एसडीजी

बच्चों का ऐतिहासिक जलवायु मुक़दमा

स्वीडन मूल की युवा जलवायु कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग और एलेक्ज़ेन्ड्रिया विलासेनोर समेत 12 देशों के 16 बच्चों ने जलवायु संकट पर सरकार द्वारा कार्रवाई न होने के विरोध में, संयुक्त राष्ट्र बाल अधिकार समिति के सामने 24 सितंबर को एक ऐतिहासिक आधिकारिक याचिका दायर की है. एक रिपोर्ट...

टिकाऊ विकास लक्ष्य हासिल करने के लिए नया रोडमैप

यूएन प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने टिकाऊ विकास के लिए वित्तीय संसाधानों का इंतज़ाम करने के लिए न्यूयॉर्क स्थित संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में हो रही बैठक में अपना रोडमैप पेश किया है जिसमें वित्तीय प्रणाली को एसडीजी लक्ष्यों के अनुरूप बनाने और संसाधन जुटाने के लिए देशों को सहायता मुहैया कराने पर  बल दिया गया है. टिकाऊ विकास के 2030 एजेंडा को एक बेहतर, स्वस्थ और न्यायोचित दुनिया के निर्माण का ब्लूप्रिंट कहा गया है.

विकास की 'अंतहीन संभावनाओं' को साकार करने के लिए बैठक

टिकाऊ विकास के 2030 एजेंडा पर प्रगति की समीक्षा के लिए बुलाई गई पहली यूएन शिखर वार्ता एक बेहतर भविष्य के निर्माण की उम्मीदों के साथ समाप्त हुई है. संयुक्त राष्ट्र उपमहासचिव आमिना जे. मोहम्मद ने कहा कि यह बैठक फिर से ध्यान दिलाती है कि सर्वजन के जीवन में सुधार लाने के लिए तेज़ कार्रवाई का दायरा व्यापक करने पर सहमति बन रही है जो मानवता की अंतहीन संभावनाओं को दर्शाता है.

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉन्सन की 'विनाशकारी डिजिटल भविष्य' के बारे में चेतावनी

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉन्सन ने मंगलवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा के 74वें सत्र के उच्च स्तरीय खंड को अपना संबोधन मुख्य रूप से आर्टिफ़िशियल इंटैलिजेंस (कृत्रिम बुद्धिमत्ता) के बढ़ते ख़तरों की तरफ़ पर केंद्रित किया. साथ ही उन्होंने ब्रेक्ज़िट का भी संक्षिप्त ज़िक्र किया जिसमें इसकी तुलना ग्रीस की एक पौराणिक कथा के साथ की.  यूरोपीय संघ की सदस्यता समाप्त करके इस ढाँचे से बाहर आने के ब्रिटेन के फ़ैसले को ब्रेक्ज़िट कहा जा रहा है. 

टिकाऊ विकास लक्ष्य हासिल करने के लिए 'तेज़ प्रयासों की ज़रूरत'

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने न्यूयॉर्क में टिकाऊ विकास लक्ष्यों (एसडीजी) पर शिखर वार्ता का उद्घाटन करते हुए कहा है कि टिकाऊ विकास लक्ष्यों के 2030 एजेंडा में जीवन का संचार हो रहा है. ये लक्ष्य एक बेहतर और स्वस्थ विश्व के निर्माण पर केंद्रित हैं. लेकिन यूएन प्रमुख का कहना है कि उत्साहजनक प्रगति के बावजूद अभी बहुत कुछ हासिल किया जाना बाक़ी है और प्रयास तेज़ करने होंगे.

हमें समस्याओं का हल चाहिए, ना कि निराशा

संयुक्त राष्ट्र महासभा के अध्यक्ष तिजानी मोहम्मद - बांडे ने कहा है कि मुख्यालय में एक बार फिर विश्व नेताओं का एकत्र होना इस महान व बहुपक्षीय विश्व संस्था की इस प्रासंगिक हक़ीक़त को दिखाता है.

दीया मिर्ज़ा के साथ ख़ास बातचीत

भारतीय फ़िल्म अभिनेत्री और संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (यूएनईपी) की भारत में सदभावना दूत दीया मिर्ज़ा ने भी न्यूयॉर्क स्थित मुख्यालय में जलवायु कार्रवाई सम्मेलन में शिरकत की. इसी मौक़े पर यूएन समाचार ने उनके साथ ख़ास बातचीत की. रिपोर्टर: महबूब ख़ान / news.un.org/hi

जलवायु परिवर्तन का असर बहुत तेज़ और गहरा - सम्मेलन से पहले विशेषज्ञों की चेतावनी

शीर्ष वैज्ञानिकों ने रविवार को एक रिपोर्ट जारी की है जिसमें कहा गया है कि पिछले कुछ वर्षों के दौरान समद्रों का बढ़ता जल स्तर, गरम होती ज़मीन, सिकुड़ती बर्फ़ चादरें और कार्बन प्रदूषण ने विश्व के राजनैतिक नेताओं से जलवायु कार्रवाई की पुकार को और ज़्यादा ज़ोरदार बना दिया है.

क़रीब पाँच अरब लोग हो जाएंगे स्वास्थ्य केयर से बाहर

संयुक्त राष्ट्र की एक ताज़ा रिपोर्ट में कहा गया है कि देशों ने तमाम इंसानों के लिए स्वास्थ्य सेवाओं की उपलब्धता में अंतर को ख़त्म करने के लिए ठोस प्रयास नहीं किए तो 2030 तक लगभग 5 अरब लोगों को स्वास्थ्य देखभाल मयस्सर नहीं होगी. 

युवाओं का सम्मेलन: वयस्कों पर दबाव डालने का मंच

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश की युवा मामलों पर विशेष दूत जयथमा विक्रमानायके ने कहा है कि ये बहुत अहम है कि दुनिया की लगभग एक अरब 80 करोड़ की युवा आबादी को जलवायु परिवर्तन के ख़िलाफ़ लड़ाई और अंततः पृथ्वी ग्रह का भविष्य तय करने में निर्णायक भूमिका मिले.