नवीनतम समाचार

OCHA: 2021 में 140 सहायताकर्मियों की मौत, सहायता धन की भारी कमी

संयुक्त राष्ट्र के मानवीय सहायता मामलों की एजेंसी (OCHA) ने शुक्रवार को चेतावनी के अन्दाज़ में कहा है कि मानवीय सहायता अभियानों के लिये इस समय लगभग 34 अरब डॉलर की रक़म की कमी है जोकि मांग व उपलब्धता के बीच अभी तक का सबसे विशाल अन्तर है.

यूएन मानवाधिकार प्रमुख मिशेल बाशेलेट - बांग्लादेश की यात्रा पर

संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार कार्यालय OHCHR ने शुक्रवार को बताया है कि मानवाधिकार उच्चायुक्त मिशेल बाशेलेट, सप्ताहान्त पर बांग्लादेश की यात्रा करेंगी.

अफ़ग़ानिस्तान: 'मानवाधिकारों में सुधार के बिना, भविष्य स्याह'

संयुक्त राष्ट्र के स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञों ने कहा है कि अन्तरराष्ट्रीय समुदाय को अफ़ग़ानिस्तान में सत्ता पर क़ाबिज़ अधिकारियों (तालेबान) को बुनियादी मानवाधिकार सिद्धान्तों का पालन करने का आग्रह करने के लिये अपने प्रयास बहुत तेज़ी से बढ़ाने की दरकार है.

अन्तरराष्ट्रीय युवा दिवस: एक बेहतर दुनिया के लिये, सभी पीढ़ियों को एकजुट होने की दरकार

यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने अन्तरराष्ट्रीय युवा दिवस (12 अगस्त) पर कहा है कि ये दिन पीढ़ियों के बीच साझेदारी की शक्ति का उत्सव मनाने का अवसर है. उन्होंने इस अवसर पर कहा है कि एकजुटता और सहभागिता की आश्यकता, आज पहले से कहीं ज़्यादा है.

IAEA प्रमुख की चेतावनी: यूक्रेन के ज़ैपोरिझझिया परमाणु ऊर्जा संयंत्र में स्थिति 'बेहद ख़तरनाक'

अन्तरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (IAEA)  के महानिदेशक, रफ़ाएल मारियानो ग्रॉसी ने सुरक्षा परिषद को आगाह किया है कि यूक्रेन के ज़ैपोरिझझिया परमाणु ऊर्जा संयंत्र की स्थिति तेज़ी से ख़राब हुई है और अब "बेहद ख़तरनाक" स्तर पर पहुँच गई है.

यूक्रेन: ज़ैपोरिझझिया परमाणु संयंत्र पर सैन्य गतिविधियाँ ख़त्म करने की अपील

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने गुरूवार को कहा है कि यूक्रेन में ज़ैपोरिझझिया परमाणु संयंत्र के आसपास सैन्य गतिविधियाँ तुत्काल बन्द होनी होंगी. उन्होंने उस क्षेत्र में और आसपास जारी गोलाबारी के सम्भावित ख़तरों के बारे में आगाह भी किया है.

अफ़ग़ानिस्तान: मानवीय सहायता से ज़िन्दगियाँ बचीं, मगर विशाल ज़रूरतें बरक़रार

संयुक्त राष्ट्र के मानवीय सहायता कार्यालय (OCHA) ने गुरूवार को कहा है कि अफ़ग़ानिस्तान में पिछले लगभग एक साल के दौरान सहायता में अभूतपूर्व बढ़ोत्तरी के बावजूद, अब भी विशाल ज़रूरतें मौजूद हैं और भविष्य स्याह नज़र आता है.

यूक्रेन: युद्ध के कारण, विकलांगता वाले बच्चे अनुपात से अधिक प्रभावित

संयुक्त राष्ट्र द्वारा नियुक्त चार स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञों ने गुरूवार को कहा है कि यूक्रेन पर रूसी हमले से शुरू हुए युद्ध के कारण उपजे मौजूदा मानवीय संकट से, विकलांगता वाले व्यक्तियों पर अनुपात से अधिक असर पड़ रहा है, विशेष रूप से संस्थानों में मौजूद बच्चों पर.

ILO: कोविड-19 महामारी के प्रभावों से युवा कामगार सर्वाधिक प्रभावित

अन्तरराष्ट्रीय श्रम संगठन (ILO) ने गुरूवार को कहा है कि इस वर्ष रोज़गार व आमदनी वाला कामकाज नहीं पा सकने वाले युवजन की संख्या सात करोड़ 30 लाख तक पहुँचने का अनुमान है, जोकि कोविड-19 से पहले के हालात से पूरे साठ लाख ज़्यादा संख्या है.

संघर्ष प्रभावित बच्चों की शिक्षा के लिये इन्तज़ार नहीं किया जा सकता

आपात स्थिति और लम्बे समय तक चलने वाले संकटों के दौरान, शिक्षा के लिये संयुक्त राष्ट्र कोष, ‘एजुकेशन कैन नॉट वेट (ECW)’ के ज़रिये, इथियोपिया से लेकर चाड और फ़लस्तीन तक, दुनिया भर में संघर्ष से प्रभावित लाखों लड़कों और लड़कियों के सपने पूरे करने में मदद की जा रही है.