'अवसरों और संभावनाओं से भरपूर महाद्वीप है अफ्रीका'

28 अगस्त 2019

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि अफ्रीकी देशों ने पिछले कुछ वर्षों के दौरान विकास प्रयासों में महत्वपूर्ण प्रगति की है और अफ्रीका में हमें अवसरों का एक ऐसा महाद्वीप नज़र आता है जहाँ उम्मीदों की बयार चल रही है जो बहुत सघन है.

महासचिव ने ये बात अफ्रीकी विकास पर बुधवार को जापान के योकोहोमा में सातवें टोकियो अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन (TICAD) का उदघाटन करते हुए कही.

उन्होंने कहा कि इससे पिछला सम्मेलन 2016 में हुआ था तब से अफ्रीका में टिकाऊ विकास, प्रशासन की मज़बूती और लैंगिक समानता को बढ़ावा देने जैसे क्षेत्रों में बढ़त देखी गई है.

उन्होंने कहा कि अफ्रीका महाद्वीप में विकास के प्रयासों में टैक्नोलॉजी भी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाने की संभावनाओं से भरी हुई है.

महासचिव ने कहा, “अफ्रीका में सभी के फ़ायदे और किसी को भी पीछे ना छोड़ देने के सपने को साकार करने में टैक्नोलॉजी और इनोवेशन की केंद्रीय भूमिका है.”

टैक्नोलॉजी और इनोवेशन साल 2019 के अफ्रीका विकास सम्मेलन की थीम भी है.

महासचिव ने कहा कि सम्मेलन के स्तर पर यह आयोजन 26 वर्ष पहले शुरू हुआ था जिसने इतने समय में एक मुक्त, समावेशी और बहुपक्षीय मंच का रूप धारण कर लिया है.

इस सम्मेलन ने अफ्रीका महाद्वीप के लिए अंतरराष्ट्रीय ध्यान आकर्षित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है.

महासचिव ने सम्मेलन में शिरकत करने वाले प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए कहा, “ये सातवां सम्मेलन अफ्रीका महाद्वीप के टिकाऊ विकास में टैक्नोलॉजी और इनोवेशन की क्षमता का इस्तेमाल करने में सहायता के नए आयाम मुहैया करा सकता है.”

उन्होंने आधुनिक उपकरणों और साधनों का अधिकतम इस्तेमाल करने में अंतरराष्ट्रीय सहयोग का आहवान किया.

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख ने डिजिटल दौर में अफ्रीकी देशों के भीतर और अफ्रीकी देशों के साथ होने वाले संचार में मौजूद खाई को पाटने की महत्ता पर ज़ोर दिया.

ये लक्ष्य अफ्रीकी महाद्वीप मुक्त व्यापार समझौता में शामिल है जो 30 मई 2019 को वजूद में आया था.

उन्होंने कहा कि व्यापार को आसान बनाकर कारोबार की लागत को कम किया जा सकता है, अफ्रीका महाद्वीप की प्रतिस्पर्धा क्षमता को बढ़ाया जा सकता है और कुल संभावनाओं में बढ़ोत्तरी की जा सकती है.

इस संदर्भ में उन्होंने कहा कि शिक्षा माहौल को बढ़ावा देने को प्राथमिकता देनी होगी.

महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा कि अफ्रीका में विज्ञान, टैक्नोलॉजी, इंजीनियरिंग और गणित में अगर पर्याप्त निवेश नहीं किया जाता है तो इससे महाद्वीप का विकास प्रभावित हो सकता है और युवाओं को ठोस अवसरों से वंचित होना पड़ सकता है.

महासचिव ने बढ़ती पर्यावरण आपदा का मुक़ाबला करने के लिए भी सामूहिक प्रयासों का आहवान किया.

उन्होंने ध्यान दिलाया कि जलवायु परिवर्तन संकट में अफ्रीका की बहुत कम भूमिका है लेकिन अफ्रीका इसके दुष्परिणामों से सबसे ज़्यादा प्रभावित होने वालों की पहला क़तार में है.

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख ने कहा कि रणनीतिक सहयोग के मामले में अफ्रीका, अफ्रीकी यूनियन और संयुक्त राष्ट्र ने अच्छी प्रगति की है और ये सभी साझीदार मिलकर अफ्रीकी यूनियन के एजेंड़ा 2063 व 2030 के टिकाऊ विकास एजेंडा की तरफ़ आपसी सहयोग और समर्थन के साथ काम कर रहे हैं.

महासचिव ने कहा कि अफ्रीका को अपने विकास के लिए शांति की ज़रूरत है.

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिए यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एंड्रॉयड