यूएन मामले

डिजिटल उपलब्धता को सार्वभौमिक बनाने की ज़रूरत

कोविड-19 महामारी ने दुनिया भर में लोगों के कामकाज करने, एक दूसरे के साथ मिलने-जुलने, स्कूल जाने और ज़रूरी सामान ख़रीदने के लिए दुकानों व स्टोरों पर जाने के तरीक़ों में अभूतपूर्व बदलाव ला दिए हैं, ऐसे में ये बेहद ज़रूरी हो गया है कि दुनिया भर में जो लगभग तीन अरब 60 करोड़ लोग ऑनलाइन सुविधाओं से वंचित हैं, उन्हें भी डिजिटल अभाव के अन्तर से उबारा जाए. 

कोविड-19: 'जब तक सब सुरक्षित नहीं, तब तक कोई भी नहीं'

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि कोविड-19 महामारी पर क़ाबू पाने के लिए “इतिहास के सबसे बड़े सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रयास” की ज़रूरत है. यूएन प्रमुख ने सोमवार को ब्रसेल्स में योरोपीय संघ के एक सम्मेलन को संबोधित करते हुए ये बात कही जिसका आयोजन दान के ज़रिए धन जुटाने का संकल्प व्यक्त करने के लिए किया गया. 

कोविड-19: 'इम्यूनिटी पासपोर्ट' की धारणा अभी सबूत आधारित नहीं

विश्व स्वास्थ्य संगठन चेतावनी देते हुए कहा है कि इन धारणाओं के सही साबित होने के कोई सबूत नहीं हैं कि जो लोग कोविड-19 के संक्रमण से उबर गए हैं और जिनके शरीर में इस वायरस की प्रतिरोधी क्षमता यानी एंटीबॉडीज़ मौजूद हैं, वो इस वायरस के फिर से संक्रमण होने से महफ़ूज़ हैं.

कोविड-19 संकट से अंतरराष्ट्रीय सहयोग के लिए समर्थन बढ़ा

180 से ज़्यादा देशों से मिले ऑंकड़े दर्शाते हैं कि आम जनता में अंतरराष्ट्रीय सहयोग के लिए भारी समर्थन है – विश्व भर में कोविड-19 महामारी फैलने के बाद से इस समर्थन में और ज़्यादा बढ़ोत्तरी हुई है. लोगों की राय उनके साथ संवाद व ऑनलाइन सर्वेक्षण के ज़रिए एकत्र की गई है जो संयुक्त राष्ट्र की स्थापना की 75वीं वर्षगांठ पर शुरू की गई मुहिम (यूएन-75) का हिस्सा है.

यूएन महासभा: कोविड-19 संकट के दौरान भी दुनिया के 'टाउनहॉल' में कामकाज जारी

कोविड-19 से बचाव के लिए जारी स्वास्थ्य दिशानिर्देशों के कारण भले ही ऐसा प्रतीत होता हो कि पूरी दुनिया में तालाबंदी लागू हो गई है, लेकिन न्यूयॉर्क स्थित संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में दुनिया के ‘टाउनहॉल’ यानी यूएन महासभा में कामकाज कुछ बदलावों के साथ निर्बाध रूप से जारी है. यह कहना है संयुक्त राष्ट्र महासभा अध्यक्ष की ‘शैफ़ द कैबिने’ यानी कैबिनेट चीफ़ मारी स्काए का, जिन्होंने यूएन न्यूज़ को बताया कि कोविड-19 के कारण यूएन महासभा के कामकाज और प्रक्रियाओं में किस तरह से बदलाव आए हैं. 

कोविड-19: यूएन ने न्यूयॉर्क सिटी को दिए ढाई लाख फ़ेस मास्क

संयुक्त राष्ट्र ने न्यूयॉर्क सिटी में काम कर रहे स्वास्थ्यकर्मियों को कोविड-19 के संकट का मुक़ाबला करने के प्रयासों के तहत सुरक्षा के लिए ढाई लाख फ़ेस मास्क दान किए हैं.  न्यूयॉर्क सिटी में ही संयुक्त राष्ट्र का मुख्यालय स्थित है. महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने शनिवार को ये घोषणा की और ये फ़ेस मास्क शनिवार को ही न्यूयॉर्क के मेयर को सौंप दिए गए हैं. 

कोविड-19 संकट के बावजूद संयुक्त राष्ट्र का मुख्य कामकाज जारी

संयुक्त राष्ट्र के चार प्रमुख अंगों के अध्यक्षों ने सदस्य देशों को भरोसा दिलाते हुए कह है कि कि कोविड-19 महामारी ने संयुक्त राष्ट्र को भी काम करने के नए तरीक़े अपनाने पर मजबूर कर दिया है, इसके बावजूद दुनिया भर में संगठन के महत्वपूर्ण कार्य बिना रुके जारी हैं. इन अध्यक्षों ने शुक्रवार को ऑनलाइन के ज़रिए सदस्य देशों के प्रतिनिधियों से बातचीत के दौरान ये बात कही.

कोविड-19: वैक्सीन का प्रायोगिक परीक्षण शुरू, एकजुटता की पुकार

संयुक्त राष्ट्र की स्वास्थ्य एजेंसी विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख ने कहा है कि चीन द्वारा कोविड-19 के जैनेटिक चरित्र के बारे में जानकारी साझा करने के 60 दिनों के भीतर इस वायरस के इलाज की वैक्सीन का प्रायोगिक परीक्षण (ट्रायल) शुरू हो गया है. संगठन के महानिदेशक टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने बुधवार को इसे “एक असाधारण उपलब्धि” क़रार देते हुए विश्व भर से उसी तरह की एकजुटता की भावना दिखाने का आग्रह किया जो ईबोला पर क़ाबू पाने में नज़र आई थी.

कोविड-19: यूएन मुख्यालय में ऐहतियाती उपाय, आम लोगों का प्रवेश बंद

कोरोनावायरस कोविड-19 का संक्रमण रोकने के प्रयासों के तहत दुनिया भर में अनेक स्कूल बंद कर दिए गए हैं और बड़ी संख्या में बच्चे स्कूलों से दूर रहे हैं. संयुक्त राष्ट्र शैक्षणिक, वैज्ञानिक और सांस्कृतिक संगठन - यूनेस्को ने मंगलवार को ये जानकारी देते हुए बताया कि दुनिया भर में लगभग 36 करोड़ 30 बच्चों की स्कूली शिक्षा बाधित हुई है.

'पागलपन की आँधी से बढ़ती अस्थिरता के संकेत'

यूएन प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि पूरी दुनिया में बढ़ती अस्थिरता और अनपेक्षित भू-राजनैतिक तनावों ने पागलपन की एक आँधी को जन्म दिया है. उन्होंने न्यूयॉर्क स्थित यूएन मुख्यालय में मंगलवार को पत्रकारों के लिए अपनी मुख्य वार्षिक प्रेस वार्ता के दौरान ये बात कही.