एसडीजी

'विश्व नगरीय मंच' में भविष्य के शहरों पर चर्चा

शहरों के भविष्य पर चर्चा के लिए संयुक्त अरब अमीरात की राजधानी आबू धाबी में शनिवार को ‘विश्व नगरीय मंच’ की शुरुआत हुई है जिसमें टिकाऊ व समावेशी शहरों के निर्माण में युवाओं, महिलाओं, ज़मीनी समुदायों, स्थानीय व क्षेत्रीय सरकारों और व्यवसायों की भूमिका पर विचार-विमर्श होगा. छह दिनों तक चलने वाली यह बैठक पहली बार अरब क्षेत्र में आयोजित की गई है. 

टिकाऊ फ़ैशन है मौजूदा दौर की ज़रूरत

कपड़े बनाने में बहुत सारे रसायनों और पानी का इस्तेमाल होता है जो पर्यावरण के लिए बहुत हानिकारक है. फ़ैशन उद्योग क़रीब 10 फ़ीसदी कार्बन उत्सर्जन के लिए ज़िम्मेदार है. “सस्टेनेबेल फ़ैशन” यानी टिकाऊ फ़ैशन, एक उभरती हुई अवधारणा है जिसके तहत परिधान इस तरह से डिज़ाइन किए जाते हैं ताकि पर्यावरणीय, सामाजिक और आर्थिक हितों का ख़याल रखा जा सके. सस्टेनेबल फ़ैशन डिज़ाइनर रूना रे ‘ग्रीन फ़ैशन’ की एक बड़ी पैरोकार हैं और परिधानों के कार्बन फ़ुटप्रिंट घटाने व टिकाऊ फ़ैशन के लिए अपने अनुभव संयुक्त राष्ट्र में भी साझा कर चुकी हैं. पेश है यूएन हिन्दी न्यूज़ के साथ एक ख़ास बातचीत.

'पागलपन की आँधी से बढ़ती अस्थिरता के संकेत'

यूएन प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि पूरी दुनिया में बढ़ती अस्थिरता और अनपेक्षित भू-राजनैतिक तनावों ने पागलपन की एक आँधी को जन्म दिया है. उन्होंने न्यूयॉर्क स्थित यूएन मुख्यालय में मंगलवार को पत्रकारों के लिए अपनी मुख्य वार्षिक प्रेस वार्ता के दौरान ये बात कही.

कैंसर से एक दशक में 70 लाख जीवन बचाए जा सकेंगे, बशर्ते कि...

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने आगाह किया है कि अगर निम्न व मध्यम आय वाले देशों में कैंसर की रोकथाम और उसके इलाज के लिए और ज़्यादा उपाय नहीं किए गए तो इन देशों में अगले 20 वर्षों के दौरान कैंसर के मामलों में 60 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हो सकती है.

जयपुर साहित्य महोत्सव में जलवायु संकट मुद्दा

भारत में राजस्थान की अनूठी सांस्कृतिक विरासत की पृष्ठभूमि में जयपुर साहित्य महोत्सव का 13वाँ संस्करण 23 से 27 जनवरी के बीच आयोजित हुआ. इस साहित्य महोत्सव में – अनेक साहित्यकारों, पत्रकारों, नोबेल पुरस्कार विजेताओं सहित अनेक अंतरराष्ट्री हस्तियों ने शिरकत की.

यूएन-75 संवाद में सब आमंत्रित

'संयुक्त राष्ट्र 75' संवाद शुरू हो गया है. बुधवार, 29 जनवरी को यूएन मुख्यालय में एक अनोखी महफ़िल जमी जिसमें मुख्य मंच युवाओं के लिए उपलब्ध रहा. यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने भी इस महफ़िल में शिरकत की मगर उन्होंने कहा कि कोई भाषण देने के बजाय, वो यहाँ युवाओं की बात सुनने के लिए आए हैं. इस सभा में युवा प्रतिनिधियों ने भविष्य के लिए अपनी महत्वाकांक्षी रूपरेखा के बारे में बात की जिसमें अंतरराष्ट्रीय सहयोग व सभी की बात को सुना जाना अहम बताया गया.

वैश्विक लक्ष्यों पर प्रगति के लिए नया वित्तीय आयोग

संयुक्त राष्ट्र महासभा के अध्यक्ष तिजानी मोहम्मद-बांडे ने मंगलवार को सदस्य देशों से एक नए  वित्तीय आयोग को समर्थन देने की अपील की है जो वर्ष 2030 तक टिकाऊ विकास लक्ष्यों को वास्तविक बनाने के इरादे से गठित किया गया है.

हरित अर्थव्यवस्था पर सराहनीय कार्य के लिए पवन सुखदेव को 'टायलर सम्मान'

प्रख्यात पर्यावरण अर्थशास्त्री और संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP) के सदभावना दूत पवन सुखदेव को पर्यावरण क्षेत्र में उनकी उपलब्धियों के लिए वर्ष 2020 का 'टायलर सम्मान' देने की घोषणा हुई है. पर्यावरण क्षरण के आर्थिक दुष्परिणामों और हरित अर्थव्यवस्था पर उनके अभूतपूर्व कार्य को पहचानते हुए उन्हें इस पुरस्कार के लिए चुना गया है.

गुणवत्तापूर्ण शिक्षा सुनिश्चित करने के रास्ते में बड़ी चुनौतियां

अंतरराष्ट्रीय शिक्षा दिवस पर संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में आयोजित एक उच्चस्तरीय बैठक में समावेशी और गुणवत्तापरक शिक्षा को टिकाऊ विकास लक्ष्य हासिल करने के रास्ते में एक अहम कड़ी बताया गया है. संयुक्त राष्ट्र महासभा अध्यक्ष तिजानी मोहम्मद-बांडे ने इस दिवस पर अपने संदेश में कहा कि दुनिया भर में शिक्षा क्षेत्र विकराल चुनौतियों से जूझ रहा है.

दो तिहाई आबादी है 'असमान', व्यापक सुधार की ज़रूरत

संयुक्त राष्ट्र की एक ताज़ा रिपोर्ट में कहा गया है कि दुनिया भर की लगभग 70 प्रतिशत जनसंख्या के लिए विषमता बढ़ रही है जिससे समाजों में दरारें पड़ने और आर्थिक व सामाजिक विकास के बाधित होने का जोखिम बढ़ रहा है. मंगलवार को जारी विश्व सामाजिक रिपोर्ट 2020 संयुक्त राष्ट्र के आर्थिक व सामाजिक मामलों के विभाग (डेसा) ने प्रकाशित की है.