नेपाल: पर्वतीय फ़सलों से जैवविविधता और आर्थिक विकास को बढ़ावा

28 मई 2020

नेपाल के सुदूर पर्वतीय क्षेत्रों में संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP) और उसके साझीदार संगठन स्थानीय समुदाय के साथ मिलकर फ़सलों की जैवविविधता संरक्षित करने के प्रयासों में जुटे हैं ताकि खाद्य सुरक्षा और कृषि को सुदृढ़ बनाया जा सके.

नेपाल के सुदूर पर्वतीय क्षेत्रों में जीवन-यापन बेहद कठिन है. रोज़मर्रा के जीवन में स्थानीय समुदायों को कईं आर्थिक, सामाजिक और पर्यावरणीय चुनौतियों का सामना करना पड़ता है जिनमें बाज़ार तक पहुंच का अभाव, आयात और सब्सिडी पर निर्भरता, महिलाओं को कठिन परिश्रम करने पर मजबूर होना, कुपोषण, अप्रत्याशित मौसम और जंगली कीड़ों की समस्या शामिल हैं.

इन्हीं चुनौतियों से निपटने के लिए संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम ने अपने साझीदारों के सहयोग से एक योजना शुरू की है जिसके तहत स्थानीय समुदायों के साथ फ़सलों की जैवविविधता संरक्षण की दिशा में प्रयास हो रहे हैं. इससे खाद्य सुरक्षा बढ़ाने में मदद मिलेगी.

वर्ष 2014-2020 के लिए ‘ग्लोबल एन्वायरन्मेंट फ़ैसिलिटी’ द्वारा समर्थित इस परियोजना को यूएन की पर्यावरण एजेंसी, नेपाल कृषि अनुसंधान परिषद और ‘बायोडाइवर्सिटी इन्टरनेशनल’ और अन्य संगठनों के सहयोग से कार्यान्वित किया गया.

यह परियोजना पश्चिमी, मध्य और पूर्वी नेपाल के हुमला, जुमला, लामजुंग और दोलखा ज़िलों में समुद्र तल से डेढ़ हज़ार से तीन हज़ार मीटर की ऊँचाई पर शुरु की गई है.

पहाड़ी इलाक़ों में कृषि प्रणालियों में अक्सर पर्यावरणीय अस्थिरता का ऊँचा स्तर देखने को मिलता है. इस प्रोजेक्ट में आठ पर्वतीय फ़सलों – कुट्टु, कॉमन बीन (सेम), कई प्रकार के ज्वार-बाजरा, जौं और ऊँचे व ठण्डे स्थानों पर उपजने वाले चावलों पर ध्यान केन्द्रित किया गया है.

हम्पाला ज़िले के छिपरा गाँव में सामुदायिक बीज बैंक का उद्घाटन.
UNEP/ S. Pant
हम्पाला ज़िले के छिपरा गाँव में सामुदायिक बीज बैंक का उद्घाटन.

परियोजना से लाभ 

इस परियोजना को पिछले पाँच साल में दो बड़ी बाधाओं का सामना करना पड़ा: मार्च और अप्रैल 2015 में विनाशकारी भूकंप जिससे चार में से दो इलाक़े बुरी तरह प्रभावित हुए. इसके अलावा 2017 में प्रशासनिक सुधारों के तहत एक नई संघीय प्रणाली की शुरूआत हुई.

तमाम व्यवधानों के बावजूद सरकारी अधिकारियों का मानना ​​है कि इस परियोजना का काफ़ी असर हुआ है. नेपाल कृषि अनुसंधान परिषद के कार्यकारी निदेशक दीपक भण्डारी का कहना है कि, "परियोजना ने पारम्परिक फ़सलों को बढ़ावा देने और मुख्यधारा में लाने की नींव रखी है." उन्होंने राष्ट्रीय परियोजना वेबसाइट को शुरू किए जाने का भी स्वागत किया है.

