नाईजीरिया में संयुक्त राष्ट्र का ख़सरा अभियान

18 नवंबर 2019

नाईजीरिया के उत्तरी हिस्से में विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) और अंतरराष्ट्रीय साझेदारों ने एक टीकाकरण अभियान शुरू किया है जिसके माध्यम से दो करोड़ 80 लाख से अधिक बच्चों को ख़सरा और मैनिनजाइटिस यानी दिमाग़ी बुख़ार से बचाया जाएगा. 16 नवंबर से शुरू हुए इस अभियान को राष्ट्रीय प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल विकास एजेंसी और यूएन स्वास्थ्य एजेंसी ने ‘गैवी, द वैक्सीन एलायंस’ (GAVI) के सहयोग से चलाया है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार टीके की उपलब्धता के बावजूद दुनिया भर में ख़सरे के कारण सबसे ज़्यादा संख्या में बच्चे मौत का शिकार होते हैं. 

इस अभियान में यूएन एजेंसी की टीम का नेतृत्व कर रही डॉक्टर फ़ियोना ब्राका ने बताया, "टीकाकरण ख़सरा की रोकथाम का सबसे प्रभावी उपाय है और विश्व स्वास्थ्य संगठन नाईजीरिया के हर बच्चे तक इसे पहुँचाने में सरकार की मदद करने के लिए संकल्पबद्ध है.

नाईजीरिया सरकार में रोग नियंत्रण और टीकाकरण विभाग के निदेशक डॉक्टर जोसेफ़ ओटेरी ने सरकार की प्रतिबद्धता को रेखांकित करते हुए कहा कि ये अभियान उत्तरी इलाक़े के सभी बच्चों तक पहुंचाया जाएगा.

उन्होंने कहा, "हम बाज़ारों, स्कूलों, चर्चों, मस्जिदों और उन सभी जगहों पर जाएंगे जहां बच्चे होंगे. जब बचाव के लिए टीका उपलब्ध है तो इस बीमारी से एक भी बच्चे की मौत नहीं होनी चाहिए."

हज़ारों स्वास्थ्य कार्यकर्ता जुटे 

इस अभियान के लिए यूएन एजेंसी ने 44 हज़ार से अधिक स्वास्थ्यकर्मियों को प्रशिक्षण दिया है और 17 हज़ार से अधिक टीकाकरण टीमें इस काम को पूरा करने के लिए जुट गई हैं.

सभी स्वास्थ्यकर्मी उत्तरी नाईजीरिया के 19 राज्यों में बच्चों का टीकाकरण करने में मदद करेंगे. 

डॉक्टर ओटेरी ने बताया कि आम तौर पर ख़सरे का टीकाकरण न होने की वजह से हाल के वर्षों में नाईजीरिया को बार-बार ख़सरे का प्रकोप झेलना पड़ा है. 

उन्होंने कहा कि नाईजीरिया सेनेगल से इथियोपिया तक फैले उस क्षेत्र में आता है जिसे मैनिनजाइटिस बेल्ट" के नाम से जाना जाता है.

दुनिया में मैनिनजाइटिस के अधिकांश मामले इसी बेल्ट में देखने को मिलते हैं.

बैक्टीरिया से होने वाला मेनिन्गोकोकल मेनिनजाइटिस एक गंभीर संक्रमण है जो मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी पर असर करता है. इससे होने वाली मौतों की दर काफ़ी ज़्यादा है.

अभियान को चलाने की लागत और ख़सरे व मैनिनजाइटिस के टीकों के लिए गैवी संगठन से वित्तीय सहायता मिल रही है. 

इस संस्था ने अब तक कुल मिलाकर 27 करोड़ 90 लाख अफ़्रीकी बच्चों को मेनिनजाइटिस का टीका लगाकर सुरक्षा प्रदान की है.  

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिये यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एण्ड्रॉयड