महिलाएं

यौन उत्पीड़न: हादसों के अंधेरों से उम्मीद की किरण

संयुक्त राष्ट्र के कर्मचारियों और उनके बैनर तले काम करने वाले लोगों द्वारा यौन शोषण और उत्पीड़न का शिकार हुए लगभग तीन हज़ार 340 महिलाओं, बच्चों और पुरुषों को सहारा और समर्थन देकर उनकी ज़िंदगी फिर से पटरी पर लाने में कामयाबी मिली है. 2016 में गठित किए गए संयुक्त राष्ट्र ट्रस्ट कोष की बदौलत ये संभव हो सका है.

नौनिहालों और माता-पिता को बेहतर माहौल मिलना ज़रूरी

कामकाज और पारिवारिक जीवन के बीच स्वस्थ संतुलन क़ायम करने और दोनों स्थानों पर आनंदपूर्वक जीवन जीने में सहायक नीतियाँ बनाने में अनेक विकसित और धनी देश बहुत पीछे हैं. जबकि स्वीडन, नॉर्वे, आइसलैंड, एस्तोनिया और पुर्तगाल ऐसे देश हैं जहाँ कामकाजी जीवन के साथ परिवारिक जीवन जीने और माता-पिता के लिए छोटे बच्चों के साथ ज़्यादा समय बिताना आसान होता है.

यौन संक्रमण से हर दिन दस लाख लोग प्रभावित

संयुक्त राष्ट्र के स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने कहा है कि दुनिया भर में यौन गतिविधियों से होने वाले संक्रमण के बढ़ते मामले तुरंत चेत जाने की चेतावनी देते हैं.

विशेषज्ञों के अनुसार हर 25 में से एक व्यक्ति ऐसे यौन संक्रमण से प्रभावित है जिसका इलाज संभव है. इसका अर्थ है कि हर लगभग दस लाख लोग यौन संक्रमण का शिकार हो जाते हैं.

भारी-भरकम ख़र्च से जच्चा-बच्चा को है गंभीर ख़तरा

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष – यूनीसेफ़ ने कहा है कि बहुत महंगी स्वास्थ्य सेवाओं और देखभाल की वजह से बहुत सी महिलाओं को बच्चे को जन्म देने से पहले और बाद में अक्सर जच्चा-बच्चा दोनों का ही जीवन ख़तरे में डालना पड़ता है. यूनीसेफ़ ने मंगलवार को एक रिपोर्ट जारी है जिसमें बताया गया है कि बहुत सी गर्भवती महिलाओं को आवश्यकता पड़ने पर ना तो कोई डॉक्टर मिलता है और ना ही कोई नर्स या दाई उपलब्ध होती है.

उच्च पदों पर महिलाओं की भागीदारी से कंपनियों को मुनाफ़ा

शीर्ष पदों की ज़िम्मेदारी महिलाओं को देकर कंपनियां अपने प्रदर्शन में 20 प्रतिशत तक की बेहतरी ला सकती हैं. अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन (ILO) की एक नई रिपोर्ट में यह जानकारी सामने आई है लेकिन रिपोर्ट दर्शाती है कि अधिकांश कंपनियों के बोर्डरूम में लैंगिक समानता के नाम पर अब भी खानापूर्ति ही हो रही है.

लैंगिक समानता पर 'उत्कृष्ट' कार्य के लिए ब्राज़ीलियाई शांतिरक्षक को सम्मान

मध्य अफ़्रीका गणराज्य में लैंगिक मुद्दों पर सलाहकारों और संपर्क बिंदुओं के नेटवर्क को तैयार करने में अहम भूमिका निभाने वालीं ब्राज़ील की एक यूएन शांतिरक्षक को विशेष पुरस्कार के लिए चुना गया है. संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश, नौसेना अधिकारी लेफ़्टिनेंट कमांडर मार्सिया अंड्राजे ब्रागा को 'यूएन मिलिट्री जेंडर एडवोकेट ऑफ़ द इयर' अवॉर्ड से सम्मानित करेंगे.

शांतिरक्षा अभियानों को मज़बूती देती महिलाएं

शांतिरक्षा के प्रयासों में जिस तरह व्‍यापक मानवीय दृष्टिकोण का समावेश बढ़ रहा है, उसमें शांतिरक्षा परिवार में महिलाओं की संख्‍या बढ़ती जा रही है. महिलाओं को पुलिस, सैन्‍य और असैन्‍य सभी क्षेत्रों में तैनात किया जा रहा है जिससे शांति स्‍थापना में महिलाओं की भूमिका को समर्थन देने तथा महिलाओं के अधिकारों के संरक्षण, दोनों पर अनुकूल असर पड़ा है.

'राजनीतिक ताक़त में कमी' झेल रही हैं महिलाएं

संयुक्त राष्ट्र महासभा की अध्यक्ष मारिया फ़र्नान्डा एस्पिनोसा ने कहा है कि दुनिया भर में महिलाओं को मिलने वाली राजनीतिक भागीदारी की प्रक्रिया में प्रगति का चक्र हाल के सालों में पीछे खिसक रहा है. न्यूयॉर्क में  महिलाओं की स्थिति पर आयोग के 63वें सत्र के दौरान सत्ता में महिलाओं की भागीदारी विषय पर चर्चा हुई. 

महिला अधिकारों पर वार्षिक बैठक में बुनियादी सेवाओं पर ज़ोर

लैंगिक समानता और महिला अधिकारों पर चर्चा के नज़रिए से अहम 'कमीशन ऑन द स्टेट्स ऑफ़ वीमेन' का 63वां सत्र न्यूयॉर्क में शुरू हो गया है. पहले दिन हुई चर्चा में महिलाओं और लड़कियों को ज़रूरत पर आधारित और मानवाधिकारों के अनुरूप, मूलभूत सामाजिक सुरक्षा मुहैया कराने की अपील की गई है.

'ऐतिहासिक अन्यायों को चुनौती देनी होगी'

निर्णय लेने वाले पदों पर महिलाओं की संख्या बढ़ाना बेहद ज़रूरी है और सदियों से चले आ रहे अन्यायों को रोकना भी. अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस 2019 के अवसर पर आयोजित एक कार्यक्रम में संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने बताया कि यूएन में वरिष्ठ पदों पर लैंगिक बराबरी हासिल करने में सफलता मिली है.