अफ़ग़ानिस्तान में 'भयावह' हमलों की कड़ी निंदा, दोषियों को सज़ा की माँग

13 मई 2020

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने अफ़ग़ानिस्तान की राजधानी काबुल के एक अस्पताल में हुए भयावह हमले की कड़े शब्दों में निंदा की है. मंगलवार को दो अलग-अलग हमलों मे कम से कम 38 लोगों की मौत हुई है जिनमें कुछ बच्चे भी हैं. यूएन प्रमुख ने देश में हिंसक घटनाओं में तेज़ी आने पर चिंता जताई है और कहा है कि हालात पर नज़र रखी जा रही है.

 

 

राजधानी काबुल में बन्दूकधारियों ने मंगलवार सुबह एक जच्चा-बच्चा अस्पताल हमला किया जिसमें 14 लोगों की मौत हो गई जिनमें दो नवजात शिशु भी हैं.   

इस हमले से कुछ घंटे पहले ही देश के पूर्वी हिस्से में स्थित नांगरहार में एक अंतिम संस्कार के दौरान आत्मघाती हमले में 24 लोगों की मौत हुई थी और अनेक घायल हुए थे.

महासचिव गुटेरेश ने मृतकों व घायलों के परिजनों, अफ़ग़ान सरकार और जनता के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की है.

उन्होंने दोहराया है कि आम लोगों, अस्पतालों, चिकित्सा केंद्रों और स्वास्थ्यकर्मियों पर हमले अस्वीकार्य हैं और इसके ज़िम्मेदार लोगों की जवाबदेही तय की जानी होगी.  साथ ही अफ़ग़ानिस्तान की जनता और सरकार के साथ एकजुटता ज़ाहिर की है.

अफ़ग़ानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र सहायता मिशन (UNAMA) ने ट्विटर पर अपने संदेश में कहा है कि काबुल के एक जच्चा-बच्चा अस्पताल और नांगरहार में एक अंतिम संस्कार के दौरान हुए हमले से मिशन स्तब्ध है. 

यूएन मिशन ने हताहतों के परिजनों के प्रति गहरी संवेदना जताई है और दोषियों को सज़ा देने का आग्रह किया है.

अफ़ग़ानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र के मानवीय राहत कार्यों के समन्वयक टोबी लान्ज़ेर ने कहा कि साद बिस्तर अस्पताल पर हुए इस हमले से वह आहत हैं. 

इस अस्पताल में मरीज़ों के इलाज के लिए 100 बिस्तरों की व्यवस्था है और हमले के दौरान इसमें बड़ी संख्या में मरीज़ और मेडिकल स्टाफ़ मौजूद था. 

अपने बयान में उन्होंने कहा कि विश्वास करना कठिन है कि यह जघन्य कृत्य ऐसे समय में किया गया जब अफ़ग़ानिस्तान कोविड-19 महामारी से त्रस्त है.

“अस्पतालों में इलाज कराने वाले आम नागरिकों, स्वास्थ्यकर्मियों, चिकित्सा सेवाओं और राहतकर्मियों को अन्तरराष्ट्रीय मानवीय राहत क़ानूनों में संरक्षण प्राप्त है.”

उन्होंने कहा कि इन क़ानून के उल्लंघन के मामलों की जाँच की जानी चाहिए और ज़िम्मेदार लोगों को न्याय के कटघरे में लाना होगा. 

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिए यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एंड्रॉयड

समाचार ट्रैकर: इस मुद्दे पर पिछली कहानियां

अफ़ग़ानिस्तान में यूएन वाहन पर हमले की कड़ी निंदा

अफ़ग़ानिस्तान की राजधानी काबुल में संयुक्त राष्ट्र के एक वाहन पर हमला हुआ है जिसमें एक यूएन कर्मचारी की मौत हो गई है और दो अन्य घायल हुए हैं. संयुक्त राष्ट्र ने इस हमले की कड़ी निंदा करते हुए दोषियों को तत्काल सज़ा दिलाने की मांग की है.

हिंसा और अस्थिरता से जूझते अफ़ग़ानिस्तान की आज़ादी के 100 वर्ष

अफ़ग़ानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र मिशन (UNAMA) के प्रमुख तादामीची यामामोतो ने कहा है कि स्वाधीनता के 100 वर्ष पूरे कर रहे अफ़ग़ानिस्तान के लिए यह एक अहम क्षण है और आने वाले दिनों में चुनावों से शांति स्थापना की दिशा में प्रगति होने की आशा है. लेकिन देश पर हिंसा और अस्थिरता का संकट अब भी मंडरा रहा है और हाल के दिनों में अफ़ग़ानिस्तान में आतंकी हमलों में आम लोगों को निशाना बनाया गया है जिसकी संयुक्त राष्ट्र ने कड़े शब्दों में निंदा की है.