कोविड-19: पृथ्वी के बाशिन्दों को 'नींद से जगा देने वाली अभूतपूर्व घंटी'

22 अप्रैल 2020

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने बुधवार को ‘अंतरराष्ट्रीय पृथ्वी मॉं दिवस’ (International Mother Earth Day) के अवसर पर ध्यान दिलाया है कि विश्वव्यापी महामारी कोविड-19 एक नींद से जगा देने वाली एक अभूतपूर्व घंटी है लेकिन इससे सबक़ लेते हुए ऐसे विकास की दिशा में संसाधन निवेश करने होंगे जिनसे जलवायु परिवर्तन की चुनौती से निपटने में मदद मिले और टिकाऊ विकास का मार्ग प्रशस्त हो. 

यूएन प्रमुख ने माना कि कोरोनावायरस का दुनिया पर भारी और भयावह असर हुआ है. उन्होंने कहा कि लोगों की ज़िंदगियाँ बचाने, पीड़ा कम करने और आर्थिक व सामाजिक नतीजों के दंश को दूर करने के लिए सभी को एकजुट होकर काम करना होगा. 

उन्होंने कहा कि जलवायु व्यवधान उस पड़ाव पर पहुँच रहे हैं जहाँ से वापसी संभव नहीं होगी. विश्वव्यापी महामारी से पहले से ही दुनिया एक आपात स्थिति का सामना कर रही है. 

“ग्रीनहाउस गैसें वायरस की तरह राष्ट्रीय सीमाओं का सम्मान नहीं करती. कोरोनावायरस और अस्तित्व पर जलवायु व्यवधान के ख़तरे - दोनों ही से, अपने ग्रह की रक्षा करने के लिए हमें निर्णायक कार्रवाई करनी होगी.”

उन्होंने कहा कि कोविड-19 की चुनौती से उबरने के लिए इसे एक ऐसे अवसर के रूप में देखने की ज़रूरत है जिससे भविष्य को बेहतर बनाया जा सकता है.

अर्थव्यवस्थाओं को फिर से स्फूर्ति प्रदान करने के लिए बड़ी मात्रा में धन की आवश्यकता है लेकिन उसका निवेश स्वच्छ और हरित विकास में करना होगा और उनसे रोज़गार के नए अवसर पैदा करने होंगे. 

अगर व्यवसायों की मदद के लिए करदाताओं के धन का इस्तेमाल किया जाना है तो इसका इस्तेमाल हरित रोज़गारों और टिकाऊ विकास की शर्त के साथ होना चाहिए.

यूएन प्रमुख ने ज़ोर देकर कहा कि समाजों की सहनशीलता बढ़ाने के लिए यह ज़रूरी है कि वित्तीय संसाधन कोयले से हरित अर्थव्यवस्था की ओर मोड़े जाएँ. 

उन्होंने कहा कि जीवाश्म ईंधनों को दी जाने वाले अनुदान समाप्त करने होंगे, प्रदूषण फैलाने वालों को रक़म अदा करनी होगी और सार्वजनिक कोष का इस्तेमाल टिकाऊ विकास के सैक्टरों में करना होगा जिनसे पर्यावरण और जलवायु परियोजनाओं को आगे बढ़ाना संभव हो.

इसके अलावा वित्तीय प्रणालियों, नीति-निर्माण और बुनियादी ढाँचे को तैयार करते समय जलवायु संबंधी जोखिमों और अवसरों का ध्यान रखा जाना होगा.

ये भी पढ़ें:  जयपुर साहित्य महोत्सव में जलवायु मुद्दा भी चर्चा में

महासचिव गुटेरेश ने कहा कि इन सब लक्ष्यों को पाने के लिए यह ज़रूरी है कि दुनिया एक अंतररष्ट्रीय समुदाय के रूप में साथ मिलकर काम करें. 

“आइए, इस पृथ्वी दिवस पर, हम साथ मिलकर लोगों व ग्रह के लिए एक स्वस्थ और सहनशील भविष्य की मॉंग करें.”

प्रकृति के साथ समरसता

यूएन महासभा के प्रमुख तिजानी मोहम्मद-बांडे ने इस दिवस पर अपने संदेश में प्रकृति के साथ तारतम्यता क़ायम करने पर ज़ोर दिया है ताकि एक न्यायसंगत, टिकाऊ और समृद्ध समाज का निर्माण हो सके. 

उन्होंने कहा कि कोविड-19 के कारण हर एक इंसान के जीवन पर भारी असर हुआ है, अभूतपूर्व चुनौती उत्पन्न हो गई है, और यह समझा जाने लगा है कि एकजुटता की भावना ही रक्षा का सर्वश्रेष्ठ उपाय है. 

उन्होंने स्पष्ट किया कि मानवता-केंद्रित समाज के बजाय पृथ्वी-केंद्रित वैश्विक पारिस्थितिकी तंत्रों के निर्माण के ज़रिए ही मॉं पृथ्वी का संरक्षण सुनिश्चित किया जा सकता है. 

उन्होंने कहा कि पृथ्वी की सुरक्षा सुनिश्चित करने में शिक्षा का अहम योगदान है और कि सभी एक दूसरे को कुछ सिखा सकते हैं व ख़ुद सीख भी सकते हैं. दुनिया एकसाथ मिलकर टिकाऊ विकास की दिशा में प्रकृति के साथ समरसता क़ायम करते हुए आगे बढ़ सकती है.  

यूएन महासभा प्रमुख ने सभी सदस्य देशों से मॉं पृथ्वी की रक्षा करने के लिए अपने संकल्पों को मज़बूत बनाने की पुकार लगाई है, विशेषकर टिकाऊ विकास लक्ष्यों पर आधारित 2030 एजेंडा के लिए. 

संयुक्त राष्ट्र महासभा ने वर्ष 2009 में एक प्रस्ताव पारित किया था जिसके बाद हर साल 22 अप्रैल को यह दिवस मनाया जाता है. 

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिए यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एंड्रॉयड

समाचार ट्रैकर: इस मुद्दे पर पिछली कहानियां

'अगर पृथ्वी को बचाना है तो भूमि को बचाएं, अर्थव्यवस्था में जान फूँकें'

भूमि को बंजर होने से बचाकर उपजाऊ बनाने में ज़्यादा संसाधन निवेश करने से ना सिर्फ़ पृथ्वी ग्रह को स्वस्थ रखने में मदद मिलेगी, बल्कि वर्तमान के कुछ सबसे बड़े मुद्दों का समाधान तलाश करने की भी शुरुआत हो सकती है. दुनिया भर में मरुस्थलीकरण के मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र के संगठन यूएनसीसीडी के कार्यकारी सचिव इब्राहीम चियाओ ने नई दिल्ली से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के ज़रिए पत्रकारों से बातचीत में ये बात कही है. इस विषय पर 14 वां वैश्विक सत्र 2 से 13 सितंबर तक राजधानी दिल्ली में हो रहा है.

 

जलवायु कार्रवाई के पक्ष में 'युवा आवाज़ों ने बंधाई उम्मीद'

जलवायु परिवर्तन पर ठोस कार्रवाई न हो पाने के विरोध में दुनिया भर में शुक्रवार को स्कूली बच्चों ने प्रदर्शन किए. संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि वह विरोध प्रदर्शन कर रहे बच्चों के डर को समझते हैं लेकिन भविष्य के लिए आशावान हैं.