टिकाऊ विकास लक्ष्य हासिल करने के लिए नया रोडमैप

26 सितम्बर 2019

यूएन प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने टिकाऊ विकास के लिए वित्तीय संसाधानों का इंतज़ाम करने के लिए न्यूयॉर्क स्थित संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में हो रही बैठक में अपना रोडमैप पेश किया है जिसमें वित्तीय प्रणाली को एसडीजी लक्ष्यों के अनुरूप बनाने और संसाधन जुटाने के लिए देशों को सहायता मुहैया कराने पर  बल दिया गया है. टिकाऊ विकास के 2030 एजेंडा को एक बेहतर, स्वस्थ और न्यायोचित दुनिया के निर्माण का ब्लूप्रिंट कहा गया है.

यूएन प्रमुख ने प्रतिनिधियों को ध्यान दिलाया कि टिकाऊ विकास लक्ष्यों को वास्तविकता में बदलने के लिए पर्याप्त मात्रा में धनराशि नहीं जुटाई जा रही है और बढ़ते क़र्ज़ की वजह से ख़र्च करना सीमित हो रहा है.

वित्तीय बाज़ार अपने कामकाज में टिकाऊ विकास से जुड़ी ज़रूरतों को हिस्सा बना रहे हैं और बैंकिंग संस्थान टिकाऊ ढंग से व्यवसाय चलाने के लिए संकल्प ले रहे हैं जिसका स्वागत किया गया है.

यूएन प्रमुख ने इस रोडमैप को चार मुख्य श्रेणियों में विभाजित किया है:

- अंतरराष्ट्रीय वित्तीय प्रणाली को एसडीजी लक्ष्यों के अनुरूप बनाना

- टिकाऊ रणनीतियों के लिए घरेलू संसाधन जुटाने में देशों को समर्थन प्रदान करना

- वित्तीय सेवाओं में समावेशन सुनिश्चित करना

- अंतरराष्ट्रीय सहयोग बढ़ाना

कथनी को करनी में बदलने का समय

संयुक्त राष्ट्र महासभा के अध्यक्ष तिजानी मोहम्मद-बांडे ने कहा है कि शब्दों को ठोस कार्रवाई में तब्दील करने का समय आ गया है – दुनिया को बदलने का यही एक रास्ता है.

उच्चस्तरीय संवाद के ज़रिए टिकाऊ विकास लक्ष्यों (एसडीजी) के लिए ज़रूरी वित्तीय संसाधानों पर संवाद हो रहा है और प्रगति की समीक्षा की जा रही है. यूएन महासभा अध्यक्ष का कहना है कि एसडीजी पर शिखर वार्ता में विकास लक्ष्यों को पाने में 2.5 ट्रिलियन डॉलर की कमी को एक बड़ी चुनौती के रूप में पहचान गया है.

उन्होंने सभी नेताओं का आह्वान करते हुए कहा कि संकल्पों के प्रति समर्पण बना रहना चाहिए, महत्वाकांक्षाओं के अनुरूप संसाधन जुटाए जाने चाहिए, मदद प्रदान के वादों का सम्मान होना चाहिए और निजी निवेश के ज़रिए नौकरिय पैदा करने और तेज़ आर्थिक वृद्धि पर ज़ोर होना चाहिए.

“टिकाऊ विकास भविष्य के लिए मौजूदा समय में निवेश करना होगा. हमारे पास आगे का एक स्पष्ट रास्ता है और तय समयसीमा है. आइए, हम मिलकर काम करें और सभी के लिए वादे पूरे करने के लिए निडर होकर कार्रवाई करें.”

ज़रूरतों पर आधारित समाधान

माइक्रोसॉफ़्ट कंपनी के संस्थापक और बिल एंड मेलिंडा गेट्स फ़ाउंडेशन के उपप्रमुख बिल गेट्स ने प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए कहा कि टिकाऊ विकास लक्ष्यों के रास्ते पर तेज़ी से आगे बढ़ने के लिए कोई एक अकेला समाधान नहीं है. इसके लिए विशिष्ट ज़रूरतों, भौगोलिक क्षेत्रों और जनसमूहों के अनुरूप लक्षित रणनीतियाँ अपनानी होंगी.

बिल गेट्स ने कहा कि टिकाऊ विकास के लिए ज़रूरी धनराशि का एक तिहाई हिस्सा टैक्स राजस्व के ज़रिए, ख़र्चों में दक्षता लाकर और विदेशी मदद से हासिल किया जा सकता है.

इसके तहत टैक्स नीतियों को प्रगतिशील बनाने, वित्तीय प्रणालियों में भरोसा क़ायम करने और शिक्षा व स्वास्थ्य सेवाओं को सुनिश्चित करने पर बल दिया गया है.

प्रिंस ऑफ़ वेल्स चार्ल्स ने एक वीडियो संदेश के माध्यम से प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए कहा कि पृथ्वी पर जीवन संभव बनाए रखने के लिए टिकाऊ भविष्य की ओर बढ़ना बेहद आवश्यक है.

उनके मुताबिक़ वह नेताओं से सिर्फ़ निवेदन ही कर सकते हैं कि ज़रूरी कार्रवाई की अहमियत को समझते हुए संकल्प लिए जाने चाहिए और दूसरों को भी प्ररित करना चाहिए ताकि एसडीजी और जलवायु कार्रवाई के लिए वित्तीय पोषण हो सके.

उन्होंने कहा कि अभूतपूर्व जलवायु आपात स्थिति को देखते हुए विश्व भर में बड़ी संख्या में युवा थक गए हैं और जल्द कार्रवाई चाहते हैं.

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिए यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एंड्रॉयड