नेपाल के पश्चिमोत्तर में छिपरा गाँव में एक किसान देपसरा उपाध्याय के मुताबिक "परियोजना से हमें स्थानीय फ़सलों के मूल्य की जानकारी मिली. हमें गाँव में एक सामुदायिक बीज-बैंक स्थापित करने में मदद मिली. "

साथ ही फ़सलों के प्रसंस्करण के लिए इलैक्ट्रिक मशीनें भी उपलब्ध कराई गईं. इससे गांव की महिलाओं द्वारा किए जाने वाले शारीरिक श्रम में कमी आई है और उन्हें बहुत राहत मिली है.

परियोजना के तहत, दुर्लभ, स्थानीय पहाड़ी फ़सलों के संरक्षण के लिए चार सामुदायिक बीज बैंक भी स्थापित किए गए. बैंक में अब 56 फ़सलों की 232 अद्वितीय और लुप्तप्राय किस्में संरक्षित हैं.

यूएन एजेंसी और साझीदारों ने सामुदायिक जैव विविधता प्रबन्धन फ़ंड, कृषि विद्यालयों और बीजों के आदान-प्रदान के ज़रिये कृषि में जैवविविधता को बढ़ावा देने के लिए सर्वोत्तम प्रथाओं को भी प्रोत्साहन दिया.

नेपाल के हुमला गाँव में बीज उत्पादन भूखण्ड.
UNEP/ S. Pant
नेपाल के हुमला गाँव में बीज उत्पादन भूखण्ड.

बदलाव की बयार

संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम की जैवविविधता विशेषज्ञ मैरिएट सकालियाँ का कहना है कि, "फ़सलों की जैवविविधता प्रकृति में योगदान देती है जो आधुनिक चिकित्सा में उपयोग की जाने वाली कई दवाओं का एक अनिवार्य स्रोत है. विश्व स्तर पर मानव आबादी का लगभग आधा हिस्सा अपनी आजीविका के लिए प्राकृतिक संसाधनों पर निर्भर है."

वर्ष 2014 में शुरुआत के बाद से ही यह परियोजना स्थानीय समुदायों और किसानों के लाभ के लिए पहाड़ी क्षेत्र में फ़सलों की जैव विविधता बढ़ाने का काम कर रही है. इसके नतीजे इस प्रकार हैं:

  • 20 हज़ार परिवारों को बीज, जर्मप्लाज़्म और पहाड़ी फ़सलों के संरक्षण और विकास के बारे में जानकारी दी गई
  • आठ लक्षित फसलों के 300 जर्मप्लाज़्म को खेतों में परीक्षण के लिए योजना स्थल भेजा गया. फिर किसानों के उपयोग के लिए उनमें से 60 से अधिक का चयन किया गया
  • फ़सलों की 500 स्थानीय जीन्स भविष्य में ब्रीडिन्ग के लिए राष्ट्रीय जीन बैंक में संग्रहित किए गए
  • वर्ष 2019 में एक सामुदायिक जैवविविधता ट्रस्ट फ़ंड के ज़रिये 58 किसानों को कम-ब्याज़, संपार्श्विक-मुक्त (collateral-free) ऋण दिया गया. इनमें ज़्यादातर महिलाएं हैं
  • बाजरे के लिए इलैक्ट्रिक थ्रेशर्स के इस्तेमाल ने महिलाओं के शारीरिक श्रम को कम किया और दक्षता बढ़ाने में मदद की.
  • 500 से अधिक घरों में फिंगर मिलेट थ्रेशर वितरित किए गए और स्थानीय समुदायों को आठ बेहतर प्रसंस्करण उपकरण दिए गए
  • 100 से अधिक स्थानीय किसानों की क्षमताओं को मज़बूत किया गया, जिनमें कई महिलाएँ हैं

यह लेख पहले यहाँ प्रकाशित हुआ.

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिये यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एण्ड्रॉयड