पहाड़ों का महत्व, ख़ासकर युवाओं के लिए!

11 दिसम्बर 2019

पृथ्वी के लगभग 27 प्रतिशत हिस्से पर पहाड़ विराजमान हैं और ये भी ध्यान देने की बात है कि ये पहाड़ एक टिकाऊ आर्थिक विकास की तरफ़ दुनिया की बढ़त में बहुत अहम भूमिका निभाते हैं. भविष्य को ध्यान में रखते हुए वर्ष 2019 के अंतरराष्ट्रीय पर्वत दिवस पर युवाओं की भूमिका को रेखांकित किया गया है. बुधवार, 11 दिसंबर को मनाए गए इस दिवस के मौक़े पर इस वर्ष की थीम रखी गई है - Mountains matter for Youth.

संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन (FAO) का कहना है कि दुनिया भर में ये पहाड़ उन  इलाक़ों में रहने वाले लगभग एक अरब 10 करोड़ लोगों की आजीविका चलाने और जीवित रहने के लिए समुचित संसाधन मुहैया कराते हैं. साथ ही पहाड़ मैदानी इलाक़ों में रहने वाले अन्य अरबों लोगों के लिए भी बहुत से फ़ायदे पहुँचाते हैं.

ये पहाड़ ताज़ा पानी, ऊर्जा और भोजन मुहैया कराते हैं, लेकिन ये संसाधन आने वाले दशकों में धीरे-धीरे कम होते जाएंगे.

इस वर्ष विश्व भर की तमाम पहाड़ी चोटियों के आसपास की पारिस्थितिकी व्यवस्था को भावी पीढ़ियों के लिए संरक्षित करने की महत्ता पर ज़ोर दिया गया है.

विश्व पर्वत दिवस पर कहा गया है कि ये एक ऐसा मौक़ा है जब बच्चों को इस बारे में शिक्षित किया जाए कि किस तरह अरबों लोगों के जीवन को चलाने में पहाड़ों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है.

पहाड़ मैदानी इलाक़ों में रहने वाले अरबों लोगों को भी कई तरह के फ़ायदे पहुँचाते हैं. पहाड़ ताज़ा पानी, स्वच्छ ऊर्जा, भोजन और मनोरंजन के साधन मुहैया कराते हैं.

दुनिया भर में पहाड़ी इलाक़ों में रहने वाले समुदायों की युवा आबादी का भविष्य उज्ज्वल बनाने के लिए शिक्षा के प्रसार, प्रशिक्षण, रोज़गार और आधुनिकतम तकनीक मुहैया कराने से बड़ी मदद मिल सकती है.

अवसरों की कमी 

चूँकि पहाड़ी इलाक़ों में रहने वाले युवजन के लिए अवसरों की कमी रहती है, इसलिए अंतरराष्ट्रीय पर्वत दिवस के मौक़े पर हालात बेहतर बनाने की माँग की गई है ताकि पहाड़ी लोगों को बेहतर जीवन और रोज़गार की तलाश में मैदानी इलाक़ों की तरफ़ रुख़ करने से रोका जा सके.

समुचित निवेश के अभाव में अगर खेतीबाड़ी की ज़मीन को ख़ाली छोड़ दिया जाता है तो ज़मीन की उर्वरता कम हो जाती है और उसका क्षरण हो जाता है, साथ ही सांस्कृतिक मूल्य और प्राचीन परंपराएं भी भुला दी जाती हैं.

शिक्षा, प्रशिक्षण, बाज़ारों की उपलब्धता, विविधता भरे रोज़गार अवसर और अच्छी सार्वजनिक सेवाएँ उपलब्ध कराकर पहाड़ी इलाक़ों में रहने वाली युवा पीढ़ी के लिए बेहतर भविष्य सुनिश्चित किया जा सकता है.

कार्रवाई की पुकार

अंतरराष्ट्रीय पर्वत दिवस पर खाद्य व कृषि संगठन ने सुझाव दिया है कि युवजन पहाड़ों के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए यूथ फ़ोरम, छात्रों की डीबेट्स, फ़ोटो और कला प्रतियोगिताएँ आयोजित करें. साथ ही पहाड़ों पर चढ़ाई और आयु के अनुसार अन्य गतिविधियों का भी आयोजन किया जा सकता है.

साथ ही, पहाड़ी जीवन के बारे में सोचने और फ़िक्र करने वाले सभी लोगों को पहाड़ों की उपयोगिता और सततता के बारे में विचार विमर्श में शिरकत करने का आहवान किया गया है.

पहाड़ी इलाक़ों में रहने वाले युवजनों से उनके जीवन की कहानियाँ साझा करने को कहा गया है और अपनी पसंद की तस्वीरें भी यहाँ प्रदर्शित करने को कहा गया है - #MountainsMatter.

विश्व पर्वत दिवस हर साल अरबों लोगों के जीवन में पहाड़ों की महत्ता के बारे में जागरूकता बढ़ाने के इरादे से मनाया जाता है.

साथ ही पहाड़ी इलाक़ों के विकास में आने वाली बाधाओं को उजागर करने और वहाँ रहने वाले लोगों के जीवन और पर्यावरण में सकारात्मक सुधार लाने के वास्ते नई एकजुटता स्थापित करने के लिए प्रोत्साहित करने की कोशिश की जाती है.

क्या आप जानते हैं?

  • आलू, मक्का, टमाटर, सेब, चारा और जौ की फ़सल पहाड़ों में काफ़ी होते हैं.
  •  दुनिया की लगभग आधी से ज़्यादा मानवीय आबादी हर दिन पहाड़ों से आने वाले पानी पर निर्भर है.
  • पारिवारिक खेतीबाड़ी पहाड़ी इलाक़ों की अर्थव्यवस्था की बुनियाद है.
  • विकासशील देशों की लगभग 53 प्रतिशत ग्रामीण पहाड़ी आबादी खाद्य असुरक्षा के कगार पर है.
  • मानवीय आबादी को पनबिजली, सौर ऊर्जा, वायु ऊर्जा और बायोगैस के रूप में नवीकरणीय ऊर्जा मुहैया कराने में पहाड़ महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं.

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लि/s यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एण्ड्रॉयड