कोविड-19: संकट के बाद की दुनिया में डिजिटल सहयोग के लिए नया रोडमैप

11 जून 2020

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि कोविड-19 महामारी के दौरान डिजिटल टैक्नॉलॉजी के लाभ से वन्चित लोगों को स्वास्थ्य देखभाल से जुड़ी अहम जानकारी का ना मिल पाना उनके लिए जीवन-मरण का सवाल बन गया है. टैक्नॉलॉजी क्षेत्र में आ रहे तेज़ बदलावों से टिकाऊ विकास एजेंडा पर पड़ने वाले असर पर गुरुवार को चर्चा हुई, साथ ही डिजिटल सहयोग पर एक नया रोडमैप पेश किया गया है.  

यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा कि डिजिटल सहयोग की ज़रूरत और तात्कालिकता से ध्यान हटाने के बजाय मौजूदा कोविड-19 संकट इसकी अहमियत को ही दिखा रहा है. 

संयुक्त राष्ट्र महासभा में गुरूवार को एक वर्चुअल उच्चस्तरीय चर्चा का आयोजन हुआ जिसमें टैक्नॉलॉजी क्षेत्र में तेज़ गति से आ रहे बदलावों से टिकाऊ विकास लक्ष्यों पर पड़ने वाले प्रभावों पर विचार-विमर्श हुआ.  

यूएन महासचिव ने कहा कि महामारी से निपटने की जवाबी कार्रवाई के केन्द्र में डिजिटल टैक्नॉलॉजी उभरी है – वैक्सीन पर शोध, ऑनलाइन माध्यमों पर पढ़ाई-लिखाई, ई-कॉमर्स, घर बैठकर दफ़्तर का काम करना, यानि जीवन के लगभग हर पहलू में इसका योगदान दिखाई देता है. 

लेकिन उन्होंने चिन्ता जताई कि ऑनलाइन सम्पन्न लोगों और ऑफ़लाइन यानि डिजिटल सुविधाओं से वंचित लोगों के बीच बढ़ती दूरी विषमता का एक नया चेहरा बन कर उभर रही है. 

कोविड-19 के बाद का रोडमैप

महासचिव गुटेरेश ने बैठक को सम्बोधित करते हुए कहा कि कोरोनावायरस संकट के बाद की दुनिया में समाज पर पड़ने वाले प्रभावों और उनक निहितार्थों को अभी समझने का प्रयास ही किया जा रहा है.

लेकिन यह तय है कि हम जैसे-जैसे उबरेंगे और पुनर्निर्माण करेंगे, डिजिटल टैक्नॉलॉजी पहले से कहीं अधिक अहम होगी. 

उन्होंने आशंका जताई कि डिजिटल माध्यमों से वंचित समुदाय इस प्रक्रिया में बहुत पीछे छूट जाएँगे.

ग़ौरतलब है कि डिजिटल सहयोग पर उच्चस्तरीय पैनल ने वर्ष 2019 में एक रिपोर्ट पेश की थी जिसमें मौजूदा डिजिटल खाई को पाटने की सिफ़ारिशें पेश की गई थीं.

साथ ही डिजिटल सन्दर्भ में मानवाधिकारों की रक्षा करने, साइबर सुरक्षा व भरोसा क़ायम करने और डिजिटल सहयोग के लिए एक नया वैश्विक ढाँचा खड़ा करने की बात शामिल थी.

इस रिपोर्ट का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि टैक्नॉलॉजी के हानिकारक पक्षों का समाधान सुनिश्चित करते हुए उसकी ख़ूबियों को सँवारा जाना होगा. 

महासचिव गुटेरेश ने कहा कि इन सभी पहलुओं को गुरुवार को डिजिटल सहयोग पर संयुक्त राष्ट्र द्वारा पेश नए रोडमैप में शामिल किया गया है. 

“हम डिजिटल युग के लाभों का पूर्ण इस्तेमाल तब तक नहीं कर सकते जब तक डिजिटल खाइयों को पाटने और नुक़सानदेह पहलुओं को दूर करने के लिए वैश्विक सहयोग को संगठित ना किया जाए.”

वैश्विक दूरदृष्टि और नेतृत्व की तत्काल ज़रूरत को रेखांकित करते हुए उन्होंने कहा कि इस रोडमैप में सभी से ठोस कार्रवाई का आहवान किया गया है ताकि डिजिटल युग में लोगों के साथ जुड़ा जा सके, उनका सम्मान और रक्षा सुनिश्चित की जा सके. 

यूएन प्रमुख ने स्पष्ट किया कि इस अभूतपूर्व लम्हे में हमने अवसरों का सही इस्तेमाल किया या नहीं, यह निर्णय भावी पीढ़ियाँ करेंगी. 

