यूएन मामले

अशांत दुनिया में यूएन पर लोगों की उम्मीदें पूरा करने की ज़िम्मेदारी

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने यूएन महासभा के उच्च स्तरीय सत्र को संबोधित करते हुए कहा है कि हम अशांति से ग्रस्त दुनिया में रह रहे हैं जिसमें मानव मूल्यों पर ख़तरा मंडरा रहा है. उन्होंने विश्व नेताओं का आह्वान किया कि साझा मानवता और मूल्यों को बरक़रार रखते हुए साझा हित आगे बढ़ाए जाने होंगे.

इंटरव्यू: शांति और पृथ्वी की हिफ़ाज़त के लिए ज़रूरी कार्रवाई करने की पुकार

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने विश्व नेताओं से दुनिया के सामने तमाम नाटकीय समस्याओं का समाधान निकालने के लिए आवश्यक कार्रवाई करने का आहवान किया है. महासचिव ने संयुक्त राष्ट्र के 74वें सत्र के शुरू होने के अवसर पर यूएन समाचार के साथ एक ख़ास इंटरव्यू में ये पुकार लगाई है.

संयुक्त राष्ट्र महासभा: इन पांच सम्मेलनों पर रहेगी नज़र

एक बार फिर वही समय आ गया है सितंबर महीने का जब पूरी दुनिया की नज़रें न्यूयॉर्क स्थित संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय पर आकर टिकती हैं. मौक़ा होता है महासभा के वार्षिक सत्र का जिसमें विश्व के नेता जनरल डीबेट में शिरकत करने के लिए मुख्यालय पहुँचते हैं. इस साल परपंरागत रूप में देशों के प्रतिनिधियों के संबोधन के अलावा पाँच अति महत्वपूर्ण सम्मेलन व उच्च स्तरीय बैठकें भी आयोजित हो रहे हैं जिनमें मौजूदा समय के महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा होगी.

जलवायु कार्रवाई और टिकाऊ विकास पर महत्वांकाक्षी कार्रवाई की पुकार

न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा के वार्षिक सत्र के उच्चस्तरीय खंड की शुरुआत से पहले यूएन प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश कहा है कि सत्र के दौरान होने वाली पांच महत्वपूर्ण बैठकों के ज़रिए सदस्य देश जलवायु संकट और अन्य वैश्विक चुनौतियों का समाधान ढूंढने का प्रयास करेंगे. यूएन प्रमुख के मुताबिक़ इन पांच अहम बैठकों का होना दर्शाता है कि संयुक्त राष्ट्र विश्व में किस तरह एक अर्थपूर्ण और सकारात्मक बदलाव लाने में अग्रणी भूमिका निभा रहा है.

संयुक्त राष्ट्र महासभा का 74वाँ वार्षिक सत्र शुरू

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि महासभा के 74वें सत्र के लिए अध्यक्ष तिजानी मोहम्मद-बांडे के पास वर्षों तक यूएन के साथ काम करने का अनुभव है. यूएन महासभा के नए अध्यक्ष ने ग़रीबी उन्मूलन, जलवायु कार्रवाई, गुणवत्तापरक शिक्षा और समावेशन को अपनी प्राथमिकताओं में शुमार करते हुए मंगलवार को परंपरा के अनुरूप हथौड़े की चोट के ज़रिए अपना एक वर्ष का कार्यकाल शुरू किया है.

महासभा अध्यक्ष के अनूठे हथौड़े की अनूठी कहानी

अगर आप संयुक्त राष्ट्र महासभा की कार्यवाही को नज़दीकी से देखते होंगे तो आपने ध्यान दिया होगा कि महासभा के अध्यक्ष कार्यवाही संचालित करने के लिए एक हथौड़े का इस्तेमाल करते हैं. ये आइसलैंड की तरफ़ से एक अनूठा तोहफ़ा है और इसके पीछे एक दिलचस्प कहानी है.

महासभा का 74वां सत्र

संयुक्त राष्ट्र महासभा हर साल वार्षिक सत्र के लिए एकत्र होती है जिसमें देशों के प्रतिनिधि अपनी-अपनी बात बाक़ी प्रतिनिधियों के सामने रखते हैं. हर देश के प्रतिनिधि को बिना किसी बाधा के अपनी बात रखने का मौक़ा मिलता है. यही वो जगह है जहाँ इतिहास बनता है.

‘सैन फ्रांसिस्को की भावना फिर से जगानी होगी'

मानवाधिकारों के लिए फिर से भरोसा जगाना, सामाजिक न्याय को बढ़ावा देना और "युद्ध के संकट" से दुनिया को बचाना – ये सभी संयुक्त राष्ट्र के संस्थापक सिद्धांतों में से हैं जो संगठन की आधारशिला यानी उसके चार्टर में दिखाई देते हैं जिस पर ठीक 74 साल पहले सैन फ्रांसिस्को में हस्ताक्षर किए गए थे.

सुरक्षा परिषद के पाँच नए अस्थाई सदस्य

संयुक्त राष्ट्र महासभा ने शुक्रवार को सुरक्षा परिषद के पाँच नए अस्थाई सदस्यों का चुनाव कर लिया है. इन देशों के नाम हैं – सेंट विंसेंट एंड द ग्रेनैडाइन्स, एस्तोनिया, निजेर, ट्यूनिशिया और वियतनाम. इनमें सेंट विंसेंट एंड द ग्रेनैडाइन्स अभी तक का सबसे छोटा राष्ट्र है जिसे सुरक्षा परिषद की अस्थाई सदस्यता मिली है.

संयुक्त राष्ट्र महासभा के नए अध्यक्ष चुने गए तिजानी मोहम्मद-बांडे

संयुक्त राष्ट्र में नाइजीरिया के स्थाई प्रतिनिधि तिजानी मोहम्मद-बांडे को यूएन महासभा के 74वें सत्र के लिए अध्यक्ष के रूप में चुना गया है. यूएन महासभा के अगले सत्र में वह वर्तमान अध्यक्ष मारिया फ़र्नान्डा एस्पिनोसा का स्थान लेंगे. नवनिर्वाचित अध्यक्ष ने टिकाऊ विकास लक्ष्यों को अपनी प्राथमिकताओं में गिनाया है और कहा है कि विश्व में शांति और सुरक्षा के लिए संयुक्त राष्ट्र आशा का स्रोत है.