जलवायु कार्रवाई और टिकाऊ विकास पर महत्वांकाक्षी कार्रवाई की पुकार

18 सितम्बर 2019

न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा के वार्षिक सत्र के उच्चस्तरीय खंड की शुरुआत से पहले यूएन प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश कहा है कि सत्र के दौरान होने वाली पांच महत्वपूर्ण बैठकों के ज़रिए सदस्य देश जलवायु संकट और अन्य वैश्विक चुनौतियों का समाधान ढूंढने का प्रयास करेंगे. यूएन प्रमुख के मुताबिक़ इन पांच अहम बैठकों का होना दर्शाता है कि संयुक्त राष्ट्र विश्व में किस तरह एक अर्थपूर्ण और सकारात्मक बदलाव लाने में अग्रणी भूमिका निभा रहा है.

महासचिव एंतोनियो गुटेरेश के अनुसार जलवायु परिवर्तन, बढ़ती असमानता, नफ़रत व असहिष्णुता और शांति व सुरक्षा से जुड़ी चुनौतियां व्यापक हैं और उनसे निपटने में खोने के लिए कोई समय नहीं बचा है.

यूएन प्रमुख ने बुधवार को पत्रकारों के साथ बातचीत में कहा, “नेताओं और संस्थाओं के सामने सबसे बड़ी चुनौती यह दर्शाना है कि वे लोगों की परवाह करते हैं और ऐसे समाधान अपना रहे हैं जिनसे लोगों की बेचैनियों का जवाब ढूंढा जा सके. अगले उच्चस्तरीय सप्ताह में यही करने का प्रयास किया जाएगा.”

“दर्जनों से ज़्यादा शिखर वार्ताएँ, बैठकें और अन्य आयोजन होंगे. लेकिन मैं इन सभी विचार-विमर्शों की अहमियत को दो शब्दों में बयान कर सकता हूं: महत्वाकांक्षा और कार्रवाई. मेरी नज़र में उच्चस्तरीय सप्ताह यह दर्शाने का एक शानदार अवसर है कि संयुक्त राष्ट्र समाधानों के केंद्र में है और लोगों के जीवन में अर्थपूर्ण, सकारात्मक बदलाव लाने की प्रक्रिया को आगे बढ़ा रहा है.”

सोमवार, 23 सितंबर, को जलवायु परिवर्तन शिखर वार्ता के साथ उच्चस्तरीय सप्ताह की शुरुआत हो जाएगी.

यूएन महासचिव ने उम्मीद जताई है कि अगले दशक में नाटकीय ढंग से कार्बन उत्सर्जन की मात्रा कम करने और वर्ष 2050 तक कार्बन न्यूट्रैलिटी (नैट कार्बन उत्सर्जन को शून्य करना) की कई योजनाओं को इस बैठक में पेश किया जाना चाहिए.

उन्होंने भरोसा दिलाया है कि संयुक्त राष्ट्र इस प्रक्रिया में अपनी भूमिका निभा रहा है.

इन्हीं प्रयासों के तहत अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन ने स्पेन और पेरु के साथ मिलकर ‘नौकरियों के लिए जलवायु कार्रवाई’ पहल की घोषणा की है.

अन्य चार बैठकों में सार्वजनिक स्वास्थ्य कवरेज, टिकाऊ विकास लक्ष्यों, विकास के लिए वित्तीय संसाधन जुटाने और लघु द्वीपीय देशों के लिए समर्थन जुटाने पर चर्चा होगी.

यूएन प्रमुख ने वादा किया है कि इन सभी बैठकों के लिए उनका एक ही संदेश है: “लोगों को सर्वोच्च प्राथमिकता रखा जाए - उनकी ज़रूरतों को, उनकी आकांक्षाओं को, उनके अधिकारों को.”

इससे पहले मंगलवार, 17 सितंबर, संयुक्त राष्ट्र महासभा का 74वॉं वार्षिक सत्र शुरू हुआ.

इस सत्र की अध्यक्षता यूएन में नाईजीरिया के पूर्व प्रतिनिधि तिजानी मोहम्मद-बांडे कर रहे हैं जिन्होंने ग़रीबी उन्मूलन, जलवायु कार्रवाई, गुणवत्तापरक शिक्षा और समावेशन को अपनी प्राथमिकताओं में शुमार किया है.

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिये यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एण्ड्रॉयड