इराक़: प्रदर्शनकारियों की लगातार मौतों पर गहरी चिंता

29 नवंबर 2019

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने इराक़ में प्रदर्शनकारियों के ख़िलाफ़ गोली-बारूद इस्तेमाल किए जाने पर गंभीर चिंता जताई है. उन्होंने कहा कि इन कारणों से दक्षिणी शहर नसीरिया में हताहतों की संख्या बढ़ी है.

महासचिव कार्यालय से जारी एक वक्तव्य में कहा गया है, "महासचिव ने इराक़ी अधिकारों से अपना आहवान दोहराते हुए अधिकतम संयम बरतने, प्रदर्शनकारियों की ज़िंदगियों की हिफ़ाज़त करने, अभिव्यक्ति की आज़ादी व सभाएँ करने के अधिकार का सम्मान करने और सभी हिंसक गतिविधियों की तीव्र जाँच कराने का आग्रह किया है."

एंतोनियो गुटेरेश ने इराक़ी अधिकारियों को कूटनीतिक व वाणिज्यिक केंद्रों व कर्मचारियों और सार्वजनिक व निजी संपत्ति की हिफ़ाज़त करने की उनकी ज़िम्मेदारियों की भी याद दिलाई.

संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार उच्चायुक्त कार्यालय के प्रवक्ता ने भी प्रदर्शनकारियों की ज़िंदगियों की हिफ़ाज़त किए जाने की महासचिव की अपील में आवाज़ मिलाते हुए कहा कि अभिव्यक्ति की आज़ादी व सभा करने के अधिकार का सम्मान किए जाने के साथ-साथ हिंसा की जाँच भी कराई जानी चाहिए. 

मानवाधिकार उच्चायुक्त कार्यालय के प्रवक्ता ने शुक्रवार को कहा कि इराक़ में यूएन कार्यालय ने पुष्टि करते हुए बताया है कि नसीरिया में कम से कम 24 लोग मारे गए हैं और 210 से ज़्यादा घायल हो गए हैं.

मानवाधिकार उच्चायुक्त कार्यालय के प्रवक्ता का कहना था कि नजफ़ में भी कुछ लोग हताहत हुए हैं. साथ ही अक्टूबर में हुए इन प्रदर्शनों में अब तक मारे गए लोगों की संख्या 354 हो गई है. 8 हज़ार 104 लोग घायल भी हुए हैं.

प्रवक्ता ने कहा है, "एक बार फिर, हम इराक़ सरकार से आग्रह करते हैं कि इस तरह के ठोस क़दम उठाए जाएँ कि सुरक्षा बलों को अत्यधिक बल प्रयोग ना कर दिया जाए, ख़ासतौर से जानलेवा गोली-बारूद तो बिल्कुल नहीं."

"जब से ये प्रदर्शन शुरू हुए हैं, तभी से इराक़ी सुरक्षा बल जानलेवा गोली-बारूद का इस्तेमाल कर रहे हैं. इन प्रदर्शनों के दौरान हुई ग़ैर-क़ानूनी मौतों की जाँच होनी चाहिए और ज़िम्मेदार लोगों को न्याय के कटघरे में पहुँचाया जाना चाहिए."

इराक़ में संयुक्त राष्ट्र मिशन की अध्यक्ष जीनीन हेनिस प्लेशाएर्ट ने शुक्रवार सुबह को ट्विटर संदेश में कहा था कि देश में हताहतों की इस तरह बढ़ती संख्या को स्वीकार्य नहीं किया जा सकता.

जीनीन हेनिस प्लेशाएर्ट ने कहा, "इराक़ में शांतिपूर्ण प्रदर्शनों को नाकाम करने वाले असमाजिक तत्वों ने देश को ख़तरनाक़ मोड़ पर लाकर खड़ा कर दिया है. "

उन्होंने बताया कि वो इराक़ में ताज़ा घटनाक्रम के बारे में 3 दिसंबर को सुरक्षा परिषद में जानकारी देने के लिए उपस्थित रहेंगी.

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिए यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एंड्रॉयड