यूएन महासचिव ने अफ़्रीकी शांतिरक्षकों का जताया आभार

10 फ़रवरी 2019

अफ़्रीका में शांतिरक्षा अभियानों में समर्थन देने के लिए संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने अफ़्रीकी देशों और अफ़्रीकी संघ आयोग का शुक़्रिया अदा किया है. उन्होंने कहा है कि अफ़्रीकी शांतिरक्षकों की सेवा और उनका बलिदान हमेशा ध्यान रहता है. 

एक दिन पहले ही अबयेई में यूएन मिशन (UNISFA) के अंतर्गत काम कर रहे तीन शांतिरक्षकों की तब मौत हो गई जब उड़ान के समय सैनिकों को ले जा रहा एक हेलीकॉप्टर दुर्घटना का शिकार हो गया. दस अन्य घायल हुए हैं जिनमें तीन की हालत गंभीर बताई जा रही है.

इस दुर्घटना के एक दिन बाद  इथियोपिया की राजधानी आदिस अबाबा में अफ़्रीकी संघ की शिखर वार्ता के दौरान यूएन महासचिव ने अपने संबोधन में यूएन शांतिरक्षकों के त्याग और बलिदान की ओर ध्यान आकृष्ट किया और मुश्किल परिस्थितियों में काम कर रहे  शांतिरक्षकों की प्रशंसा की.  

महासचिव गुटेरेश ने ध्यान दिलाया कि संयुक्त राष्ट्र शांतिरक्षक सैनिकों में लगभग आधे सैनिक अफ़्रीकी देशों से होते हैं. इनमें महिला शांतिरक्षक और अधिकतर यूएन पुलिसकर्मी भी शामिल हैं. सोमालिया में यूएन मिशन, उत्तर अफ़्रीका के साहेल में हिंसक चरमपंथ और आतंकवाद से मुक़ाबला करने वाला जी-5 संयुक्त सेना दल, चाड झील बेसिन में बहुराष्ट्रीय संयुक्त टास्क फ़ोर्स में सुरक्षा सेवाएं देने वाले अफ़्रीकी सैनिकों के त्याग और बलिदान को उन्होंने सम्मानित किया. 

“पूरी तरह प्रभावी होने के लिए अफ़्रीका में शांति अभियानों के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद से अधिकारों और वित्तीय मदद की आवश्यकता होती है. ज़्यादातर मामले अब ऐसे सामने आ रहे हैं जहां रक्षा करने के लिए शांति ही नहीं है.” इसी को ध्यान में रखते हुए उन्होंने अनेक बार शांति कायम करने के लिए और आतंकवाद निरोधक अभियानों के लिए समर्थन व्यक्त किया है. 

इसी के मद्देनज़र 2018 में शांतिरक्षा के लिए कार्रवाई (A4P) पहल को शुरू किया गया जिसमें यूएन मिशनों को ज़्यादा प्रभावी होने और ज़रूरी संसाधन जुटाने में मदद मिलेगी. शांति को टिकाऊ बनाने में महिलाओं की भागीदारी और नेतृत्व की अहम भूमिका को रेखांकित करते हुए उन्होंने मध्यस्थता में अफ़्रीकी महिलाओं के नेटवर्क और अफ़्रीकी महिला लीडर्स नेटवर्क का ज़िक्र किया जो यूएन और अफ़्रीकी संघ के संयुक्त प्रयासों का नतीजा है और शांति अभियानों में  जिसने महत्वपूर्ण योगदान दिया है.

महासचिव ने कहा कि अपने काम के पहले दिन से ही उन्होंने संकल्प लिया था कि संयुक्त राष्ट्र और अफ़्रीका में वे मज़बूत रिश्तों को कायम करेंगे. और ऐसा करने में उन्हें सफलता मिली है. दोनों पक्षों ने हाल के दिनों में शांति, सुरक्षा और टिकाऊ विकास पर सहयोग की रूपरेखा पर हस्ताक्षर किए हैं.