कोविड-19: 'भारत में रोकथाम के लिए उपाय समयोचित'

23 मार्च 2020

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भारत में कोविड-19 संक्रमण के मामलों में बढ़ोत्तरी के बीच कहा है कि देश के अनेक ज़िलों में तालाबंदी करने का फ़ैसला समयोचित है. भारत में कोविड-19 के संक्रमण के लगभग 390 मामलों (349 भारतीय, 41 विदेशी नागरिक) की पुष्टि हुई है और सात लोगों की मौत होने की ख़बर है.  विश्वव्यापी महामारी कोविड-19 की रोकथाम के लिए देश के अनेक राज्यों व केंद्रशासित प्रदेशों में तालाबंदी लागू की गई है.

यूएन स्वास्थ्य एजेंसी (डब्ल्यूएचओ) के भारत में प्रतिनिधि डॉक्टर हैंक बेकेडेम का कहना है, “भारत ने कोविड-19 के ख़िलाफ व्यापक, मज़बूत और समय रहते क़दम उठाए हैं. ख़ुद प्रधानमंत्री की अगुवाई में सरकार का पूरा रुख़ उच्च स्तर पर राजनैतिक प्रतिबद्धता को दर्शाता है.” 

उन्होंने कहा कि निगरानी, टेस्ट क्षमता में बढोत्तरी, मानव संपर्क में कमी और एकांतवास को प्रोत्साहन, जोखिम के बारे में सूचनाओं का संचार और आपातकालीन उपायों सहित रोकथाम और प्रसार की दिशा में व्यापक प्रयास किए गए हैं.

"सामाजिक दूरी बनाए रखने के प्रधानमंत्री की पुकार को पूरे देश में व्यापक समर्थन मिला है. इन क़दमों से संक्रमण के चक्र को तोड़ने में मदद मिलने की उम्मीद जताई गई है.” 

उन्होंने कहा, "विश्व स्वास्थ्य संगठन संयुक्त राष्ट्र के साझीदारों के साथ मिलकर कोविड-19 के लिए तैयारियों और रोकथाम के उपायों पर सरकार के साथ मिलकर काम कर रहा है."

"इनमें रोग निगरानी, संक्रमण रोकथाम के लिए प्रशिक्षण, नियंत्रण और क्लस्टर नियंत्रण व निगरानी योजना के साथ-साथ यात्रियों की भौगोलिक मौजूदगी की स्थिति पर नज़र रखना शामिल है.” 

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों से रविवार, 22 मार्च, को ‘जनता कर्फ्यू’ का पालन करने का आह्वान किया था ताकि कोविड-19 के संक्रमण चक्र को तोड़ा जा सके. 

इसके बाद रविवार शाम को केंद्र और अनेक राज्य सरकारों ने अनेक ज़िलों में तालाबंदी करने की घोषणा की.

मीडिया ख़बरों के अनुसार देश के अनेक इलाक़ों में जनता कर्फ़्यू के दौरान बड़ी संख्या में लोग अपने घरों तक सीमित रहे और सड़कें व बाज़ार सुनसान नज़र आए.

 

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिए यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एंड्रॉयड