपस्थिति से ग्रामीण भी सुरक्षित महसूस करते हैं और उन्हें अपना समझते हैं.

वर्षों से युद्ध और आन्तरिक संघर्ष का दंश झेल रहे लेबनान के युवाओं को महात्मा गाँधी के अहिंसा के सिद्धान्त से प्रेरणा देने के लिए 1999 में भारतीय शान्तिरक्षकों ने अबल अल साक़ी की नगरपालिका के सहयोग से इस पार्क का निर्माण किया था.  

इसमें नई जान फूँकने के लिए जनवरी 2020 में इस पार्क के बुनियादी ढाँचे की मरम्मत और नवीकरण का काम शुरू किया गया था.

पार्क की मूलभूत संरचना परिवर्तन परियोजना के अन्तर्गत, नई प्रकाश व्यवस्था, नए शेड लगवाना और बैठने की नई व्यवस्था करना शामिल है.

मक़सद है - स्थानीय समुदायों के लिए एक अनुकरणीय पर्यावरणीय सम्पत्ति संरक्षित करना और युवाओं को महात्मा गाँधी के अहिंसा के सिद्धान्तों के प्रति जागरूक करना.

UNIFIL
यूनीफ़िल ने महात्मा गाँधी पार्क का नवीनीकरण करके, उसे एक समारोह में दक्षिण-पूर्वी लेबनान के अबल अल साक़ी नगरपालिका को सौंपा.

नवीनीकरण समारोह 

लेबनान में भारतीय राजदूत डॉक्टर सुहेल अजाज़ खान, यूनीफ़िल के सैक्टर ईस्ट कमाण्डर, ब्रिगेडियर जनरल मार्कोस लालागो नवारो और भारतीय बटालियन के कमाण्डर कर्नल नारायण सिंह भाटी ने 10 जून को पार्क में आयोजित एक समारोह में अबेल अल साक़ी के मेयर समीह अल बेकाई को नया-डिज़ाइन किया हुआ पार्क भेंट किया.

मेयर ने यूनीफ़िल के शान्ति रक्षकों की भूमिका की सराहना करते हुए कहा कि पार्क के रख-रखाव और पुनर्वास के लिए भारतीय बटालियन की ये कोशिश ,दक्षिण लेबनान के इस गाँव को आने वाली पीढ़ियों के लिए “शान्ति और अहिंसा का प्रतीक" बनाने में मदद करेगी. 

10 जून के समारोह के दौरान कोविड-19 की रोकथाम से सम्बन्धित सभी ऐहतियाती उपायों का  पालन किया गया.

अहिंसा का सिद्धान्त अहम

महात्मा गाँधी पार्क के ज़रिये उनके सत्य, शान्ति, अहिंसा और आत्म-अनुशासन जैसे मूल सिद्धान्तों का प्रसार होगा और भविष्य में लोग हिंसा का पथ त्यागने के लिए प्रेरित होंगे.

दक्षिण लेबनान के विभिन्न क्षेत्रों में मिशन और उसके शान्ति रक्षक जिस तरह मेज़बान समुदायों की भलाई के लिए कार्य करने में जुटे हैं, यूनीफ़िल का ये नवीन कार्य, उन्हीं प्रयासों का एक अंग है.  

शान्ति, अहिंसा और सह-अस्तित्व का जो सन्देश गाँधी जी ने दुनिया भर को दिया, उसने न केवल भारत, बल्कि उन सभी  देशों को प्रेरित किया है जो वर्षों से संघर्ष और युद्ध की मार का शिकार रहे हैं. 

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिए यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एंड्रॉयड