एसडीजी

ज़िंदगियां बचाने के लिए वायु प्रदूषण से मुक्ति ज़रूरी

बुधवार को विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर जारी अपने संदेश में संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने वायु प्रदूषण के लगातार बिगड़ते स्तर और जलवायु संकट में संबंध को रेखांकित करते हुए तत्काल कार्रवाई की अपील की है.  इस वर्ष पर्यावरण दिवस पर वायु प्रदूषण के दुष्प्रभावों के बारे में जागरूकता फैलाने और उसकी रोकथाम के प्रयासों को बढ़ावा दिया जा रहा है.  

साइकिलों के सहारे वायु प्रदूषण से निपट रहा है चीन

हाल के दशकों में चीन के कई शहरों में कारों ने यातायात के प्रमुख साधन के रूप में साइकिलों को पीछे छोड़ दिया था लेकिन सड़कों पर साइकिलों की फिर से वापसी हो रही है. उनका इस्तेमाल वायु प्रदूषण की समस्या से निपटने में हो रहा है. साइकिलें पर्यावरण के प्रति अनुकूल और आवाजाही का एक सस्ता और सुलभ साधन है जिसे फिर लोकप्रिय बनाने में डिजिटल तकनीक और 21वीं सदी की सोच से मदद मिली है.

टिकाऊ विकास लक्ष्य-12: टिकाऊ खपत और उत्पादन

टिकाऊ उपभोग और उत्‍पादन का उद्देश्‍य है - कम साधनों से अधिक और बेहतर लाभ उठाना, संसाधनों का उपयोग, विनाश और प्रदूषण कम करके आर्थिक गतिविधियों से जन कल्‍याण के लिए लाभ बढ़ाना और जीवन की गुणवत्‍ता में सुधार करना. टिकाऊ विकास तभी हासिल किया जा सकता है, जब हम न सिर्फ अपनी अर्थव्‍यवस्‍थाओं में वृद्धि होने दें, बल्कि उस प्रक्रिया में बर्बादी को कम से कम होने दें. टिकाऊ विकास एजेंडे के 12वें लक्ष्‍य  के केंद्र में यही विचार है. 

समानता और सशक्तिकरण से आसान होगा टिकाऊ विकास का रास्ता

थाईलैंड की राजधानी बैंकॉक में एशिया-प्रशांत क्षेत्र के लिए संयुक्त राष्ट्र सामाजिक एवं आर्थिक आयोग (UNESCAP) के वार्षिक सत्र की शुरुआत हुई है जहां टिकाऊ विकास के 2030 एजेंडे को पूरा करने के लिए वंचित और हाशिए पर जी रहे समुदायों के सशक्तिकरण पर ज़ोर दिया गया है. टिकाऊ विकास प्रक्रिया में किसी को भी पीछे न छूटने देने के लिए इसे अहम बताया गया है.

जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए जैवविविधता का संरक्षण अहम

संयुक्त राष्ट्र के आंकड़े दर्शाते हैं कि दुनिया भर में फ़सलों की विविधता घट रही है और लोगों का खाना एक जैसा होता जा रहा है जो बड़ी चिंता का कारण है. यह चेतावनी बुधवार को अंतरराष्ट्रीय जैवविविधता दिवस पर जारी की गई है जिसके ज़रिए पर्यावरण की उपेक्षा से खाद्य सुरक्षा और सार्वजनिक स्वास्थ्य पर पड़ने वाले प्रभाव के बारे में जागरूकता फैलाई जा रही है.

मानवीय गतिविधियों के चलते मधुमक्खियों की संख्या में गिरावट

सदियों से मधुमक्खियों सहित अन्य परागणकारी जीव कृषि उत्पादन और जैवविविधता में बहुमूल्य योगदान देते आए हैं और दुनिया में तीन चौधाई से ज़्यादा फ़सलों का परागण करते हैं. लेकिन उनकी संख्या में लगातार कमी आने से वैश्विक खाद्य सुरक्षा के सामने एक बड़ा ख़तरा पैदा हो रहा है. विश्व मधुमक्खी दिवस पर परागणकारी जीवों की अहम भूमिका के प्रति जागरूकता फैलाने का  प्रयास किया जा रहा है.

टिकाऊ विकास एजेंडे को गति देंगे छह नए पैरोकार

टिकाऊ विकास से जुड़े 2030 एजेंडा के महत्वाकांक्षी लक्ष्यों को हासिल करने के लिए संयुक्त राष्ट्र और साझेदार संगठन दुनिया भर में व्यापक पैमाने पर प्रयास कर रहे हैं. इसी कड़ी में छह नई हस्तियों को टिकाऊ विकास लक्ष्यों के पैरोकारों के तौर पर चुना गया है जिनमें भारतीय अभिनेत्री दिया मिर्ज़ा भी शामिल हैं.

निकट पूर्व और उत्तर अफ़्रीका में पांच करोड़ लोग भूख से पीड़ित

भूख और हिंसा के बीच संबंध को रेखांकित करती एक नई संयुक्त राष्ट्र रिपोर्ट के अनुसार निकट पूर्व और उत्तर अफ़्रीका के देशों में भुखमरी लगातार बढ़ रही है. ऐसा हिंसा प्रभावित और लंबे समय से संकटग्रस्त देशों में हो रहा है जिसका आने वाले कई सालों तक खाद्य सुरक्षा पर असर बने रहने की आशंका है.

जैवविविधता ख़तरे में, 10 लाख प्रजातियां विलुप्ति के कगार पर

मानवीय गतिविधियों से प्रकृति को होने वाली हानि पर अहम जानकारी देती एक नई संयुक्त राष्ट्र रिपोर्ट दर्शाती है कि कुछ ही दशकों में दस लाख से ज़्यादा प्रजातियां विलुप्त होने की आशंका है. संयुक्त राष्ट्र जैवविविधता विशेषज्ञों का कहना है कि तत्काल और प्रभावी कदमों के अभाव में पृथ्वी पर प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण के प्रयास विफल होने की आशंका है.

टिकाऊ विकास लक्ष्य-16: शांति, न्याय और सशक्त संस्थाएं

विकास, आर्थिक वृद्धि, ख़ुशहाली और अस्तित्व के लिए हिंसा सबसे बड़ी और विनाशकारी चुनौती है.  टिकाऊ विकास एजेंडा के किसी भी पहलू को साकार करना तभी संभव होगा जब आम लोगों को सुरक्षा मिले और उनके मानवाधिकारों को सुनिश्चित किया जाए.  2030 एजेंडा का 16वां लक्ष्य शांतिपूर्ण और समावेशी समाजों के निर्माण और सभी स्तरों पर जवाबदेह संस्थाओं की स्थापना को समर्पित है.