टैक्नॉलॉजी क्षेत्र में त्वरित बदलाव

महासभा अध्यक्ष तिजानी मोहम्मद-बाँडे ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में चर्चा का उदघाटन करते हुए कहा कि कोविड-19 महामारी के कारण सभी को अपने काम करने, पढ़ने, सीखने, दुख जताने और उबरने के तरीक़ों में बदलाव लाने के लिए मजबूर होना पड़ा है. 

यूएन महासभा प्रमुख के मुताबिक डिजिटल खाई से तात्पर्य महज़ डिजिटल साधनों की उपलब्धता में विषमताओं का मौजूद होना ही नहीं है, बल्कि इससे भी है कि टैक्नॉलॉजी में तेज़ी से हो रहे बदलाव से ये असमानताएँ और ज़्यादा व्यापक हो रही हैं. 

“जागरूकता की कमी और इण्टरनेट कनेक्टिविटी की ऊँची क़ीमतों के कारण शिक्षा के अवसर खो सकते हैं.”

उन्होंने कहा कि डिजिटल साक्षरता इस सदी का एक निर्धारक पहलु है और यही तय करेगा कि समाज मानवाधिकारों के हनन और जलवायु संकट जैसी भावी चुनौतियों का सामना किस तरह करते हैं. 

महासभा अध्यक्ष ने ध्यान दिलाया कि ग़रीबी का उन्मूलन करने (एसडीजी-1), भुखमरी का अन्त करने (एसडीजी-2) और सभी के लिए गुणवत्तापरक शिक्षा सुनिश्चित करना (एसडीजी-4) सहित अन्य टिकाऊ विकास लक्ष्यों को हासिल किया जाना बेहद आवश्यक है. 

इस परिप्रेक्ष्य में उन्होंने कहा कि अन्तरराष्ट्रीय समुदाय की ज़िम्मेदारी बनती है कि टैक्नॉलॉजी क्षेत्र में तेज़ गति से हो रहे बदलावों और उनके आर्थिक, सामाजिक व नैतिक पहलुओं का ख़याल रखा जाए और ज़रूरत पड़ने पर कार्रवाई हो. 

यूएन महासभा प्रमुख तिजानी मोहम्मद-बाँडे ने आगाह किया कि डिजिटल जगत में महिलाओं व लड़कियों की पूर्ण भागीदारी सुनिश्चित करने के रास्ते में आने वाली बाधाओं को दूर करने की रफ़्तार बढ़ानी होगी. 

उनके मुताबिक गुणवत्तापरक व किफ़ायती शिक्षा और अन्य सांस्कृतिक मानकों के कारण बहुत सी महिलाएँ ऐसे क्षेत्रों में आगे नहीं आ रही हैं.

वर्ष 2020 में टिकाऊ विकास के 2030 एजेंडा के मुताबिक कार्रवाई के दशक की शुरुआत की गई है.

उन्होंने बताया कि टिकाऊ विकास लक्ष्यों को हासिल करने के लिए जो संकल्प लिए गए थे उन्हें आँखों से ओझल नहीं होने देना है.

साथ ही टिकाऊ विकास लक्ष्यों को हासिल करने की रफ़्तार को तेज़ करने के लिए उभरती टैक्नॉलॉजी का इस्तेमाल करना होगा. 

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लि/s यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एण्ड्रॉयड

समाचार ट्रैकर: इस मुद्दे पर पिछली कहानियां

डिजिटल उपलब्धता को सार्वभौमिक बनाने की ज़रूरत

कोविड-19 महामारी ने दुनिया भर में लोगों के कामकाज करने, एक दूसरे के साथ मिलने-जुलने, स्कूल जाने और ज़रूरी सामान ख़रीदने के लिए दुकानों व स्टोरों पर जाने के तरीक़ों में अभूतपूर्व बदलाव ला दिए हैं, ऐसे में ये बेहद ज़रूरी हो गया है कि दुनिया भर में जो लगभग तीन अरब 60 करोड़ लोग ऑनलाइन सुविधाओं से वंचित हैं, उन्हें भी डिजिटल अभाव के अन्तर से उबारा जाए. 

कोविड-19: युवाओं के पास डिजिटल समाधान पेश करने का अवसर 

संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक एवं सांस्कृतिक संगठन (UNESCO) ने कोविड-19 महामारी का मुक़ाबले की मुहिम में युवा डेटा विज्ञानियों, डिज़ाइनरों और नवोन्मेषकों (इनोवेटर) को शामिल होने के लिए आमंत्रित किया है. इस सिलसिले में एक महीने तक चलने वाले हैकाथॉन की शुरुआत हुई है जिसके ज़रिए विश्वव्यापी महामारी की चुनौती से निपटने के लिए डिजिटल समाधानों तैयार किए जाएंगे.